प्रियंका गांधी गिरफ्तार

Updated Dec 29, 2019 04:41:02 IST | Tricity Today Correspondent

प्रियंका ने बात करते हुए कहा कि वह शांतिपूर्ण तरीके से पीड़ितों से मिलना चाहती हैं और वह पीछे नहीं हटेगीं। धरने पर बैठीं प्रियंका गांधी को नारायणपुर में पुलिस अपने साथ ले गई। सोनभद्र के लिए रवाना होने से पहले प्रियंका गांधी वाड्रा वाराणसी पहुंची थीं। यहां वह अस्पताल गईं और सोनभद्र की घटना में घायल हुए लोगों से मुलाकात की।

Photo Credit: 

 

UP: शुक्रवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी सोनभद्र हत्याकांड मामले में पीडिता लोगों से मिलने जा रही थी। लेकिन मिर्जापुर में ही उनके काफिले को रोक लिया था। जिसके बाद प्रियंका गांधी और उनके सर्मथक रास्तें में ही बैठ गयें, इस बात पर पुलिस ने प्रियंका गांधी को हिरासत में ले लिया।

सोनभद्र में पीडित परिवार से ना मिलने पर प्रियंका गांधी ने पुलिस और प्रशासन से कहा कि, हम बस पीड़ित परिवार से मिलना चाहते हैं, मेरे साथ सिर्फ 4 लोग होंगे। फिर भी प्रशासन हमें वहां जाने नहीं दे रहा है, उन्हें हमें बताना चाहिए कि हमें क्यों रोका जा रहा है।
 
प्रियंका गांधी को चुनार गेस्ट हाउस ले गयें
प्रियंका गांधी को एसडीएम की गाड़ी में चुनार गेस्ट हाउस ले जाया गया। सोनभद्र जाने पर अड़ीं प्रियंका गांधी ने पुलिस के पास रोके जाने का ऑर्डर नहीं होने की दलील दी। प्रियंका गांधी को मिर्जापुर के करीब नारायणपुर में रोका गया तो वह सड़क पर ही धरने पर बैठ गई थीं। प्रियंका गांधी ने सवाल किया कि मुझे किस आदेश के तहत रोका गया।

प्रियंका ने बात करते हुए कहा कि वह शांतिपूर्ण तरीके से पीड़ितों से मिलना चाहती हैं और वह पीछे नहीं हटेगीं। धरने पर बैठीं प्रियंका गांधी को नारायणपुर में पुलिस अपने साथ ले गई। सोनभद्र के लिए रवाना होने से पहले प्रियंका गांधी वाड्रा वाराणसी पहुंची थीं। यहां वह अस्पताल गईं और सोनभद्र की घटना में घायल हुए लोगों से मुलाकात की।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले पर बोलते हुए कहा, अब तक 29 अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके अलावा एक सिंगल बैरल बंदूक, दो डबल बैरल बंदूक और एक राइफल को जब्त कर लिया गया है। जो इस घटना के लिए जिम्मेदार पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सीएम योगी ने कहा, इस घटना की नींव साल 1955 में पड़ गई थी, जब तत्कालीन तहसीलदार ने आदर्श सहकारी समिति के नाम पर ग्राम समाज की जमीन को पंजीकृत करने का गैरकानूनी काम किया था।

आपको बता दें उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के मूर्तिया गांव में जमीन विवाद को लेकर बुधवार 17 जुलाई को हुई फायरिंग में 10 लोगों की हत्या और 28 लोग घायल भी हो गए थे। फायरिंग के बाद धारा 144 लागू की गई हैं।

Priyanka Gandhi, Congress Party, Yogi Adityanath CM, CMO, Rahul Gandhi, Mirjapur Police, Mirjapur SDM, Mirjapur Death Story