उपलब्धि: गलगोटिया यूनिवर्सिटी के एक हजार छात्रों को मिले जॉब ऑफर

Updated Dec 29, 2019 04:41:02 IST | TriCity Reporter

गलगोटिया यूनिवर्सिटी के छात्र-छात्राओं ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। के एक हजार छात्र-छात्राओं को आईटी, कम्प्यूटर साइंस और बैकिंग क्षेत्र की कंपनियों ने नौकरी की पेशकश दी है। बीते 15 दिनों में छात्रों को यह जॉब ऑफर मिले हैं। कुछ छात्रों को तो कई कंपनियों ने पसंद किया है।

उपलब्धि: गलगोटिया यूनिवर्सिटी के एक हजार छात्रों को मिले जॉब ऑफर
Photo Credit: 

GREATER NOIDA ; गलगोटिया यूनिवर्सिटी के छात्र-छात्राओं ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। के एक हजार छात्र-छात्राओं को आईटी, कम्प्यूटर साइंस और बैकिंग क्षेत्र की कंपनियों ने नौकरी की पेशकश दी है। बीते 15 दिनों में छात्रों को यह जॉब ऑफर मिले हैं। कुछ छात्रों को तो कई कंपनियों ने पसंद किया है।

गलगोटिया यूनिवर्सिटी के चांसलर सुनील गलगोटिया ने बताया कि इस साल अब तक करीब 400 कंपनियां कैंपस प्लेसमेंट के लिए यूनिवर्सिटी में आई हैं। कंपनियों की ओर से बीटेक के 71 प्रतिशत और एमबीए के 92 प्रतिशत छात्र-छात्राओं को नौकरियों की पेशकश की गई है। कम्प्यूटर साइंस और इंफोरमेशन टेक्नोलॉजी के बच्चों को सबसे ज्यादा 90 फीसदी जॉब ऑफर मिले हैं। उन्होंने बताया कि इंफोसिस, कॉग्निजेंट, विप्रो, टीसीएस, एमेजोन, सैमसंग, फ्लिपकार्ट, एरिकसन, आईसीआईसीआई बैंक, फ्यूचर ग्रुप, हैवल्स, एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स, अशोक लेलैंड और इंडसइंड बैंक गलगोटिया यूनिवर्सिटी में आए हैं।

हमें यह देखना होता है कि इंडस्ट्री की जरूरत क्या है। यूनिवर्सिटी में छात्रों को केवल किताबें पढ़ाने से वे वर्क कल्वर नहीं सीखते हैं। इंडस्ट्री में काम कैसे होता है, जब वह जानेंगे तभी तो वहां जाकर पहले दिन से काम करना शुरू कर देंगे। गलगोटिया यूनिवर्सिटी का मकसद यही है कि हमारा छात्र किसी भी संस्थान या कंपनी से जुड़े तो वह एसेट बने, न कि लाइबिलिटी।
सुनील गलगोटिया, चांसलर गलगोटिया यूनिवर्सिटी

इंडस्ट्री के साथ मिलकर काम करने का फायदा मिला
यूनिवर्सिटी के सीईओ ध्रुव गलगोटिया ने बताया कि, हम छात्रों को पढ़ाते हैं लेकिन उन्हें काम उद्योगों में करना पड़ता है। देखने में आता है कि किसी कंपनी में ज्वाइन करने के बाद छात्रों को वहां कार्य संस्कृति समझने में छह महीने से एक वर्ष का समय लग जाता है। इस समस्या का समाधान करने के लिए हमने उद्योगों की सलाह ली। सेलेबस में व्यापक बदलाव किया है। कंपनियों के अनुभवी लोग गेस्ट फैकल्टी के रूप में यूनिवर्सिटी आकर छात्रों को पढ़ाते हैं। हम दूसरे और तीसरे वर्ष में पढ़ाई के साथ-साथ छात्रों को कंपनियों में प्रशिक्षण के लिए भेज रहे हैं। इससे छात्रों को पता लग जाता है कि कंपनियों में किस तरह काम किया जाता है। यही वजह रही कि 34 फीसदी छात्रों को एक से ज्यादा कंपनियों ने जॉब ऑफर दिए हैं।

हमने पिछले पांच वर्षों में दुनिया के टॉप इंजीनियरिंग और प्रबंधन क्षेत्र के शिक्षण संस्थानों से समझौते किए हैं। हमारे पास ऑक्सफोर्ड और कैंब्रिज में लंबे अरसे तक अध्यापन कर चुके फैकल्टी मेंबर हैं। हम अपने छात्रों को ग्लोबल एक्सपोजर के साथ तैयार कर रहे हैं।
ध्रुव गलगोटिया, सीईओ, गलगोटिया यूनिवर्सिटी

Galgotia University, Dhruv Galgotia, Suneel Galgotia, Job offers to Galgotia University