नोएडा एंटी टेरेरिस्ट स्क्वायड की बड़ी कार्रवाई, पाकिस्तानियों के साथ मिलकर अपने लोगों से कर रहे थे ठगी

Updated Dec 29, 2019 04:41:02 IST | Tricity Today Chief correspondent

एंटी टेरेरिस्ट स्क्वायड की नोएडा यूनिट ने सोमवार को बड़ी कार्रवाई की है। एटीएस ने दो लोगों को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया है। ये दोनों पाकिस्तान से संचालित हो रही फर्जी लाटरी की गतिविधियों में संलिप्त थे।

Photo Credit: 
ATS Team

NOIDA: एंटी टेरेरिस्ट स्क्वायड की नोएडा यूनिट ने सोमवार को बड़ी कार्रवाई की है। एटीएस ने दो लोगों को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया है। ये दोनों पाकिस्तान से संचालित हो रही फर्जी लाटरी की गतिविधियों में संलिप्त थे।

एटीएस ने बताया कि पाकिस्तानी हैंडलरों के निर्देश पर काम करने वाले दो शातिर ठगों को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया गया है। दोनों फर्जी लाटरी के धंधे में लिप्त थे और उसका पैसा पाकिस्तान भेज रहे थे। प्रकाश उर्फ जय प्रकाश रूहेला और धीरूद्दीन के खिलाफ एटीएस के लखनऊ थाने में एफआईआर दर्ज की गई है। इन दोनों के खिलाफ आईपीसी की धाराओं 420, 467, 468 और 471 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

एटीएस ने बताया कि आरोपी जय प्रकाश शामली शहर के रामशाला मोहल्ले का रहने वाला है। वह अभी गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन की क्लासिक रेजीडेंसी में रह रहा था। दूसरा अभियुक्त धीरूद्दीन मूल रूप से मुजफ्फरनगर जिले के खरड़ गांव का रहने वाला है। वह फिलहाल गाजियाबाद के साहिबाबाद थाना क्षेत्र के पसोंडा गांव में रह रहा था। दोनों को गाजियाबाद के मोहन नगर से गिरफ्तार किया गया है।

एटीएस ने बताया कि पाकिस्तानी हैंडलरों को भारत से पैसा भेज रहे थे। प्रारंभिक पूछताछ में पता लगा है कि जय प्रकाश को 10 पाकिस्तानी हैंडलर डील कर रहे थे। उनके निर्देश पर लाटरी फ्रॉड का पैसा पाकिस्तान भेजने की पुष्टि हुई है। इसके अलावा बिहार, छत्तीसगढ़ और कोलकाता में भी पाकिस्तानी हैंडलरों के इशारे पर काम करने वाले लोगों के नाम प्रकाश में आए हैं। हालांकि, अभी तक केवल 12 बैंक खातों का विवरण उपलब्ध हो पाया है, जिनमें पिछले डेढ़ माह में 15 लाख रुपये से अधिक पैसा लाटरी फ्रॉड से अर्जित करके जमा किया गया है। अभी बड़ी संख्या में प्राप्त बैंक अकाउंट का विवरण मिलना शेष है।

एटीएस के मुताबिक मोबाइल फोन में रखी गईं बैंक जमा पर्चियों से 20 लाख रुपये से अधिक धनराशि पाकिस्तानी हैंडलरों को भेजने का पता चला है। अभियुक्त जय प्रकाश वर्ष 2013 में लाटरी फ्रॉड में जेल जा चुका है। उसे उत्तराखंड की रुड़की कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसी तरह धीरूद्दीन भी तीन मुकदमों में जेल जा चुका है। वह रुड़की से टायर लूट और बागपत में हत्या के मामले में जेल गया था। दोनों के पास 11 बैंकों के 32 एटीएम कार्ड मिले हैं। इसके अलावा दोनों के कब्जे से पांच बैंकों के पासबुक, चार बैंकों के चेकबुक, 4 मोबाइल फोन, एक सैमसंग का टैबलेट  और एक स्कूटी भी मिली है। 

एटीएस दोनों से लाटरी फ्रॉड में लिप्त अन्य व्यक्तियों के बारे में जानकारी ले रही है। साथ ही यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि लाटरी फ्रॉड के पैसे का कहीं टेरर फंडिंग में उपयोग तो नहीं हो रहा है। एटीएस लाटरी फ्रॉड में ठगे गए पीड़ितों के बारे में भी पता लगा रही है।

UP ATS, Noida ATS, Pakistan terror funding, terror funding lottery fraud, Noida Police, UP Police