Greater Noida: कोरोना संक्रमण से ठीक होकर लौटी एमबीबीएस स्टूडेंट और इंजीनियर ने बताया कैसे हुए संक्रमित, कैसे हुए ठीक

Updated Mar 26, 2020 18:10:55 IST | Rakesh Tyagi

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद ग्रेटर नोएडा के राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती करवाए गए दो रोगियों को गुरुवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी है। दोनों खुशी-खुशी अपने घर पहुंच गए हैं। दोनों मरीज नोएडा के निवासी हैं। इनमें एक लड़की एमबीबीएस की छात्रा है और वह जॉर्जिया में पढ़ती है। दूसरा रोगी इंजीनियर...

Photo Credit:  Tricity Today
कोरोना संक्रमण से ठीक होकर लौटी एमबीबीएस स्टूडेंट और इंजीनियर

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद ग्रेटर नोएडा के राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती करवाए गए दो रोगियों को गुरुवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी है। दोनों खुशी-खुशी अपने घर पहुंच गए हैं। दोनों मरीज नोएडा के निवासी हैं। इनमें एक लड़की एमबीबीएस की छात्रा है और वह जॉर्जिया में पढ़ती है। दूसरा रोगी इंजीनियर है। राजकीय विज्ञान संस्थान से छुट्टी मिलने के बाद उन्होंने अपने अनुभवों के बारे में ट्राइसिटी टुडे से बातचीत की हम यहां उनकी गोपनीयता को बनाए रखने के लिए नाम और पते प्रकाशित नहीं कर रहे हैं।

जार्जिया में एमबीबीएस की पढ़ाई करने वाली युवती ने बताया कि वह फ्रांस गई थी। वहां से 12 मार्च को वापस आई। दिक्कत आने पर जिम्स में जांच कराई तो कोरोनो पॉजिटिव पाई गई। 15 मार्च को यहां भर्ती हुई थी। यहां पर बेहतर सुविधाएं मिलीं। यहां अस्पताल में किताबें पढ़कर, टीवी देखकर और मोबाइल में गेम खेलकर समय बिताया। डाॅक्टरों का बहुत बहुत धन्यवाद है। उन्होंने लोगों से अपील की कि सरकार के नियमों का पालन करें, तभी सब लोग इससे बच पाएंगे। बेहतर इलाज मिला और स्वास्थ होकर जा रहे हैं, बहुत खुश हैं।

वहीं, साफटवेयर इंजीनियर अपने ऑफिस के टूर से इंडोनेशिया गए थे। फरवरी के आखिरी सप्ताह में गए थे और 2 मार्च को वापस आ गए। 16 दिन तक घर पर क्वारंटाइन रहे। बाहर से आने के कारण कोरोना टेस्ट कराया तो पाजिटिव निकला। इसके बाद 18 मार्च को जिम्स में भर्ती हुए। डाॅक्टरों ने पूरा सपोर्ट किया। डाॅक्टरों ने केयर किया। यही कारण है कि आज यहां से स्वस्थ होकर जा रहे हैं। किताबें पढ़कर और टीवी देखकर समय बिताया है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे डरें नहीं बल्कि सतर्कता बरतें।