ग्रेटर नोएडा वेस्ट के बिल्डर से जुड़ी फ्लैट खरीदार की दुखद कहानी, रेरा कर रहा सुनवाई

Updated Dec 29, 2019 04:41:02 IST | TriCity Today Reporter

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में किसी एक की नहीं सैकड़ों फ्लैट खरीदारों की दुख भरी कहानियां हैं। ऐसी ही एक और कहानी सामने आई है, जो आज हम आपके सामने रख रहे हैं। जिसमें बिल्डर की कारगुजारी विदेश में बैठे एक बेटे और यहां परेशानी झेल रही उसकी मां की है। वहीं, बेटे के साथ रहने की हसरत लिए पिता की मौत हो गई है।

ग्रेटर नोएडा वेस्ट के बिल्डर से जुड़ी फ्लैट खरीदार की दुखद कहानी, रेरा कर रहा सुनवाई
Photo Credit: 
प्रतीकात्मक फोटो

GREATER NOIDA : नोएडा और ग्रेटर नोएडा में किसी एक की नहीं सैकड़ों फ्लैट खरीदारों की दुख भरी कहानियां हैं। ऐसी ही एक और कहानी सामने आई है, जो आज हम आपके सामने रख रहे हैं। जिसमें बिल्डर की कारगुजारी विदेश में बैठे एक बेटे और यहां परेशानी झेल रही उसकी मां की है। वहीं, बेटे के साथ रहने की हसरत लिए पिता की मौत हो गई है।
 

अभी अमेरिका में रह रहे अप्रनेश्वर पांडेय भारत वापस लौटकर मां के साथ रहना चाहते हैं। मां यहां अकेली रह रही हैं। अप्रनेश्वर ने करीब 4 साल पहले ग्रेटर नोएडा वेस्ट में परिवार के साथ रहने के लिए फ्लैट बुक कर लिया। वह घर मिलने का इंतजार करते रहे और करीब दो साल पहले पिता की मौत हो गई। अब मां अकेली रह रही हैं। बेटा, मां के साथ अपने घर में रहने की हसरत लिए भारत आना चाहता है, लेकिन बिल्डर काम बंद करके बैठा है।
अब अप्रनेश्वर पांडेय नेयूपी रेरा के माध्यम से बिल्डर से अपने पैसे वापस मांगे हैं। मामला डीएसडी होम्स का है। बिल्डर का ग्रेटर नोएडा वेस्ट के एक प्रोजेक्ट है। जिसमें अप्रनेश्वर पांडेय ने 2015 में टॉवर नंबर-3 में फ्लैट बुक करवाया था। फिलहाल वह अमेरिका में रह रहे हैं। वह बिल्डर को किस्त के माध्यम से 21 लाख रुपये का भुगतान कर चुके हैं। बिल्डर ने दिसंबर 2018 में पजेशन देने का वादा किया था। अप्रनेश्वर की योजना थी कि इस घर में उनके माता-पिता रहेंगे।


यूपी रेरा से की गई अपनी शिकायत में अप्रनेश्वर पांडेय ने बताया कि 2017 में उनके पिता की मौत हो गई है। उसके बाद वह मां के पास आए। उस समय उन्होंने बिल्डर की साइट का दौरा किया। पता चला कि वहां काम ही नहीं हो रहा है। निर्माण कार्य कई महीनों से बंद पड़ा हुआ था। अब तो दो साल से काम ठप है। अब उनकी मां अकेली रहती हैं। उन्हें भारत में मां के साथ रहना है लेकिन, बिल्डर घर नहीं दे रहा है। वह चाहते हैं कि अब बिल्डर उनका पैसा ब्याज के साथ लौटा दे। वह मां के लिए दूसरे घर का इंतजाम करना चाहते हैं। बीते शुक्रवार को इस मामले में यूपी रेरा ने सुनवाई की थी।


ऐसी ही एक और फ्लैट खरीदार ऋतु भारद्वाज ने भी बिल्डर से अपना पैसा वापस मांगा है। उन्होंने यूपी रेरा से की शिकायत में कहा है कि साइट पर काम पूरी तरह बंद है। उन्होंने 2013 में बुकिंग कराई थी और 26 लाख रुपये बिल्डर को दे चुकी हैं। यूपी रेरा में सुनवाई के दौरान बिल्डर की ओर से कहा गया है कि परियोजना को पूरा करने के लिए काॅ-डेवेलपर आ चुका है। यह नया डेवेलपर काम पूरा करेगा। लिहाजा, उन्हें समय दिया जाए। इस बिल्डर के खिलाफ अमित कौशिक, दीपक भदौरिया, संजय चोपड़ा, कविता शर्मा, बीबी शर्मा और कल्पना शर्मा ने भी फ्लैट पर कब्जा नहीं देने को लेकर शिकायत दी हैं। अधिकांश ने अपना पैसा वापस मांगा है।

UP RERA, Greater Noida Authority, Builders in Noida, Noida Builders, Noida Authority, Flat buyers association, Flat buyers agitation, Home

Trending

नोएडा
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
नोएडा पुलिस ने दो बिल्डर जेल भेजे, निवेशकों के करोड़ों हड़पे और फिर गैंगस्टर सुंदर भाटी और अनिल दुजाना से मरवाने की धमकी दी
उत्तर प्रदेश
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
यूपी में बच्चों के लिए योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, कुपोषित बच्चों के परिवार को मिलेगी गाय, 900 रुपये महीना भी मिलेंगे
ग्रेटर नोएडा
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
शारदा यूनिवर्सिटी की सेमिनार में बोले जस्टिस दीपक मिश्रा- लोकतंत्र की रक्षा में न्याय पालिका ने कई मौकों पर अपनी भूमिका निभाई
ग्रेटर नोएडा
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
साठा चौरासी का आरोप- दादरी के 18 गांवों का अस्तित्व समाप्त करना बड़ी साजिश
यमुना सिटी
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका
खुशखबरी : जनवरी में आएगी छोटे आवासीय भूखंडों की योजना, जेवर एयरपोर्ट के पास बसने का एक और सुनहरा मौका