14 अगस्त को मनाया जाएगा ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस,’ पीएम नरेंद्र मोदी बोले- 'बंटवारे का दर्द कभी भुलाया नहीं जा सकता'

बड़ी खबरः 14 अगस्त को मनाया जाएगा ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस,’ पीएम नरेंद्र मोदी बोले- 'बंटवारे का दर्द कभी भुलाया नहीं जा सकता'

14 अगस्त को मनाया जाएगा ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस,’ पीएम नरेंद्र मोदी बोले- 'बंटवारे का दर्द कभी भुलाया नहीं जा सकता'

Google Image | पीएम नरेंद्र मोदी बोले- 'बंटवारे का दर्द कभी भुलाया नहीं जा सकता'

14 अगस्त को मनाया जाएगा ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस,’ पीएम नरेंद्र मोदी बोले- 'बंटवारे का दर्द कभी भुलाया नहीं जा सकता'
  • हर साल 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा
  • इस साल 15 अगस्त को भारत की आजादी के 75 साल पूरे होंगे
  • साल 1947 में भारत-पाकिस्तान बंटवारे के दौरान करोड़ों लोगों को विस्थापित होना पड़ा
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता
New Delhi: देश में हर साल 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। गृह विभाग के ज्वाइंट सेक्रेटरी राकेश कुमार सिंह ने आज जारी एक अधिसूचना में कहा है, भारत सरकार ने 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला लिया है। इसका मकसद वर्तमान और आगामी पीढ़ियों को बंटवारे के दौरान देश के लोगों को हुई असहनीय पीड़ा और तकलीफें याद दिलाना है। 

75वीं वर्षगांठ मना रहा देश
दरअसल इस साल 15 अगस्त को भारत की आजादी के 75 साल पूरे होंगे। इस मौके पर आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम किया जा रहा है। इसमें मां भारती के उन सपूतों को याद किया जा रहा है, जिन्होंने अपनी मातृभूमि की स्वतंत्रता के लिए जान की बाजी लगा दी। पूरे देश में इस कार्यक्रम के जरिए वीर स्वतंत्रता सेनानियों को याद किया जा रहा है। 75वीं वर्षगांठ पर कल पूरे देश में कार्यक्रमों के आयोजन निर्धारित है। सभी राज्य सरकारें और भारत सरकार इनमें सक्रिय भागीदारी निभा रही हैं। 

लाखों लोगों की गई जान
मगर बंटवारे के 75 साल बाद अब भारत सरकार ने देश की वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों को बंटवारे की भयावहता से परिचित कराएगी। दरअसल साल 1947 में भारत-पाकिस्तान बंटवारे के दौरान करोड़ों लोगों को विस्थापित होना पड़ा। लाखों लोगों को जिंदगियों से हाथ धोना पड़ा। दोनों तरफ विस्थापित परिवार और काल के गाल में समा चुके लोगों के परिजन अब तक उन हादसों को याद कर गमगीन रहते हैं।

दर्द कभी भुलाया नहीं जा सकता
इस बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता। नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों बहनों और भाइयों को विस्थापित होना पड़ा और अपनी जान तक गंवानी पड़ी। उन लोगों के संघर्ष और बलिदान की याद में 14 अगस्त को 'विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस' के तौर पर मनाने का निर्णय लिया गया है। यह दिन हमें भेदभाव, वैमनस्य और दुर्भावना के जहर को खत्म करने के लिए न केवल प्रेरित करेगा, बल्कि इससे एकता, सामाजिक सद्भाव और मानवीय संवेदनाएं भी मजबूत होंगी।

गृहमंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय अध्यक्ष ने दिया धन्यवाद
गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, देश के विभाजन के समय हिंसा व घृणा के साये में विस्थापित हुए हमारे असंख्य बहनों व भाइयों के त्याग, संघर्ष व बलिदान की याद में मोदीजी ने 14 अगस्त को 'विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस' के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। इस संवेदनशील निर्णय पर मैं नरेंद्र मोदी जी का अभिनंदन करता हूँ। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी पीएम नरेंद्र मोदी का धन्यवाद देते हुए कहा, विभाजन के दंश से प्रभावित लोगों के संघर्ष व बलिदान की स्मृति में आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 14 अगस्त को “विभाजन स्मृति दिवस” के रूप में मनाने का ऐतिहासिक निर्णय लेने के लिए ह्रदय से धन्यवाद है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.