BREAKING: नोएडा और ग्रेटर नोएडा में 315 कंटेनमेंट जोन बने, जिला प्रशासन ने नई लिस्ट जारी की, देखिए

BREAKING: नोएडा और ग्रेटर नोएडा में 315 कंटेनमेंट जोन बने, जिला प्रशासन ने नई लिस्ट जारी की, देखिए

BREAKING: नोएडा और ग्रेटर नोएडा में 315 कंटेनमेंट जोन बने, जिला प्रशासन ने नई लिस्ट जारी की, देखिए

Google Image | कंटेनमेंट जोन

BREAKING: नोएडा और ग्रेटर नोएडा में 315 कंटेनमेंट जोन बने, जिला प्रशासन ने नई लिस्ट जारी की, देखिए
शुक्रवार की शाम जारी की गई लिस्ट में 315 कंटेनमेंट जोन का नाम हैं।ganga258 कंटेनमेंट जोन श्रेणी एक में और 57 कंटेनमेंट जोन श्रेणी दो में हैं।gangaअब गौतमबुद्ध नगर जिले में कोरोना मरीजों की संख्या 2477 हो गई है।ganga लोगों की हत्या करने के बाद हत्यारे लाशों को यहां ठिकाने लगा जाते हैं।gangaदादरी इलाका बदमाशों के लिए लाशों का डम्पिंग यार्ड बन गया है

गौतम बुध नगर जिला प्रशासन ने कंटेनमेंट जोन की नई लिस्ट एक बार फिर जारी की है। शुक्रवार की शाम जारी की गई लिस्ट में 315 कंटेनमेंट जोन का नाम हैं। इनमें से 258 कंटेनमेंट जोन श्रेणी एक में शामिल किए गए हैं और 57 कंटेनमेंट जोन श्रेणी दो में शामिल किए गए हैं। यह अब तक की सबसे ज्यादा संख्या है। दादरी इलाका लाशों का डम्पिंग यार्ड बन गया है। लोगों की हत्या करने के बाद हत्यारे लाशों को यहां ठिकाने लगा जाते हैं।

श्रेणी एक में रखे गए कंटेनमेंट जोन ऐसे हैं, जहां अब तक संक्रमण का केवल एक ही मामला रिपोर्ट किया गया है। मतलब, वहां का कोई निवासी अभी एक्टिव केस है और उसका जिले के कोविड-19 अस्पताल में उपचार चल रहा है। श्रेणी दो के कंटेनमेंट जोन ऐसे आवासीय इलाके हैं, जहां एक से अधिक लोग संक्रमण की चपेट में आकर बीमार पड़े हुए हैं। रेडी एक्टर कंटेनमेंट जोन का धारा 250 मीटर होता है और श्रेणी-2 के कंटेनमेंट जोन का दायरा 500 मीटर होता है।

मल्टीस्टोरी बिल्डिंगों के मामले में मानक थोड़े अलग हैं। हाउसिंग सोसाइटीज के जिस टावर में संक्रमित व्यक्ति निवास करता है, उसे कंटेनमेंट जोन माना जाता है। बाकी पूरी हाउसिंग सोसायटी को सीलिंग से मुक्त रखा जाता है। अगर हाउसिंग सोसायटी के एक से अधिक टावरों में संक्रमण के मामले सामने आते हैं तो वहां संक्रमित व्यक्तियों के निवास वाले टावर सील कर दिए जाते हैं। साथ ही कॉमन फैसिलिटी को भी सीलिंग के दायरे में रखा जाता है।

 

उत्तर प्रदेश के स्टेट सर्विलांस ऑफिसर ने गुरुवार की दोपहर बाद 3:00 बजे ताजा आंकड़े जारी किए थे। रिपोर्ट में बताया गया कि गौतम बुध नगर में पिछले 24 घंटों के दौरान 116 नए मरीज दर्ज किए गए। जिसके चलते गौतम बुध नगर में गुरुवार तक संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 2477 तक पहुंच गई थी।

दूसरी ओर गुरुवार को अस्पतालों से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की संख्या बेहद कम रही थी। गुरुवार को जिले के कोविड-19 अस्पतालों से केवल 3 मरीज स्वस्थ होकर घर वापस लौटे थे। अब जिले के 6 अस्पतालों में 929 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। अब तक 1526 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद उनके घर वापस भेज दिया गया है।

पिछले एक सप्ताह के दौरान जिले में कोई मौत नहीं

इन बुरे हालातों के बीच एक अच्छी खबर भी है। पिछले एक सप्ताह के दौरान गौतमबुद्ध नगर में कोरोना वायरस के संक्रमण से कोई मौत नहीं हुई है। अभी तक जिले में केवल 22 लोगों की मौत संक्रमण की चपेट में आने के कारण हुई हैं। हालांकि चिंता की बात यही है कि जिले में रोजाना बड़ी संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं। हालात का जायजा लेने के लिए उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ग्रेटर नोएडा पहुंचे। मंत्री ने प्रशासनिक अधिकारियों और स्वास्थ्य विभाग के साथ बैठक की। सुरेश खन्ना ने आदेश दिया कि किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं बरती जाए। मंत्री ने कोरोना वायरस से संक्रमण का उपचार करवा रहे मरीजों से भी मुलाकात की।

देखिए कंटेनमेंट जोन की नई सूची। पीडीएफ फाइल का साइज बड़ा है। इस कारण लिस्ट ओपन होने में थोड़ा समय लग सकता है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.