डीएम ग्रेटर नोएडा वेस्ट के निवासियों से हुए मुखातिब, 21 मुद्दों पर हुई चर्चा

Updated Jun 29, 2020 18:31:47 IST | Mayank Tawer

फ्लैट खरीदारों की संस्था नेफोवा ने गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एलवाई, दादरी के एसडीएम...

डीएम ग्रेटर नोएडा वेस्ट के निवासियों से हुए मुखातिब, 21 मुद्दों पर हुई चर्चा
Photo Credit:  Tricity Today
गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एलवाई
Key Highlights
नेफोवा के प्रस्ताव पर डीएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की
मीटिंग में ग्रेनो वेस्ट के 100 निवासियों ने भाग लिया
लोगों ने 21 मुद्दों पर डीएम और एसडीएम से चर्चा की
इनमें सुरक्षा, पर्यावरण, चिकित्सा, शिक्षा के मुद्दे मुख्य रहे

फ्लैट खरीदारों की संस्था नेफोवा ने गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एलवाई, दादरी के एसडीएम और अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के साथ सोमवार को वेबिनार का आयोजन किया। वेबिनार में ग्रेटर नोएडा वेस्ट की विभिन्न सोसाइटी से आरडब्ल्यूए, एओए और लगभग 100 फ्लैट मालिकों ने भाग लिया।

नेफोवा के अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने बताया कि शहर के निवासियों ने अपनी समस्याएं जिलाधिकारी और उप जिलाधिकारी के सामने रखी हैं। लोगों ने डीएम को स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़ी समस्या, ट्रैफिक जाम, अतिक्रमण, सड़कों की बदहाली, खराब पर्यावरण और सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर जानकारी दी है। जिलाधिकारी ने समस्याएं सुनी और उनका समाधान करने का आश्वासन दिया है।

डीएम के साथ ग्रेटर नोएडा वेस्ट के लोगों की इन मुद्दों पर चर्चा हुई

  1. बिसरख हेल्थ सेंटर में 24X7 कोरोना जांच की सुविधा दी जाए। अभी हफ्ते में केवल दो दिन ही जांच हो रही है।
  2. कोरोना मरीज के परिजनों की जल्द से जल्द (तत्काल) कोरोना जांच की जाए। परिजनों की जांच के लिए सैंपल घर से ही लिए जाएं।
  3. कोरोना के लिए डीएम हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करने के बाद सहायता मिलने तक के समय में सुधार की जरुरत है। जैसे फ़ोन करने के 5-6 घंटे बाद भी एम्बुलेंस नहीं आती है। कभी कभी 1-2 दिन भी लग जाते हैं।
  4. मास्क के नियमों का कड़ाई से पालन करवाया जाए। इसके लिए सभी पुलिस कांस्टेबल, ट्रैफिक कांस्टेबल और सभी सरकारी कर्मचारी, जो स्वास्थ्य सम्बन्धी कार्यों में लगे हुए हैं, उन्हें चालान करने के लिए अधिकृत किया जाए।
  5. मास्क के नियमों का सोसाइटी परिसर में भी कड़ाई से पालन करवाया जाए।
  6. किसी सोसाइटी में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में लगे सभी आशा हेल्थ वर्कर्स को थर्मामीटर, ऑक्सीमीटर और सैनिटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित करें।
  7. सभी सोसाइटी के फैसिलिटी मैनेजर, एओए औरआरडब्ल्यूए को निर्देशित किया जाए कि जहां कोरोना का मरीज मिला हो, उस मंजिल पर सभी परिवार के सदस्यों के तापमान और ऑक्सीजन स्तर की नियमित निगरानी की जाए। यही निगरानी सोसाइटी के वरिष्ठ नागरिकों की भी की जानी चाहिए।
  8. एसडीएम दादरी ने माइक्रो लेवल मॉनिटरिंग के लिए पूरे क्षेत्र को अलग-अलग जोन में विभाजित कर दिया है और हर जोन का इंचार्ज अलग-अलग लोग हैं। जिससे सोसाइटी के हिसाब से मॉनिटरिंग हो रही है। यह बहुत ही बढ़िया और स्वागत योग्य कार्य है। 
  9. वृक्षारोपण: बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण करने की आवश्यकता है। प्रत्येक पौधे को ट्री गार्ड के साथ ही लगाया जाना चाहिए।
  10. सभी मकान मालिकों को 2020-21 में मकान का किराया नहीं बढ़ाने के लिए निर्देशित किया जाए। 
  11. सभी बिल्डरों, आरडब्ल्यूए और एओए को 2020-21 में रखरखाव शुल्क नहीं बढ़ाने और लॉकडाउन अवधि के दौरान क्लब शुल्क नहीं लेने के लिए निर्देशित किया जाए। 
  12. बिल्डर किसी एक खास वेंडर से समझौते की बात कहकर सोसाइटी के अंदर इंटरनेट सेवाओं के लिए अलग-अलग वेंडर को प्रवेश की अनुमति नहीं देता है। बिल्डर के इस रवैये को समाप्त करने के लिए डीएम कार्यालय से आदेश की आवश्यकता है।
  13. महिला सुरक्षा के लिए महिला पुलिस की तैनाती करवाई जानी चाहिए।
  14. स्कूलों को अपने कर्मचारियों और शिक्षकों को समय से वेतन देने का आदेश।
  15. स्कूल कोरोना महामारी अवधि के दौरान फीस की मांग नहीं करें। 
  16. प्रदूषण: जिले में प्रदूषण को कम करने के लिए वृहद स्तर पर सुधार की आवश्यकता है।
  17. प्रदूषण विभाग द्वारा लगाए गए जुर्माने की 15 दिन के अंदर वसूली किया जाए। वसूली न होने पर जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जाए।
  18. धूल रहित सड़कें: यदि सडकों पर धूल मिट्टी पाई जाती है तो संबंधित सफाई ठेकेदार या संबंधित नगर पालिका, प्राधिकरण पर जुर्माना लगाया जाए। 
  19. बिल्डरों द्वारा परियोजना में मिट्टी खोदने और मिट्टी और अन्य निर्माण सामग्री के परिवहन के दौरान एनजीटी मानदंडों का सख्ती से पालन कराया जाना सुनिश्चित करें। 
  20. बिना चिमनी के डीजी सेट चलाने और एसटीपी चलाने वाले बिल्डरों पर सख्त कार्रवाई की जाए। 
  21. सभी पुलिस कांस्टेबल और ट्रैफिक कांस्टेबल को चालान करने की अनुमति दें। यदि ट्रैक्टर या ट्रक ने क्षमता से अधिक मिट्टी भर रखी हो या फिर परिवहन के दौरान मिट्टी या अन्य कंस्ट्रक्शन मटेरियल को पूर्ण रूप से ढका हुआ ना हो तो भारी जुर्माना लगाया जाना चाहिए।
NEFOWA, DM Noida, DM Gautam Buddh Nagar, DM GB Nagar, Abhishek Kumar NEFOWA, Greater Noida, Greater Noida News, Noida, Noida News, Greater Noida West, Noida Extension, Noida Extension News, Greater Noida West News, Suhas LY IAS, Uttar Pradesh, Uttar Pradesh News, UP News, SDM Dadri