नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना प्राधिकरण लखनऊ डिफेंस एक्सपो में पेश कर रहे हैं यूपी की ताकत

Updated Feb 05, 2020 20:16:03 IST | TriCity Today Correspondent

नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण बुधवार को लखनऊ में शुरू हुए डिफेंस एक्सपो-2020 में शामिल हुए हैं। तीनों विकास प्राधिकरणों के अधिकारियों ने एक्सपो में आने वाले निवेशकों को तीनों औद्योगिक शहरों में उपलब्ध अवसरों की जानकारी दी। प्राधिकरणों की कोशिश है कि एक्सपो...

Photo Credit:  Tricity Today
विदेशी निवेशकों को जानकारी देते यमुना प्राधिकरण के सीईओ डा. अरुणवीर सिंह और ओएसडी शैलेंद्र भाटिया
Key Highlights
तीनों विकास प्राधिकरणों के अधिकारियों ने एक्सपो में आने वाले निवेशकों को तीनों औद्योगिक शहरों में उपलब्ध अवसरों की जानकारी दी। प्राधिकरणों की कोशिश है कि एक्सपो में आ रहे दुनियाभर के निवेशकों को आकृषित किया जाए।
यूपी सरकार को उम्मीद है कि रक्षा मेन्यूफेक्चरिंग हब यमुना एक्सप्रेस वे पर स्थापित किया जा सकता है, क्योंकि यहां बड़ी परियोजनाओं के लिए पर्याप्त जमीन उपलब्ध है।
उत्तर प्रदेश सरकार चाहती है कि नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण अपनी मेगा परियोजनाओं और रक्षा एक्सपो में उनकी भव्यता का प्रदर्शन करें ताकि अंतरराष्ट्रीय रक्षा निर्माताओं को वास्तविक यूपी और इसकी ताकत का पता चल सके।

नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण बुधवार को लखनऊ में शुरू हुए डिफेंस एक्सपो-2020 में शामिल हुए हैं। तीनों विकास प्राधिकरणों के अधिकारियों ने एक्सपो में आने वाले निवेशकों को तीनों औद्योगिक शहरों में उपलब्ध अवसरों की जानकारी दी। प्राधिकरणों की कोशिश है कि एक्सपो में आ रहे दुनियाभर के निवेशकों को आकृषित किया जाए।

राज्य सरकार ने तीनों औद्योगिक विकास प्राधिकरणों नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे के शीर्ष अधिकारियों को एक्सपो में स्टॉल लगाने और अपनी औद्योगिक नीतियों, बुनियादी ढांचा परियोजनाओं और प्रस्तावित मेगा परियोजनाओं जैसे नोएडा अंतरराष्ट्रीय ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे के बारे में प्रस्तुतिकरण देने का आदेश दिया है। वहीं, 165 किलोमीटर लंबा यमुना एक्सप्रेस वे ग्रेटर नोएडा को आगरा से जोड़ता है।

सरकार के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, उत्तर प्रदेश सरकार चाहती है कि नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण अपनी मेगा परियोजनाओं और रक्षा एक्सपो में उनकी भव्यता का प्रदर्शन करें ताकि अंतरराष्ट्रीय रक्षा निर्माताओं को वास्तविक यूपी और इसकी ताकत का पता चल सके। सरकार चाहती है कि अंतरराष्ट्रीय निवेशक यह जानें कि यूपी में निवेश करने के लिए कई विकल्प और औद्योगिक योजनाएं उपलब्ध हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार उत्सुकता से रक्षा एक्सपो-2020 के माध्यम से बुंदेलखंड और पूर्वी यूपी के अन्य शहरों में प्रस्तावित अपने रक्षा विनिर्माण हब में निवेश की तलाश कर रही है। एक्सपो 5 फरवरी को शुरू हुआ और 9 फरवरी को समाप्त होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ में डिफेंस एक्सपो-2020 का उद्घाटन किया है।

अधिकारियों ने कहा कि इस आयोजन में अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, रूस, इजरायल और ऑस्ट्रेलिया की 165 विदेशी कंपनियों सहित लगभग 1,000 प्रदर्शक भाग ले रहे हैं। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी नरेंद्र भूषण ने कहा, 'हम इस आयोजन में निवेशकों के लिए चल रही औद्योगिक योजनाओं की जानकारी दे रहे हैं ताकि वे अपनी निवेश योजनाओं के बारे में फैसला कर सकें। हम उन्हें बता रहे हैं कि ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे, मेट्रो कनेक्टिविटी, ईईएल कनेक्टिविटी, दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारा और निवेशकों का समर्थन करने के लिए अन्य सुविधाएं जैसे विश्वस्तरीय सड़कें हैं।'

अधिकारियों ने कहा कि यूपी सरकार को उम्मीद है कि रक्षा मेन्यूफेक्चरिंग हब यमुना एक्सप्रेस वे पर स्थापित किया जा सकता है, क्योंकि यहां बड़ी परियोजनाओं के लिए पर्याप्त जमीन उपलब्ध है। यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के विशेष कार्याधिकारी शैलेन्द्र भाटिया ने कहा, ''हमने इस आयोजन में अपनी औद्योगिक योजनाओं के बारे में प्रस्तुतियां दी हैं।''