किसान बिल के विरोध में भारतीय किसान यूनियन ने जंतर मंतर पर कूच किया, पुलिस ने रोका

Updated Sep 24, 2020 08:10:55 IST | Rakesh Tyagi

केंद्र सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र में तीन नए अध्यादेश पास कर नया कानून बनाने के विरोध में भारतीय किसान यूनियन भानु के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानुप्रताप सिंह के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं...

किसान बिल के विरोध में भारतीय किसान यूनियन ने जंतर मंतर पर कूच किया, पुलिस ने रोका
Photo Credit:  Google Image
किसान बिल के विरोध में भारतीय किसान यूनियन ने जंतर मंतर पर कूच किया

केंद्र सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र में तीन नए अध्यादेश पास कर नया कानून बनाने के विरोध में भारतीय किसान यूनियन भानु के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानुप्रताप सिंह के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ जंतर मंतर दिल्ली कूच किया। जिन्हें गौतम बुद्ध नगर गेट पर दिल्ली की सीमा में घुसने पर ही दिल्ली पुलिस ने बैरिकेटिंग लगा कर रोक लिया। बैरिकेटिंग पर कार्यकर्ताओं और दिल्ली पुलिस में काफी देर तक झड़प हुई और धरना दे दिया। जिससे नोएडा की तरफ  कई किलोमीटर तक जाम लग गया। 

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के समझाने और अनुरोध के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष भानुप्रताप सिंह और कार्यकर्ताओं ने सलाह लेते हुए राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देकर धरना खत्म कर दिया है। इस मौके पर राष्ट्रीय अध्यक्ष भानुप्रतापसिंह ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा पास तीनों अध्यादेश किसान विरोधी हैं। अध्यादेश के लिए किसान प्रतिनिधियों से और राजनीतिक दलों से कोई चर्चा नहीं की गई। भाकियू भानु मांग करती आ रही है कि फसलों की उच्च दर बढ़ाई जाएं, किसान अयोग का गठन किया जाएं, स्वामीनाथन अयोग की शिफरिशों को लागू किया जाएं, जिसमें फसल की लागत से डेढ़ गुणा उेच रेट दिया जाएं। 

उन्होंने कहा कि सरकार इन मांगों को पूरा करने के बजाय किसानों को दबाने में लगी हुई है। इन अध्यादेश के पास होने के बाद कानून बन गया कि पूंजीपति और जमाखोरों को किसानों से ओने पोने दामों में फसलों को लूट कितनी भी जमाखोरी कर सकती है और रेट बढने से किसी भी रेट पर बेचा जा सकता है। राष्ट्रीय महाचिव बेगराज गुर्जर ने कहा कि खेती से भूमिहीन किसान ठेके पर खेत लेकर अपने परिवार का गुजर बसर करता है, वह बेरोजगार हो जाएगा। अगर ये अध्यादेश वापस नहीं लिया गया या संशोधन नहीं किया तो भाकियू भानु पूरे देश में आंदोलन चलाएगी।  

इस मौके पर मुख्य रूप से वरिष्ठ उपाध्यक्ष ठाकुर किरणपाल सिंह, उपाध्यक्ष अजब सिंह कसाना, मास्टर मनोज नागर, प्रदेश महामंत्री बीसी प्रधान, प्रेमसिंह भाटी, राजीव नागर, मास्टर मह्कार नागर, जयकुमार रामकेश चपराना, लाटसहाब लोहिया, सुंदर बाबा, राजबीर मुखिया, कोशेंदर यादव, राजकुमार नागर, अनिल बैसोया, बीरसिंह यादव, वीरेन्द्र कुमार, अनिल प्रजापति और राजकुमार मोनू आदि मौजूद रहे।

Bharatiya Kisan Union, Farmers Bill, Delhi Police