मुज़फ्फरनगर का रहने वाला बड़ा अफसर मुरादाबाद में तैनात, कोरोना के नाम पर परिवार से अलग गाज़ियाबाद में रंगरलियां मनाते पकड़ा गया, नोएडा में दर्ज हुई एफआईआर

Updated Sep 26, 2020 15:27:17 IST | Rakesh Tyagi

मुज़फ्फरनगर का एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी गाज़ियाबाद की एक हाऊसिंग सोसायटी में रंगरलियां मनाते हुए...

मुज़फ्फरनगर का रहने वाला बड़ा अफसर मुरादाबाद में तैनात, कोरोना के नाम पर परिवार से अलग गाज़ियाबाद में रंगरलियां मनाते पकड़ा गया, नोएडा में दर्ज हुई एफआईआर
Photo Credit:  Google Image
पत्नी ने रंगे हाथ पकड़ा

मुज़फ्फरनगर का एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी गाज़ियाबाद की एक हाऊसिंग सोसायटी में रंगरलियां मनाते हुए पकड़ा गया। किसी और ने नहीं खुद अफसर की बीवी उसे रंगे हाथ पकड़ लिया। यह अधिकारी खुद को कोरोना पॉजिटिव बताकर परिवार से अलग रह रहे था। पत्नी को शक हुआ तो वह गाजियाबाद पहुंच गई। बड़ी बात यह कि अधिकारी ने पकड़े जाने के बावजूद पत्नी से मारपीट की। अब पत्नी ने यूपी की राजयपाल आनंदी बेन पटेल और डीजीपी से शिकायत की है। अफसर के खिलाफ नोएडा में एफआईआर दर्ज करवाई है।

मिली जानकारी के मुताबिक मुज़फ्फरनगर का मूल निवासी यह अधिकारी आजकल मुरादाबाद जिले में तैनात है। घर नोएडा में बना रखा है। अधिकारी कई दिनों से अपने घर नोएडा नहीं जा रहे थे। पत्नी को बताया था कि कोराेना हो गया है और आइसोलेशन में हैं। पत्नी लगातार उनसे फोन पर बात करती रही। इसी बीच किसी ने पत्नी को फोन करके बताया कि अधिकारी किसी दूसरी महिला के साथ गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन में अपने दूसरे मकान में रह रहे हैं।

पुलिस महानिदेशक और राज्यपाल से शिकायत

जानकारी मिलने के बाद पत्नी आग बबूला हो गई। वह बताए गए पते पर राजनगर एक्सटेंशन पहुंच गई। पति को महिला के साथ रंगे हाथों पकड़ लिया। आरोप है कि पकड़े जाने पर अधिकारी ने मौके पर ही अपनी पत्नी के साथ मारपीट की। इससे वहां बखेड़ा खड़ा हो गया। पत्नी ने इस बारे में पुलिस महानिदेशक और राज्यपाल को ट्वीट करके शिकायत की है।

दोनों को 28 साल पहले शादी, दो जवान बच्चे  

अब नोएडा के सेक्टर-52 की निवासी मनीषा ने पुलिस को बताया कि वह मूल रूप से गुजरात की रहने वाली हैं। 28 साल पहले 1992 में उसकी शादी मुजफ्फरनगर के मूल निवासी राजेश कुमार सिंह के साथ हुई थी। राजेश कुमार सिंह मुरादाबाद में जिला पंचायत राज अधिकारी के पद पर तैनात है। हमारी एक 25 वर्षीय बेटी और एक 20 वर्षीय बेटा है। बेटी विदेश में पढ़ रही है। हमारा दूसरा घर राजनगर में है। मनीषा ने आरोप लगाया कि शादी के बाद से ही ससुराल पक्ष के लोग उन्हें दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे। वह वैवाहिक जीवन को बचाने के लिए जुल्म सहती रही हैं। 

मुरादाबाद से हफ्ते में दो दिन आता था गाजियाबाद

बताया जाता है कि मनीषा के पिता सेवानिवृत्त आईएएस और भाई पीसीएस अफसर हैं। मनीषा ने बताया कि वह अपने बच्चों के साथ नोएडा में रहती हैं। पति खुद को कोरोना पॉजिटिव बताकर नोएडा नहीं आ रहे थे। पति ने राजनगर वाले घर में एक युवती को रखा हुआ था। पड़ोसियों ने उन्हें गाज़ियाबाद वाले घर में एक युवती के रहने की सूचना दी थी। बताया कि उनके पति हफ्ते में दो दिन सरकारी गाड़ी से मुरादाबाद से राजनगर आवास पर आते हैं।

राजनगर में पड़ोसियों ने खोली पोल

मनीषा के पति सोमवार की रात भी करीब नौ बजे अपनी सरकारी गाड़ी से राजनगर वाले घर आए थे। पड़ोसियों ने तुरंत उन्हें इसकी सूचना दी। वह अपने बेटे को साथ लेकर नोएडा से राजनगर पहुंची। जब वह घर में घुसी तो कमरे में पति युवती के साथ आपत्तिजनक स्थिति में थे। इसका विरोध करने पर पति ने उनके साथ मारपीट की। उन्होंने युवती को घर से भगाकर मकान में ताला लगा दिया। इस पूरे घटनाक्रम के बारे में अधिकारी का कहना है कि उसके ऊपर लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं। उसके किसी युवती के साथ अवैध संबंध नही हैं।

महिला ने कहा, अवैध रूप से दूसरी शादी की

मनीषा ने बताया कि ऐसा पहली बार नहीं है। उसका पति पहले भी कई-कई दिन तक घर से गायब हो जाता था। कुछ नहीं बतात था। कोरोना के दौरान उन्होंने बताया था कि वह मुरादाबाद में ही ड्यूटी पर हैं। उन्हें होम क्वारंटीन का आदेश दिया गया है। मनीषा ने महिला थाने में डीपीआरओ पर अवैध रूप से दूसरी शादी करने, गाली-गलौज करने, मारपीट करने और जान से मारने की धमकी देने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है। पीड़िता ने इस मामले में अपनी ननद और नंदोई को भी आरोपी बनाया है। 

काली सम्पत्ति अर्जित करने आरोप

नोएडा पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। महिला ने बताया कि उनके पति ने यह दो मकान अवैध संपत्ति से खरीदे हैं। इसके अलावा उन्होंने कई स्थानों पर संपत्ति खरीद रखी है। वह अपने साथ सरकारी चपरासी को भी लेकर चलते हैं। उनके सास-ससुर की मौत हो चुकी है। नोएडा के एडिशनल डीसीपी रण विजय सिंह ने बताया कि उच्च अधिकारियों के आदेश पर मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। तथ्यों और साक्ष्यों के आधार पर विधिक कार्रवाई की जाएगी।

Ghaziabad Police, Noida Police, Muzaffarnagar Police, Moradabad Police