BREAKING: गाजियाबाद में सादे कपड़ों में घूमने वाले 21 पुलिस वालों पर गिरी गाज, एसएसपी ने बताई बड़ी वजह

BREAKING: गाजियाबाद में सादे कपड़ों में घूमने वाले 21 पुलिस वालों पर गिरी गाज, एसएसपी ने बताई बड़ी वजह

Google Images | SSP Ghaziabad Kalanidhi Naithani,

गाजियाबाद में 21 पुलिसकर्मियों पर गाज गिरी है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने इन पुलिसकर्मियों को थानों से हटाकर पुलिस लाइन भेज दिया है। जानकारी दी गई है कि पुलिसकर्मी अपने कामकाज को छोड़कर इधर-उधर की गतिविधियों में संलिप्त पाए गए हैं। यह पुलिसकर्मी ड्यूटी के दौरान सादे कपड़ों में इधर-उधर घूमते पकड़े गए थे। एसएसपी का कहना है कि इससे न केवल पुलिस की छवि खराब होने की संभावना रहती है, बल्कि ऐसे पुलिसकर्मी भ्रष्टाचार में संलिप्त रहते हैं, इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है।

गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने सभी थानाध्यक्षों और पुलिसकर्मियों को एक आदेश जारी किया है। जिसमें पुलिस वालों से वर्दी से जुड़ी आचार संहिता का अक्षर से पालन करने को कहा गया है। इतना ही नहीं एसएसपी ने साफ कर दिया है कि अगर किसी जरूरी काम से पुलिसकर्मी को सादे कपड़ों में काम करना है तो उसके लिए एसपी और एसएसपी स्तर के अधिकारियों से अनुमति लेनी होगी।

इन 21 पुलिसकर्मियों को थानों से हटाया गया है

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने साहिबाबाद थाने से हेड कांस्टेबल नरसिंह यादव, कांस्टेबल सौरभ सोलंकी और नीतीश को हटाकर पुलिस लाइन भेज दिया है। इंदिरापुरम थाने से कॉन्स्टेबल विकास वीर को पुलिस लाइन भेजा गया है। थाना लिंक रोड से मनोज बालियान को पुलिस लाइन भेजा गया है। थाना कौशांबी से सतवीर सिंह तालान और चमन सिंह को पुलिस लाइन भेजा गया है।

थाना सिहानी गेट से कांस्टेबल मनोज कुमार और थाना विजयनगर से कांस्टेबल सचिन कुमार को लाइन हाजिर किया गया है। थाना लोनी बॉर्डर से कॉन्स्टेबल विपिन कुमार, थाना ट्रेन का सिटी से कॉन्स्टेबल विकास कुमार और आशुतोष सिंह को लाइन हाजिर किया गया है। थाना मुरादनगर से कांस्टेबल नवीन पाठक और थाना कवि नगर से कांस्टेबल लोकेश कुमार को लाइन हाजिर किया गया है। आदेश के मुताबिक थाना खोड़ा से हेड कांस्टेबल ब्रह्मजीत सिंह को लाइन हाजिर किया गया है। थाना गाजियाबाद कोतवाली से कांस्टेबल पंकज शर्मा, मोनू कुमार और रवि कुमार को लाइन हाजिर किया गया है।

थाना मुरादनगर से अनिल कुमार को हटाया गया है। थाना मोदीनगर से कांस्टेबल इरफान हुसैन को लाइन हाजिर किया गया है। थाना विजयनगर से हेड कांस्टेबल अरुण कुमार को हटाकर पुलिस लाइन भेज दिया गया है।

एसएसपी ने कहा- सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी भ्रष्टाचार करते हैं

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने सभी पुलिसकर्मियों को आदेश दिया है कि थानों में नियुक्त पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में ड्यूटी पर काम नहीं करेंगे। इससे पुलिस की छवि खराब होने की संभावना रहती है और भ्रष्टाचार से भी इनकार नहीं किया जा सकता है। थानों पर नियुक्त सभी पुलिसकर्मी इस आदेश का पालन करेंगे। थाना कार्यालय में नियुक्त पुलिसकर्मी भी ड्यूटी के दौरान वर्दी धारण करेंगे। यदि किसी विशेष ड्यूटी अथवा कानून व्यवस्था के लिए सादे कपड़ों में ड्यूटी करने की जरूरत है तो थाना प्रभारी अपने अपर पुलिस अधीक्षक को इसके बारे में जानकारी देंगे। उनसे अनुमति लेकर मात्र उसी दिन सादा वर्दी में पुलिसकर्मी काम करेगा।

सादे कपड़ों में काम करने के लिए एसएसपी से इजाजत लेनी होगी

एसएसपी ने आदेश दिया है कि किसी भी चिकित्सीय परिस्थिति में यदि सादे वस्त्रों को धारण करना है तो एसएसपी से अनुमति लेने के बाद ही सादे वस्त्रों में ड्यूटी करेंगे। यदि कोई पुलिसकर्मी ड्यूटी के दौरान सादे कपड़ों में पाया जाता है तो उस थाने का एसएचओ 24 घंटे के अंदर सवाल जवाब करेगा। स्पष्टीकरण लेकर मेरे सामने पेश करेगा। यदि वह पुलिस कर्मी ड्यूटी के दौरान दोबारा सादे वस्त्रों में पाया जाता है तो उसके विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही करने के लिए रिपोर्ट दी जाएगी। इसके लिए थाना प्रभारी जिम्मेदार होंगे। एसपी ने आदेश दिया है कि ड्यूटी का समय पूरा होने पर सादे कपड़ों में कोई भी पुलिसकर्मी सरकारी कामकाज के बहाने इधर-उधर सक्रिय नहीं होगा।

वर्दी पर नेम प्लेट लगाना अनिवार्य, नाम साफ लिखा हो

ड्यूटी के दौरान पुलिसकर्मी अपना पूरा नाम अपनी वर्दी पर नेम प्लेट जरूर लगाकर रखेगा। नेम प्लेट पर पुलिसकर्मी का नाम स्पष्ट रुप से लिखा होना चाहिए। एसएसपी की ओर से चेतावनी दी गई है कि अगर इन आदेशों का उल्लंघन किया गया तो कड़ी दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.