भाजपा युवा मोर्चा का जिलाध्यक्ष शराब तस्करी में संलिप्त था, पार्टी ने बर्खास्त किया

भाजपा युवा मोर्चा का जिलाध्यक्ष शराब तस्करी में संलिप्त था, पार्टी ने बर्खास्त किया

Tricity Today | भाजपा युवा मोर्चा का जिलाध्यक्ष शराब तस्कर

एक ओर पीएम नरेंद्र मोदी कोरोना महामारी से लड़ने के लिए देशवासियों को लॉकडाउन का पालन करने की अपील कर रहे हैं तो दूसरी ओर उन्ही की पार्टी के नेता उनके निर्वाचन क्षेत्र में शराब तस्करी में संलिप्त पाए जा रहें हैं। हैरान करने वाली यह घटना वाराणसी के चौबेपुर थाना क्षेत्र की है।

वाराणसी में भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष का नाम शराब तस्करी के संचालक के रूप में जुड़ गया। दरअसल, जिलाध्यक्ष का छोटा भाई शराब तस्करी करते पकड़ा गया और पूछताछ में युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष का नाम सामने आ गया। अब पार्टी ने भाजपा युवा मोर्चा वाराणसी के जिलाध्यक्ष संजय गुप्ता को पद से मुक्त कर दिया है।

हैरान कर देने वाली यह घटना वाराणसी के चौबेपुर थाना क्षेत्र के संदहा तिराहे के पास 26 अप्रैल की शाम रिंगरोड की है। जिस वक्त लॉकडाउन के चलते पुलिस कर्मी संदहा तिराहे पर चेकिंग कर रहे थे, तभी गाजीपुर से एक मारुति 800 कार संदिग्ध रुप से आते नजर आई। ड्राइवर ने कार रोकने की बजाय और तेज दौड़ा दी। जिस पर पुलिस ने मोटर साईकिल से कार का पीछा किया। कार कुछ दूर आगे जाकर रिंग रोड से सर्विस रोड पर उतर गई। जिसमें से एक व्यक्ति भाग निकला। जबकि, पकड़े गए दो लोगों ने अपना नाम अरूण पाल उर्फ बबलू पाल और संतोष गुप्ता बताया।

पुलिस ने पकड़ी गई कार से 12 पेटी देसी शराब बरामद की है। पूछताछ में भागने वाले शराब तस्कर का नाम अरविंद पांडेय बताया गया। पुलिस ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके अवैध शराब कब्जे में ले ली। एएसपी अभिषेक अग्रवाल ने बताया कि तस्करी के मुख्य संचालक संजय गुप्ता पर कानूनी कार्रवाई की जायेगी। फिलहाल दो लोगों को मौके से पकड़ा गया है।

गौरतलब है कि जिस संजय गुप्ता को पुलिस शराब तस्कर गिरोह का संचलाक बता रही है और पुलिस की प्रेस विज्ञप्ति में भी जिसका नाम है, वह संजय गुप्ता वर्तमान में वाराणसी भाजपा युवा मोर्चा का जिलाध्यक्ष था। सोमवार को पार्टी ने एक पत्र जारी करके लॉकडाउन का उल्लंघन करने और संगठन मानदंडों के प्रतिकूल कृत्य करने के आरोप में उसे पद से हटा दिया है।

वहीं, बीजेपी काशी क्षेत्र के अध्यक्ष महेश श्रीवास्तव ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है कि पिछले कुछ दिनों से संजय गुप्ता की शिकायत आ रही थीं। जिस पर कार्रवाई करते हुए उन्हें पद से हटा दिया गया है। बताया गया है कि मौके से पकड़ा गया संतोष गुप्ता, संजय गुप्ता का सगा छोटा भाई है।

उधर, इस मामले में वाराणसी के जिला आबकारी अधिकारी करुणेंद्र सिंह ने बताया कि बरामद शराब की जांच आबकारी विभाग कर रहा है कि वह कहां की शराब है। बरामद की गई शराब की कीमत 35 हजार रुपये बताई जा रही है।

इससे पहले यूपी में ही भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की एक जिला अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री के आह्वान पर कोरोना योद्धाओं का मनोबल बढ़ाने के लिए ताली-थाली बजाने की बजाय गोलियां दागी थीं। जिसके बाद उन्हें भी पार्टी ने बर्खास्त किया था।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.