जेवर एयरपोर्ट बनाना चाहती हैं दुनिया की ये बड़ी कंपनियां

Updated Dec 29, 2019 04:41:02 IST | TriCity Today Reporter

जेवर में बनने वाले देश के सबसे बड़े हवाई अड्डे को लेकर देश ही नहीं दुनिया की नामचीन कंपनियां आगे आई हैं। अब तक नौ कंपनियों के नाम साफ हो चुके हैं। इनमें से दो कंपनियां विदेशी हैं। सात कंपनियां में से कई देश के प्रमुख हवाई अड्डों को चला रही है।

जेवर एयरपोर्ट बनाना चाहती हैं दुनिया की ये बड़ी कंपनियां
Photo Credit: 

NEW DELHI। जेवर में बनने वाले देश के सबसे बड़े हवाई अड्डे को लेकर देश ही नहीं दुनिया की नामचीन कंपनियां आगे आई हैं। अब तक नौ कंपनियों के नाम साफ हो चुके हैं। इनमें से दो कंपनियां विदेशी हैं। सात कंपनियां में से कई देश के प्रमुख हवाई अड्डों को चला रही है।

इन बड़ी कंपनियों की दिलचस्पी
प्रोजेक्ट को हासिल करने के लिए बड़ी-बड़ी कंपनियां लाइन में हैं। अब तक दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट का संचालन करने वाली जीएमआर इंफ्रा, राजकोट गुजरात के ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट का ठेका हासिल करने वाली कंपनी  रिलायंस इंफ्रा बोली लगाएंगी। इसके अलावा देश में निजी क्षेत्र की बड़ी इफ्रास्ट्रक्चर कंपनी लारसन एंड टूब्रो, मुंबई, नवी मुंबई और इंडोनेशिया में एयरपोर्ट का संचालन कर रहा जीवीके ग्रुप, बंगलूरू एयरपोर्ट का संचालन कर रही कंपनी फेयरफैक्स इंडिया ने भी बिड डॉक्यमेंट खरीदा है।

दो सरकारी कंपनियां भी मैदान में उतरीं
वर्ष 2015 में स्थापित भारत सरकार का वेंचर नेशनल इनवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड और भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण भी जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने के इच्छुक हैं। इनके अलावा लखनऊ और कानपुर हवाई अड्डों पर काम कर रही कंपनी पीएनसी इंफ्राटेक ने बिड डॉक्यूमेंट खरीदा है। अगर विदेशी कंपनियों की बात करें तो ज्यूरिख अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा संचालित करने वाली कंपनी और हांगकांग एडीपी ने बोली लगाने की इच्छा जाहिर की है।

अगले पांच साल में देश का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट
दुनियाभर की कंपनियां इस परियोजना को हासिल करना चाहती हैं। दरअसल, यह प्रोजेक्ट करीब 16,000 करोड़ रुपये का है। इससे हासिल करने वाली कंपनी को कम से कम 90 वर्ष तक एयरपोर्ट के संचालन का अधिकार दिया जाएगा। अगले पांच वर्षों के दौरान यह एयरपोर्ट देश के सबसे बड़े प्रोजेक्ट में एक होगा। इसे हासिल करने वाली कंपनी एवीएशन इंडस्ट्री में शीर्ष स्थान हासिल करेगी।

पीपीपी मॉडल पर बनेगा एयरपोर्ट
प्रदेश सरकार इस हवाई अड्डे को पीपीपी मॉडल पर तैयार करेगी। एनआईएएल ने कहा, जो भी कंपनी निविदा हासिल करेगी, उसको 90 साल के लिए छूट दी जाएगी। वो कंपनी ही हवाई अड्डे का विकास, ऑपरेशन और मेंटिनेंस करेगी। इसके साथ ही उसी कंपनी को पार्किंग एरिया और रिटेल एरिया को विकसित करने का अधिकार मिलेगा।

जनवरी 2020 से शुरू होगा निर्माण
जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण जनवरी 2020 से शुरू होगा। पहले चरण में 1,334 हेक्टेयर जमीन पर निर्माण किया जाएगा। हवाई अड्डे के शुरू होने के बाद प्रत्येक वर्ष इसकी क्षमता 1.20 करोड़ यात्रियों को ढोने की होगी।

Jewar International airport, NIAAL, Noida International airport, Reliance Infra, GMR Infra, GVK Group, NIIF

Most Viewed

यमुना सिटी
बड़ी खबर: जेवर एयरपोर्ट की जमीन से गुजरने वाली 4 नहरों की शिफ्टिंग शुरू, पढ़िए पूरी खबर
बड़ी खबर: जेवर एयरपोर्ट की जमीन से गुजरने वाली 4 नहरों की शिफ्टिंग शुरू, पढ़िए पूरी खबर
ग्रेटर नोएडा वेस्ट
Greater Noida West BIG BREAKING: सोसाइटी में घुसकर प्रॉपर्टी डीलर को गोलियों से भूना, मौके पर ही मौत, साथी गंभीर रूप से घायल
Greater Noida West BIG BREAKING: सोसाइटी में घुसकर प्रॉपर्टी डीलर को गोलियों से भूना, मौके पर ही मौत, साथी गंभीर रूप से घायल
ग्रेटर नोएडा वेस्ट
गौर सिटी में बिल्डर का हैरान करने वाला कारनामा, विकास प्राधिकरण ने भेजा नोटिस
गौर सिटी में बिल्डर का हैरान करने वाला कारनामा, विकास प्राधिकरण ने भेजा नोटिस
ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा: शेर सिंह भाटी हत्याकांड ने तूल पकड़ा, शुक्रवार को दादरी में महापंचायत, भाजपा नेता ने कहा- अख़लाक़ के लिए रोने वालों ये हमारा भाई है
ग्रेटर नोएडा: शेर सिंह भाटी हत्याकांड ने तूल पकड़ा, शुक्रवार को दादरी में महापंचायत, भाजपा नेता ने कहा- अख़लाक़ के लिए रोने वालों ये हमारा भाई है
ग्रेटर नोएडा वेस्ट
ग्रेटर नोएडा वेस्ट की पैरामाउंट इमोशनन्स सोसायटी के लोगों ने बर्थडे पार्टी की, अपनाया नायाब तरीका
ग्रेटर नोएडा वेस्ट की पैरामाउंट इमोशनन्स सोसायटी के लोगों ने बर्थडे पार्टी की, अपनाया नायाब तरीका