सीईओ ऋतु माहेश्वरी के साथ डीडीआरडब्ल्यूए ने की बैठक, शहर की इन 58 समस्याओं पर चर्चा हुई

Updated May 29, 2020 18:52:48 IST | Mayank Tawer

शुक्रवार को डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन (डीडीआरडब्ल्यूए) और नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों के बीच...

सीईओ ऋतु माहेश्वरी के साथ डीडीआरडब्ल्यूए ने की बैठक, शहर की इन 58 समस्याओं पर चर्चा हुई
Photo Credit:  Tricity Today
Noida CEO Ritu Maheshwari
Key Highlights
डीडीआरडब्ल्यूए और नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों के बीच बैठक आयोजित हुई।
ऋतु महेश्वरी को अपने क्षेत्रों में  व्याप्त समस्याओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।
सीईओ ने इन सारी समस्याओं का शीघ्र निस्तारण करने का आश्वासन दिया है।

शुक्रवार को डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन (डीडीआरडब्ल्यूए) और नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों के बीच बैठक आयोजित हुई। बैठक में नोएडा की कई आरडब्ल्यूए ने भाग लिया। आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों ने मुख्य कार्यपालक अधिकारी ऋतु महेश्वरी को अपने-अपने क्षेत्रों में  व्याप्त समस्याओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने इन सारी समस्याओं का शीघ्र निस्तारण करने का आश्वासन दिया है।

जूम एप के जरिए हुई इस बैठक में एनपी सिंह (डीडीआरडब्ल्यूए) (सेक्टर 35), सुशील अग्रवाल (सेक्टर 14), एएन धवन (सेक्टर 52), विमल शर्मा (सेक्टर 50), संजीव कुमार (सेक्टर 51), लक्ष्मी नारायण (सेक्टर 19), आरसी गुप्ता (सेक्टर 19), अनिल खन्ना (सेक्टर 41), सुरेश कृष्ण (सेक्टर 11), पवन गोयल (सेक्टर 48), अजीत सिंह वर्मा (सेक्टर 72), राजीव कुमार (दडीडीआरडब्ल्यूए), डॉ वीरेंद्र सिंह (सेक्टर 61), लोकेश कश्यप (सेक्टर 27), गिरजा सिंह (सेक्टर 15), विजय भाटी (सेक्टर 49), अशोक शर्मा (सेक्टर 52), सुभाष चौहान (सेक्टर 71), सुमेर सिंह रावत (सेक्टर 100), अनिल प्रकाश रणोत्रा ​ (सेक्टर 51), रजनीश नंदन (सेक्टर 93ए), राघवेंद्र दुबे (सेक्टर 82), अनीता एडवोकेट (सेक्टर 41), अंजलि सचदेवा (सेक्टर 52), अनिल सिंह (सेक्टर 53) उपस्थित रहे।

डीडीआरडब्ल्यूए के अध्यक्ष एनपी सिंह ने ये मुद्दे उठाए

  1. नोएडा के सभी क्षेत्रों में बिजली लाइनों को भूमिगत किया जाना चाहिए। क्योंकि वर्तमान में पोल और ट्रांसमिशन लाइनों की स्थिति अच्छी नहीं है। हवा की गति में थोड़ी वृद्धि के साथ ही बिजली आपूर्ति बाधित हो जाती है।
  2. पानी के बिल को जल्द से जल्द अपलोड किया जाना चाहिए। पानी की गुणवत्ता और मात्रा, दोनों में बहुत सुधार की आवश्यकता है।
  3. नोएडा शहर के लिए आवारा कुत्ते एक बड़ा मुद्दा हैं। शहर में 4 कंपनियों या ठेकेदारों को आवारा कुत्तों की नसबंदी का ठेका दिया जाना चाहिए। इससे आवारा कुत्तों की आबादी पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी। यह काम किसी एक कंपनी या कॉन्ट्रैक्टर के लिए संभव नहीं है।
  4. समय-समय पर नोएडा प्राधिकरण में उच्च अधिकारियों की आरडब्ल्यूए के साथ बैठकें होनी चाहिए। जो लंबे समय से नहीं हो रही हैं। हर महीने ऐसी बैठकें आयोजित करें।
  5. एक ओएसडी स्तर के अधिकारी को सभी आरडब्ल्यूए से जोड़ा जाए। जो आरडब्ल्यूए में सभी समस्याओं का ध्यान रख सकें और उन समस्याओं का समाधान भी कर सकें।
  6. शहर के सभी बड़े नालों को तुरंत साफ किया जाना चाहिए क्योंकि बरसात के मौसम में शहर में जलभराव की समस्या एक आम बात है। अगर बारिश के मौसम से पहले नालियों को साफ किया जाता है तो निवासियों को जल भराव की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  7. जिस भी क्षेत्र में सामुदायिक केंद्र नहीं बने हैं, वहां तत्काल सामुदायिक केंद्र बनाने की योजना पर काम शुरू करना चाहिए।
  8. कई क्षेत्र बहुत बड़े हैं। भौगोलिक रूप से इतने बड़े हैं कि सामुदायिक केंद्र की सुविधा का लाभ उठाने के लिए एक से दो किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। सभी के लिए एक नए सामुदायिक केंद्र का निर्माण करके निवासियों की मदद करें।
  9. जो कोई भी अपने सामुदायिक केंद्र को क्लब में बदलना चाहता है, उसे भी क्लब में बदलने की अनुमति दी जानी चाहिए।
  10. सेक्टर-71 चौराहे के निर्माण कार्य में तेजी लाई जानी चाहिए क्योंकि यह नोएडा का सबसे बड़ा चौराहा है। अंडरपास निर्माण की वजह से आस-पास के सेक्टर के सभी लोग परेशान हैं। इस चौराहे के बाईपास का प्रावधान फिलहाल किया जाए। शीघ्र निर्माण कार्य से सभी निवासियों को मदद मिलेगी।

आरडब्ल्यूए सेक्टर-51 के महासचिव संजीव कुमार, अध्यक्ष अनिल प्रकाश रणोत्रा और राजीव कुमार (डीडीआरडब्ल्यूए) ने ये मुद्दे उठाए

  1. संजीव कुमार ने कहा कि जब से सेक्टर में सफाई के लिए नया ठेकेदार नियुक्त किया गया है, सफाई की समस्या बढ़ गई है। प्राधिकरण लोकेशन चार्ट आरडब्ल्यूए को नहीं दे रहा है। क्षेत्र की सफाई के लिए नामित स्वीपरों की संख्या के बारे में विवरण भी नहीं दे रहा है। आरडब्ल्यूए ने सफाई कर्मचारियों के ब्लॉकवाइज वितरण को भी कहा है। स्वीपरों की उपस्थिति भी आरडब्ल्यूए के साथ साझा नहीं की जा रही है।
  2. सेक्टर-51 में कुल 7 ब्लॉक हैं। पूर्व में यह अनुरोध किया गया था कि सात ब्लॉकों के अनुसार प्रत्येक ब्लॉक में कितने स्वीपर तैनात किए गए हैं, इसकी एक सूची तुरंत प्रदान की जानी चाहिए। ताकि आरडब्ल्यूए सेक्टर में बेहतर सफाई के लिए ठेकेदार पर एक चेक रख सके।
  3. डीएमआरसी के सेक्टर-52 मेट्रो स्टेशन का नाम बदलकर सेक्टर-51 होना चाहिए। क्योंकि सेक्टर-51 की जमीन पर मेट्रो स्टेशन बनाया गया है। जो पुलिस स्टेशन है, वह सेक्टर-49 है, जो सेक्टर-51 की देखभाल करता है। जबकि सेक्टर-52 क्षेत्र पुलिस स्टेशन सेक्टर-24 के अंतर्गत आता है। मेट्रो स्टेशन सेक्टर-52 के नाम और सेक्टर-24 में शिकायत की घटना से यात्री गुमराह हैं। उन्होंने यह भी बताया कि दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के अध्यक्ष ने आरटीआई के जवाब में कहा है कि उनके अनुसार मेट्रो स्टेशन का नाम भी 51 होना चाहिए, लेकिन नाम बदलना उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है। केवल नोएडा प्राधिकरण और राज्य सरकार नाम बदल सकते हैं। मेट्रो स्टेशन के निर्माण के लिए सेक्टर-51 के चिल्ड्रन पार्क की बहुत सी भूमि का उपयोग किया गया है। जिस भूखंड पर यह निर्माण किया गया है वह भूखंड ई -1, सेक्टर -51 है। इस मेट्रो स्टेशन का नाम बदलकर सेक्टर-51 करने के लिए जल्द से जल्द प्रक्रिया शुरू करें।
  4. आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष अनिल प्रकाश रनोत्रा ने कहा, नोएडा मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के निर्माण कार्य के दौरान क्षतिग्रस्त हुई ई-ब्लॉक ग्रीन बेल्ट को जल्द से जल्द ठीक करवाने की जरूरत है।
  5. इन दिनों सेक्टर-51 की अधिकांश सीवर लाइनें अवरुद्ध हो गई हैं। जिसका कारण नोएडा मेट्रो रेल कॉरपोरेशन का काम है। 4 साल पहले 3 बड़ी सीवर लाइनें सेक्टर-72 की ओर चली गई हैं। वह आज तक नहीं बन पाई हैं। सीवर लाइन की समस्याओं को भी जल्द से जल्द ठीक किया जाना चाहिए।
  6. राजीव कुमार ने कहा, गांव और सेक्टर के बीच सीमांकन बहुत आवश्यक है। हर महीने ग्रामीण हमारे सेक्टर के सुरक्षा गार्डों की पिटाई कर देते हैं।
  7. अदालत से यथास्थिति का आदेश आने के बावजूद भूमि पर अतिक्रमण किया जा रहा है। यथास्थिति के आदेशों का उल्लंघन किया जा रहा है। सेक्टर-51 से सटे पूरे ग्रामीण क्षेत्रों में अतिक्रम देखा जा सकता है।
  8. सेक्टर में लगभग 40 प्रतिशत नालियों को कवर नहीं किया गया है। नालियों के ऊपर कोई आवरण नहीं है। जिसके कारण सेक्टर के अंदर बहुत अधिक मच्छर का प्रकोप है। नाले के कवर के साथ नालियों के कवर की मांग की गई थी।
  9. इन दिनों सेक्टर-71 अंडरपास का काम रुका हुआ है, इसे जल्द से जल्द पूरा किया जाना चाहिए। इस निर्माण के कारण सेक्टर में ट्रैफिक बढ़ा है। हम इस अंडरपास के पूरा होने के बाद ही सेक्टर में शांति से रह पाएंगे। वर्तमान में पूरा यातायात सेक्टरों की आंतरिक सड़कों से गुजर रहा है। जब तक अंडरपास का निर्माण नहीं हो जाता है, तब तक लोगों को इस चौराहे पर बाईपास दिया जाना चाहिए। ताकि हम अपने सेक्टर के अंदर के अवांछित यातायात से छुटकारा पा सकें।

सेक्टर-41 आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष अनिल खन्ना ने ये मुद्दे उठाए

  1. आगाहपुर की तरफ स्थापित होने वाले गेट के लिए अनुमति प्रदान की जाए। यह गेट नहीं बनने के कारण सेक्टर के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
  2. पेड़ों की छंटाई करवाई जाए। सेक्टर-41 में स्पीड ब्रेकर पर सफेद लाइनिंग लगाई जाए। वाहन चालकों को स्पीड ब्रेकर दिखाई नहीं देते हैं। जिससे वह अक्सर दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं।

सेक्टर-50 आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष विमल शर्मा ने यह मुद्दे उठाए

  1. कोठारी स्कूल से चर्च तक ग्रीन बेल्ट की दीवार 5 फीट ऊंची होनी चाहिए और इसके ऊपर कांटेदार तार होने चाहिए।
  2. सेक्टर में पानी की निकासी के लिए बी-112 से कोठारी स्कूल तक नाली का निर्माण करवाया जाना चाहिए।
  3. सभी पार्कों के चारों ओर इंटरलॉकिंग टाइल्स की मरम्मत का कार्य करवाया जाए।
  4. मेघदूतम पार्क की तर्ज पर सेक्टर के ई-5 पार्क का जीर्णोद्धार कार्य किया जाना चाहिए।
  5. सेक्टर की सभी सड़कों का पुनरुत्थान करवाने की बहुत ज्यादा जरूरत है।
  6. सामुदायिक केंद्र के भीतरी हिस्सों में इंटरलॉकिंग टाइल्स की मरम्मत करवाने की जरूरत है।

सेक्टर-48 आरडब्ल्यूए बीसीडी के महासचिव पवन गोयल ने यह मुद्दे उठाए

  1. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के स्पष्ट आदेश के बावजूद 2 साल बाद भी सेक्टर में ग्रीन क्षेत्र की पुनर्स्थापना पर कोई कारगर कार्यवाही नहीं की गई है।
  2. सेक्टर का बहुत बड़ा भूभाग अतिक्रमण का शिकार है। यहां तक कि 2 सामुदायिक भवनों के लिए भूमि स्वीकृत होने पर भी अतिक्रमण के कारण सामुदायिक भवन अब तक उपलब्ध नहीं है।
  3. बिजली की तार वृक्षों से इस प्रकार ढक गए हैं कि थोड़ी भी तेज हवा चलने पर सेक्टर में विद्युत आपूर्ति रोक दी जाती। इन खुली तारों के स्थान पर इन्स्युलेटेड केबल का प्रावधान किया जाना चाहिए। ताकि यह समस्या हमेशा के लिए ही समाप्त हो जाए। इसका एक बड़ा फायदा होगा। सेक्टर में झुग्गियों द्वारा हो रही बिजली की चोरी को रोका जा सकेगा। 
  4. बरसात के पानी की निकासी की कोई भी उचित व्यवस्था नहीं है। सेक्टर में किसी भी काम के लिए आवंटित अनुबंध की प्रति सम्बंधित आरडब्ल्यूए को भी उपलब्ध कराई जानी चाहिए।

आरडब्ल्यूए सेक्टर-19 से लक्ष्मी नारायण और आरसी गुप्ता ने यह मुद्दे उठाए

  1. पानी की आपूर्ति में अक्सर कम दबाव रहता है। सेक्टर में प्रदूषित और अधिक गंदे पानी की आपूर्ति हो रही है
  2. एलईडी लाइट्स का मेंटेनेंस ठीक नहीं है। लाइटें 2-2 महीने तक खराब रहती हैं।
  3. सेक्टर के 5 पार्कों में प्रकाश व्यवस्था के लिए लगाए गए खंभे नीचे से टूट गए हैं। उन्हें बदलना होगा और 3 पार्कों में नई रोशनी उपलब्ध नहीं है। इन 8 पार्कों में पिछले 2 वर्षों से पोल का काम अटका हुआ है। आश्वासन के अलावा इस दिशा में कोई काम नहीं किया गया था।
  4. सेक्टर में सीवर लाइनों के निर्माण के बाद सीसी से बनी सड़कों का निर्माण पिछले एक साल से अटका हुआ है। कुछ सड़कों को डामर से बनाने का काम भी अधूरा छोड़ दिया गया है।
  5. सेक्टर में कई स्थानों पर स्थायी दुकानें बनाकर विक्रेताओं ने अतिक्रमण कर लिया है।

सेक्टर-72 आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष अजीत सिंह वर्मा ने यह मुद्दे उठाए

  1. ब्लॉक ए के पार्क में काफी जगह खाली पड़ी है, वहां करीब 60 -70 पेड़ पौधे लगाना बहुत जरूरी है। लेकिन कुछ सेक्टर के बाहर के लोग व्यवधान पैदा कर रहे हैं।
  2. बहुत सारे प्लॉट खाली पड़े हैं और कुछ कंप्लीशन करके छोड़ दिए हैं। इनमें बहुत बड़ी कटीली झाड़ियों और घास पैदा हो गए हैं। इनकी सफाई बहुत जरूरी  है। 

सेक्टर-30 आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष प्रमोद वर्मा ने यह मुद्दे उठाए

  1. हमारा सेक्टर कंटेनमेंट ज़ोन में है। टीवी, रेफ्रिजरेटर रिपेयर जैसे सर्विस प्रोवाइडर हमारे सेक्टर का दौरा करने से इनकार करते हैं। जबकि, हमारे सेक्टर में एक भी पॉजिटिव केस नहीं आया है।
  2. सभी सकारात्मक मामले सरकार के अस्पताल में हैं। इसलिए यदि वे सेक्टर 30 अस्पताल का उल्लेख करते हैं तो यह बेहतर होगा।
  3. नाली निर्माण का टेंडर लॉकडाउन होने से पहले लंबित है।
  4. रोड पर वाइट लाइन और ज़ेबरा मार्किंग 2019 के बाद से नहीं बनाए गए हैं। पहले चुनाव आचार संहिता का बहाना था। अब ऐसा कुछ नहीं है। अनुमति दें।
  5. बिजली और पानी का मुद्दा आम है। हमारे गेट के बाहर तक पॉवर केबल बिछाने की योजना भी लंबित पड़ी है
  6. पानी की गुणवत्ता अच्छी नहीं है और पानी का समय और प्रवाह कम है।

शताब्दी विहार सेक्टर 52 की महासचिव निवासी अंजलि सचदेवा ने यह मुद्दे उठाए

  1. विभिन्न पार्कों में स्थापित किए जा रहे सबमर्सिबल पंपों की गुणवत्ता की जांच होनी चाहिए। क्षमता को आरडब्ल्यूए के लिए बढ़ाना चाहिए और इन्हें वारंटी शर्तों के आधार पर स्थापित किया जाना चाहिए।
  2. पंप स्थापित होने के एक महीने के भीतर खराब हो रहे हैं। आरडब्ल्यूए को भी स्थापना रिपोर्ट पर हस्ताक्षर करना चाहिए। आरडब्ल्यूए के सत्यापन के बाद ही भुगतान किया जाना चाहिए।

मेट्रो अपार्टमेंट सेक्टर-71 की आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष सुभाष चौहान ने यह मुद्दे उठाए

  1. सेक्टर-71 में पिछले 8 महीनों में बागवानी विभाग में कोई ठेकेदार नहीं हैं। जिसके कारण हमारे सेक्टर में पार्कों की सफाई का काम नहीं हो रहा है।
  2. हमारे सेक्टर में 25-30 हजार की आबादी होने के बावजूद कोई बाजार नहीं हैं। जिसके कारण क्षेत्र के निवासियों को बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

सेक्टर-27 की आरडब्ल्यूए के महासचिव लोकेश कश्यप ने यह मुद्दे उठाए

  1. सेक्टर के ई और एफ ब्लॉक में मदर डेयरी बूथ की व्यवस्था की जानी चाहिए।
  2. इसके अलावा एसएबी मॉल में ई ब्लॉक पार्किंग की ऊपरी मंजिल पर अवैध पार्किंग को रोका जाना चाहिए। भूमिगत पार्किंग में अवैध और असामाजिक गतिविधियों को रोकने की मांग की।

सेक्टर-105 की आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष प्रदीप सक्सेना ने यह मुद्दे उठाए

  1. सेक्टर की पॉकेट ए एचआईजी फ्लैट में किसी भी प्रकार का बाजार न होने के कारण जनता को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है।
  2. सेक्टर-105, 108, 100, 104 आदि से परिवहन की कोई व्यवस्था नहीं है। इसके अलावा, सेक्टर-105 एचआईजी है।
  3. फ्लैटों के लिए किसी भी प्रकार का सामुदायिक भवन नहीं होने के कारण बहुत असुविधा होती है।

सेक्टर-53 की आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष अनिल कुमार सिंह ने यह मुद्दे उठाए

  1. नाली का काम लॉकडाउन से पहले शुरू हुआ। गेट नंबर-1 पर पुलिया बनाई गई है। जिससे गेट ढह गया और पुलिया और गेट का काम अभी भी लंबित है।
  2. प्राधिकरण द्वारा क्षेत्र की सीमा की दीवार का निर्माण किया गया था, लेकिन आज तक काम शुरू नहीं हुआ है
  3. सेक्टर में सड़क को दोबारा बनाने का काम कई वर्षों से लंबित है। जिससे सेक्टर की सड़कें बुरी तरह टूट गई हैं
  4. खाली प्लॉट में बहुत बड़ी झाड़ियां उग आए हैं, जिसमें सांप, बिच्छू का खतरा बढ़ गया है। कई बार बागवानी विभाग से अनुरोध किया गया है लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ है।

सेक्टर-100 की आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष सुमेर सिंह रावत ने यह मुद्दे उठाए

  1. आज तक बारिश के पानी की निकासी के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है। जिसके कारण बारिश के दिनों में जलभराव की समस्या का सामना करना पड़ता है।
  2. पार्कों के रखरखाव के लिए कोई ठेकेदार नियुक्त नहीं किया गया है। पार्कों की हालत बहुत दयनीय है। साफ और हरा रखने और ठीक से बनाए रखने में मदद करने का अनुरोध किया।
  3. आम्रपाली की तरफ से सेक्टर-100 में मेन गेट की तरफ 45 मीटर रोड पर आने वाली सड़क पर कोई बड़ा नाला नहीं बनाया गया है। जिसकी वजह से 45 मीटर का सारा पानी सेक्टर 100 की बाउंड्री वॉल के पास इकट्ठा हो जाता है और जलभराव हो जाता है।
  4. इसकी वजह से चारदीवारी गिरने की भी संभावना है। आपसे अनुरोध है कि आप सेक्टर-100 के साथ एक बड़े नाले के निर्माण में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
Noida, Noida News, Noida Authority, CEO Noida, Ritu Maheshwari IAS, DDRWA, District Development Residents Welfare Association, Residents Welfare Association, NMRC, Noida Metro Rail Corporation, DMRC, Delhi Metro Rail Corporation, Noida Metro, Greater Noida Metro, NP Singh FONRWA, FONRWA, RWAs in Noida

Most Viewed

नोएडा
नोएडा: ड्राइंगरूम में बैठा था परिवार, छत भरभराकर गिरी, शहर की पॉश हाउसिंग सोसायटी में हादसा
नोएडा: ड्राइंगरूम में बैठा था परिवार, छत भरभराकर गिरी, शहर की पॉश हाउसिंग सोसायटी में हादसा
ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा को केंद्र सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, देश के चुनिंदा 11 शहरों में शुमार होगा, पढ़िए पूरी खबर
ग्रेटर नोएडा को केंद्र सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, देश के चुनिंदा 11 शहरों में शुमार होगा, पढ़िए पूरी खबर
यमुना सिटी
बड़ी खबर: जेवर एयरपोर्ट की जमीन से गुजरने वाली 4 नहरों की शिफ्टिंग शुरू, पढ़िए पूरी खबर
बड़ी खबर: जेवर एयरपोर्ट की जमीन से गुजरने वाली 4 नहरों की शिफ्टिंग शुरू, पढ़िए पूरी खबर
ग्रेटर नोएडा वेस्ट
Greater Noida West BIG BREAKING: सोसाइटी में घुसकर प्रॉपर्टी डीलर को गोलियों से भूना, मौके पर ही मौत, साथी गंभीर रूप से घायल
Greater Noida West BIG BREAKING: सोसाइटी में घुसकर प्रॉपर्टी डीलर को गोलियों से भूना, मौके पर ही मौत, साथी गंभीर रूप से घायल
ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा: शेर सिंह भाटी हत्याकांड ने तूल पकड़ा, शुक्रवार को दादरी में महापंचायत, भाजपा नेता ने कहा- अख़लाक़ के लिए रोने वालों ये हमारा भाई है
ग्रेटर नोएडा: शेर सिंह भाटी हत्याकांड ने तूल पकड़ा, शुक्रवार को दादरी में महापंचायत, भाजपा नेता ने कहा- अख़लाक़ के लिए रोने वालों ये हमारा भाई है