बड़ा खुलासा: नोएडा और ग्रेटर नोएडा में कैसे फैला कोरोना वायरस, 23 में से 13 लोगों का आपस में ताल्लुक

Updated Mar 28, 2020 19:26:03 IST | Rakesh Tyagi

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में अभी तक कोरोना वायरस से संक्रमित 23 लोगों की पहचान हो चुकी है। इन सभी लोगों का उपचार चल रहा है। लेकिन यह लोग इस वायरस की चपेट में कैसे आए? इस सवाल का जवाब स्वास्थ्य विभाग ने जांच पड़ताल में तलाश कर लिया है। जिसमें बड़ा खुलासा...

Photo Credit:  Tricity Today
coronavirus in Noida

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में अभी तक कोरोना वायरस से संक्रमित 23 लोगों की पहचान हो चुकी है। इन सभी लोगों का उपचार चल रहा है। लेकिन यह लोग इस वायरस की चपेट में कैसे आए? इस सवाल का जवाब स्वास्थ्य विभाग ने जांच पड़ताल में तलाश कर लिया है। जिसमें बड़ा खुलासा हुआ है।

गौतमबुद्ध नगर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि नोएडा की कंपनी सीजफायर के मैनेजमेंट की लापरवाही जिले पर भारी पड़ी है। अब तक कोरोना वायरस से पीड़ित जो 13 लोग मिले हैं, उनमें से 13 लोगों का ताल्लुक इस कंपनी की लापरवाही से है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा दी गई है और मैनेजमेंट के जिम्मेदार अधिकारी को दंडित किया जाएगा।

सीएमओ डॉ अनुराग भार्गव ने बताया, जनपद गौतमबुद्ध नगर में अब तक कोरोना वायरस पॉजिटिव कुल 23 मरीज पाए गए हैं। इन सबके इंफेक्शन के सोर्स तलाश कर लिए गए हैं। जिसमें सिद्धार्थ सक्सेना विदेश यात्रा पर डेनमार्क गए थे। और जब वापस लौटे तो उनके घर में कुल 10 लोग थे। उन सभी 10 लोगों को कोरोना टेस्ट कराया गया तो सिद्धार्थ सक्सेना, उनकी माता और भतीजी का टेस्ट पॉजिटिव आया। इन तीनों लोगों को वायरस इंफेक्शन होना स्पष्ट है।

इसी प्रकार सीजफायर कंपनी के प्रबंधक निदेशक विगत एक मार्च को यूके से लौट कर आए थे। फिर 7 मार्च को उनके स्टाफ ऑफिसर लौट कर आए थे। 14, 15 और 16 मार्च को एक विदेशी ऑडिटर ने कंपनी में आकर ऑडिट किया। जिसकी सूचना कंपनी ने स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी। उनकी कंपनी और उनके परिवार के कुल 13 लोगों में इंफेक्शन हो गया। ये सारे लोग नोएडा और ग्रेटर नोएडा में रहते हैं।

सीएमओ ने बताया कि कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जा रही है। एक नया केस सामने आया है। जिसमें ग्रेटर नोएडा की एटीएस डोल्से सोसायटी में रहने वाला एक नागरिक जो साउथ अफ्रीका से टर्की होते हुए आया था, वह भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। इस प्रकार हम यह देख सकते हैं कि जिले में कोई भी ऐसा केस नहीं है, जिसका पता ना हो।

सीएमओ ने कहा, इस प्रकरण में हमें समझाना पड़ेगा कि सोशल डिस्टेंस और हैंड सैनिटाइजेशन में ठीक से सावधानी बरती जाती तो सीजफायर कंपनी में संक्रमण इतनी जल्दी नहीं फैलता। अतः शहर के लोगों से अपील है कि यदि आपके घर के आसपास कोई भी व्यक्ति विदेश से आता है तो उसकी सूचना तुरंत स्वास्थ्य विभाग को दें। यह भी सुनिश्चित करें कि वह व्यक्ति होम आइसोलेशन का सख्ती से पालन करे।

coronavirus, Noida, Greater Noida, coronavirus in Noida, coronavirus in Greater Noida