आम्रपाली की तरह ये बिल्डर भी डूबने के कगार पर, 20 हजार खरीदार तैयार रहें

Updated Dec 29, 2019 04:41:02 IST | TriCity Today Reporter

आम्रपाली की तरह कई और बिल्डर डूबने के कगार पर हैं। इसमें सबसे बुरा हाल थ्रीसी ग्रुप का है। इस कंपनी का अस्तित्व भी खतरे में पड़ सकता है। यूपी रेरा के आदेश पर की जा रही टेक्निकल जांच में पता चला है कि नोएडा-ग्रेटर नोएडा में इस ग्रुप के सभी 11 प्रॉजेक्ट्स पर काम बंद पड़ा हुआ है। गुरुवार को इस कंपनी की सारी परियोजनाओं का निरीक्षण पूरा कर लिया गया है। अब टेक्निकल टीम अपनी रिपोर्ट यूपी रेरा की बेंच को सौंपेगी। इसमें बिल्डर के डि-रजिस्ट्रेशन की अनुशंसा करने की तैयारी है। ऐसा होने पर थ्रीसी ग्रुप के सभी प्रॉजेक्ट बिल्डर के अधिकार से मुक्त हो जाएंगे।

आम्रपाली की तरह ये बिल्डर भी डूबने के कगार पर, 20 हजार खरीदार तैयार रहें
Photo Credit: 

GREATER NOIDA: आम्रपाली की तरह कई और बिल्डर डूबने के कगार पर हैं। इसमें सबसे बुरा हाल थ्रीसी ग्रुप का है। इस कंपनी का अस्तित्व भी खतरे में पड़ सकता है। यूपी रेरा के आदेश पर की जा रही टेक्निकल जांच में पता चला है कि नोएडा-ग्रेटर नोएडा में इस ग्रुप के सभी 11 प्रॉजेक्ट्स पर काम बंद पड़ा हुआ है। गुरुवार को इस कंपनी की सारी परियोजनाओं का निरीक्षण पूरा कर लिया गया है। अब टेक्निकल टीम अपनी रिपोर्ट यूपी रेरा की बेंच को सौंपेगी। इसमें बिल्डर के डि-रजिस्ट्रेशन की अनुशंसा करने की तैयारी है। ऐसा होने पर थ्रीसी ग्रुप के सभी प्रॉजेक्ट बिल्डर के अधिकार से मुक्त हो जाएंगे।

ऐसे में यूपी रेरा कुछ विकल्प फ्लैट खरीदारों के सामने रखेगा। सबसे पहले बायर्स को अपना प्रॉजेक्ट खुद पूरा करने का ऑफर दिया जा सकता है। अगर बायर्स इसके लिए तैयार नहीं होते हैं तो दूसरी एजेंसी से यह काम कराया जा सकता है। ऐसी स्थिति में रेरा इन प्रोजेक्ट को टेकओवर करेगा।

कंपनी के 11 में से 10 प्रॉजेक्ट्स नोएडा मे हैं
नोएडा और ग्रेटर नोएडा में इस ग्रुप के 11 प्रॉजेक्ट्स हैं। इनमें 10 नोएडा में हैं और केवल एक यमुना एक्सप्रेस वे अथॉरिटी के एरिया में है। यूपी रेरा में बिल्डर ने 4 अलग-अलग कंपनियों के नामों पर ये प्रॉजेक्ट्स रजिस्टर्ड कराए हुए हैं। इनमें 3 कंपनियों के प्रॉजेक्ट्स करीब 1,080 करोड़ रुपये के बताए गए हैं, जबकि नोएडा के लोट्स जिंग की लागत यूपी रेरा में नहीं बताई गई है।

करीब 20 हजार खरीदार फंसे हैं
बिल्डर के इन 11 प्रॉजेक्ट्स में करीब 20 हजार बायर्स फंसे हैं। बायर्स ने इसके सभी प्रॉजेक्ट्स को डी-रजिस्टर्ड कराने की मांग को लेकर यूपी रेरा में शिकायत की थी। बायर्स की शिकायत के आधार पर यूपी रेरा ने टेक्निकल टीम को बिल्डर के सभी 11 प्रॉजेक्ट्स की जांच करके स्टेटस रिपोर्ट देने का आदेश दिया था। रेरा के इंजिनियर्स की टीम एग्जिक्यूटिव इंजिनियर अशोक कुमार के नेतृत्व में जांच कर रही थी। टीम ने नोएडा के सभी प्रॉजेक्ट्स की जांच कर रिपोर्ट तैयार कर ली है। गुरुवार को यमुना अथॉरिटी एरिया के प्रॉजेक्ट्स की जांच की गई। जांच में पाया गया है कि बिल्डर के सभी प्रॉजेक्ट्स पर काम बंद है।

अब तक तो घर मिल जाने चाहिएं थे
इनमें से कई परियोजनाएं तो कई साल देरी से चल रही हैं। करीब 10 हजार फ्लैट खरीदारों को तो अब तक घरों की डिलीवरी कर दी जानी चाहिए थी। यह भी जानकारी मिली है कि कुछ प्रोजेक्ट पर तो करीब दो वर्षों से काम बंद पड़ा हुआ है। खरीदारों का कहना है कि वह लगातार नोएडा प्राधिकरण से शिकायत कर रहे थे लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं की जा रही थी। अब जब रेरा ने जांच शुरू की तो सारी चीजें निकलकर सामने आ गई हैं।

खरीदारों का पैसा कहां गया
रेरा यह जांच भी करेगा कि अब तक बिल्डर को घर खरीदारों ने कितना पैसा दिया और बिल्डर ने परियोजनाओं पर कितना खर्च किया है। इससे यह भी पता लगेगा कि बिल्डर ने बाकी पैसे का क्या किया है। दरअसल, आम्रपाली की तरह कई दूसरे बिल्डरों ने भी एक प्रोजेक्ट से पैसा लेकर दूसरी कंपनियों और परियोजनाओं में लगा दिया है।

Amrapali Builder, 3c Builder, UP RERA, Greater Noida, Noida, Noida Authority, Greater Noida Authority, Real Estate Crisis

Trending

नोएडा
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
उत्तर प्रदेश
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
ग्रेटर नोएडा
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
ग्रेटर नोएडा
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
यमुना सिटी
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका

Most Viewed

ग्रेटर नोएडा वेस्ट
BIG NEWS : सुपरटेक और अजनारा समेत आठ बिल्डरों के 30 बैंक खाते कुर्क, 70 बिल्डरों से 150 करोड़ और वसूलेगा गौतमबुद्ध नगर प्रशासन
BIG NEWS : सुपरटेक और अजनारा समेत आठ बिल्डरों के 30 बैंक खाते कुर्क, 70 बिल्डरों से 150 करोड़ और वसूलेगा गौतमबुद्ध नगर प्रशासन
ग्रेटर नोएडा वेस्ट
ग्रेटर नोएडा वेस्ट के लोगों के लिए बड़ी खबर, 65 करोड़ रुपये का तोहफा मिलेगा, पूरी जानकारी
ग्रेटर नोएडा वेस्ट के लोगों के लिए बड़ी खबर, 65 करोड़ रुपये का तोहफा मिलेगा, पूरी जानकारी
यमुना सिटी
फिल्म सिटी का खाका खींचने के लिए 18 नवंबर को होगा मंथन, देश-दुनिया के विशेषज्ञ जुटेंगे
फिल्म सिटी का खाका खींचने के लिए 18 नवंबर को होगा मंथन, देश-दुनिया के विशेषज्ञ जुटेंगे
यमुना सिटी
BIG BREAKING : यमुना प्राधिकरण के 96 गांवों के लिए खुशखबरी, जमीन का मुआवजा बढ़ाने का ऐलान, एक लाख किसानों को मिलेगा लाभ, गावों की पूरी लिस्ट
BIG BREAKING : यमुना प्राधिकरण के 96 गांवों के लिए खुशखबरी, जमीन का मुआवजा बढ़ाने का ऐलान, एक लाख किसानों को मिलेगा लाभ, गावों की पूरी लिस्ट
ग्रेटर नोएडा वेस्ट
ग्रेटर नोएडा वेस्ट में गौड़ चौक को पूरी तरह बदला जाएगा, ऊपर से मेट्रो और नीचे से गुजरेंगी
ग्रेटर नोएडा वेस्ट में गौड़ चौक को पूरी तरह बदला जाएगा, ऊपर से मेट्रो और नीचे से गुजरेंगी