आज से दस आईपीएस संभालेंगे नोएडा-ग्रेनो की कमान

Updated Jan 14, 2020 08:21:59 IST | Tricity Today Chief Correspondent

उत्तर प्रदेश सरकार ने सूबे के दो शहरों लखनऊ और नोएडा में पूरा पुलिस सिस्टम बदल दिया है। अब नोएडा में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू किया गया है। नए फैसले के बाद अपर पुलिस महानिदेशक आलोक सिंह को नोएडा का कमिश्नर...

Photo Credit:  Tricity Today
10 IPS

Noida/Greater Noida: उत्तर प्रदेश सरकार ने सूबे के दो शहरों लखनऊ और नोएडा में पूरा पुलिस सिस्टम बदल दिया है। अब नोएडा में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू किया गया है। नए फैसले के बाद अपर पुलिस महानिदेशक आलोक सिंह को नोएडा का कमिश्नर नियुक्त किया गया है। उनके साथ श्रीपर्णा गांगुली और अखिलेश कुमार एडिशनल पुलिस कमिश्नर नियुक्त किए गए हैं। नोएडा और ग्रेटर नोएडा में सात डीसीपी की नियुक्ति की गई है।

आलोक सिंह, पुलिस आयुक्त
आलोक सिंह मूल रूप से अलीगढ़ के निवासी हैं। भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) में 1995 बैच के अफसर हैं और अभी मेरठ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक हैं। आलोक सिंह की गिनती प्रदेश के अच्छे पुलिस अफसरों में होती है। वह एक डेकोरेटिड अधिकारी हैं।

जन्म : 24 जनवरी 1967
जन्म स्थान : अलीगढ़, उत्तर प्रदेश
शैक्षणिक योग्यता : बीएससी (विज्ञान, गणित और भौतिकी), एमए (अर्थशास्त्र), एमबीए (विपणन, वित्त)
यूपी पुलिस में वर्तमान रैंक : एडीजी
वर्तमान पोस्ट : एडीजी मेरठ जोन

आलोक सिंह 09 नवंबर 2010 को डीआईजी पदोन्नत हुए। 17 जनवरी 2014 को आईजी और 12 दिन पहले 01 जनवरी 2020 को एडीजी बने हैं। आलोक सिंह को पुलिस वीरता मेडल 17 नवंबर 2003 को दिया गया था। इसके बाद 26 जनवरी 2012 को राष्ट्रपति पदक, 17 अगस्त 2017 को डीजीपी की सिल्वर कमेंडेशन डिस्क और 15 अगस्त 2019 को डीजीपी की गोल्ड कमेंडेशन डिस्क दी जा चुकी हैं।

श्रीपर्णा गांगुली, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (क्राइम एंड हेडक्वार्टर)
श्रीपर्णा गांगुली मूल रूप से लखनऊ की रहने वाली हैं। वर्ष 2004 की भारतीय पुलिस सेवा की अधिकारी हैं। अभी लखनऊ में बतौर पुलिस उप महानिरीक्षक (कारागार प्रशासन एवं सुधार) तैनात हैं। श्रीपर्णा गांगुली को यूपी की तेज तर्रार पुलिस अधिकारी के रूप में देखा जाता है। वह कई बड़े और महत्वपूर्ण मामलों की जांच अधिकारी रही हैं। पूर्व में गौतमबुद्ध नगर की एसपी देहात रह चुकी हैं।

जन्म : 29 अप्रैल 1961
जन्म स्थान : लखनऊ, उत्तर प्रदेश
शैक्षणिक योग्यता : मास्टर ऑफ आर्टस
यूपी पुलिस में वर्तमान रैंक : डीआईजी
वर्तमान पोस्ट : डीआईजी, लखनऊ

श्रीपर्णा गांगुली बलिया की एसपी थीं और 01 जनवरी 2019 को डीआईजी के रूप पदोन्नत हुई थीं। वह एक शानदार अधिकारी हैं और कई डेकोरेशन हासिल कर चुकी हैं। श्रीपर्णा गांगुली को 15 अगस्त 2011 को प्रेसीडेंट मेडल, 26 जनवरी 2016 को डीजीपी की सिल्वर कमेंडेशन डिस्क, 26 जनवरी 2018 को डीजीपी की गोल्ड कमेंडेशन डिस्क, 15 अगस्त 2018 को डीजीपी की गोल्ड कमेंडेशन डिस्क और 15 अगस्त 2019 को डीजीपी की प्लेटिनम कमेंडेशन डिस्क दी जा चुकी हैं।

अखिलेश कुमार, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (लॉ एंड ऑर्डर)
अखिलेश कुमार मूल रूप से भरतपुर (राजस्थान) के निवासी हैं। वर्ष 2005 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी हैं। अभी लखनऊ पीएसी मुख्यालय में बतौर पुलिस उप महानिरीक्षक तैनात हैं। अखिलेश कुमार को यूपी के अच्छे पुलिस अधिकारी के रूप में देखा जाता है। वह करीब 10 जिलों में अब तक अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

जन्म : 20 जुलाई 1975
जन्म स्थान : भरतपुर, राजस्थान
शैक्षणिक योग्यता : बीटेक, सिविल इंजीनियर
यूपी पुलिस में वर्तमान रैंक : डीआईजी
वर्तमान पोस्ट : डीआईजी, पीएसी मुख्यालय

अखिलेश कुमार 01 जनवरी 2019 को डीआईजी के रूप पदोन्नत हुए हैं। वह एक शानदार अधिकारी हैं और कई डेकोरेशन हासिल कर चुके हैं। 15 अगस्त 2019 को डीजीपी की सिल्वर कमेंडेशन डिस्क दी जा चुकी हैं।

ये हैं सात डीसीपी

नितिन तिवारी, डीसीपी
नितिन तिवारी डीसीपी नोएडा बनाए गए हैं। नितिन तिवारी 2007 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। अभी मेरठ में पीएसी के कमांडेंट हैं। मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर के निवासी हैं। बीटेक उनकी शैक्षिक योग्यता है।

हरीश चंद्र, डीसीपी
दूसरे डीसीपी हरीश चंद्र हैं। वह दिल्ली के निवासी हैं। 2010 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। अभी लखनऊ में विशेष जांच प्रकोष्ठ के पुलिस अधीक्षक थे। राजनीतिक शास्त्र में एमए हैं।

वृंदा शुक्ला, डीसीपी
वृंदा शुक्ला को भी डीसीपी बनाकर भेजा गया है। वृंदा मूल रूप से पंचकूला हरियाणा की रहने वाली हैं। वर्ष 2014 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। वह इकोनोमिक्स, इंटरनेशनल स्टडीज और फ्रेंच लिटरेचर में बीए हैं। अभी पुलिस महानिदेशक के कार्यालय में कार्यरत हैं।

संकल्प शर्मा, डीसीपी
संकल्प शर्मा को भी डीसीपी बनाया गया है। संकल्प जयपुर राजस्थान के रहने वाले हैं। वह 2012 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी हैं। हाइड्रोकार्बन इंजीनियरिंग में एमटेक हैं। वह अभी लखनऊ में एसपी सिक्योरिटी के रूप में काम कर रहे हैं।

डा.मीनाक्षी कात्यायान, डीसीपी
डा.मीनाक्षी कात्यान को डीसीपी बनाकर नोएडा भेजा गया है। मीनाक्षी डॉक्टर हैं। वह एमबीबीएस हैं। मूल रूप से झारखंड की रहने वाली हैं। अभी सुल्तानपुर की एसपी हैं। मीनाक्षी वर्ष 2914 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं।

राजेश एस, डीसीपी
वर्ष 2011 बैच के आईपीएस राजेश एस भी डीसीपी बनाकर भेजे गए हैं। वह तमिलनाडु में थूथूकुडी के निवासी हैं। अभी लखनऊ में एसपी सिक्योरिटी और ट्रैनिग हैं।

राजेश कुमार सिंह, डीसीपी
यूपी प्रदेशिक पुलिस सेवा से पदोन्नत आईपीएस राजेश कुमार सिंह को भी डीसीपी बनाकर भेजा गया है। वह बलिया जिले के निवासी हैं। अभी मेरठ में 44वीं वाहिनी पीएसी के सेना नायक हैं।