VIDEO: नोएडा पुलिस ने दिल जीत लिया, लॉक डाउन के मसीहा बने पुलिस वाले, 112 हेल्पलाइन नहीं लाइफ लाइन बनी

Updated Mar 26, 2020 15:42:48 IST | Chief editor

कोरोना वायरस के लिए जारी लॉक डाउन के बीच नोएडा पुलिस एक अलग ही चेहरे के साथ उभरी है। पुलिस वाले महज एक कॉल पर लोगों की मदद करने पहुंच रहे हैं। भूखे बच्चों, गरीब परिवारों, गर्भवती महिलाओं और परेशान युवतियों की मदद करने के लिए पुलिस दिन-रात मेहनत कर रही...

Photo Credit:  Tricity Today
112 helpline became a lifeline

कोरोना वायरस के लिए जारी लॉक डाउन के बीच नोएडा पुलिस एक अलग ही चेहरे के साथ उभरी है। पुलिस वाले महज एक कॉल पर लोगों की मदद करने पहुंच रहे हैं। भूखे बच्चों, गरीब परिवारों, गर्भवती महिलाओं और परेशान युवतियों की मदद करने के लिए पुलिस दिन-रात मेहनत कर रही है। यूपी पुलिस का हेल्पलाइन नंबर 112 तो मानो हेल्पलाइन की बजाय लाइफ लाइन बन चुका है। पुलिस वाले ने केवल लोगों की मदद कर रहे हैं बल्कि कोरोना वायरस से बचाव के उपायों की भी जानकारी सेक्टर, गांव, गली मोहल्लों और सोसायटीज में जाकर दे रहे हैं। बड़ी बात यह है कि इस लॉक डाउन और सख्ती के बीच अब तक एक भी शिकायत ऐसी नहीं आई है, जिसमें पुलिस के रवैए को गैर जिम्मेदाराना और कठोर कहा जा सके।

  • लॉक डाउन के बीच 24 घंटे से अकेले ग्रेटर नोएडा नॉलेज पार्क के एक पीजी हाउस में रह रही छात्रा ने बुधवार की रात पुलिस को 112 कॉल की। बताया कि वह करीब 24 घण्टों से भूखी और अकेली है। उसकी सभी साथी अपने-अपने घर चली गई हैं। एसएचओ नॉलेज पार्क और महिला पुलिसकर्मी छात्रा के पास पहुंची और उसे गुरुग्राम (हरियाणा) रवाना किया। इस छात्रा के परिजन गुरुग्राम में रहते हैं। छात्रा ने हेल्पलाइन नंबर पर फोन करके मदद मांगी थी।
  • ग्रेटर नोएडा के थाना बीटा-2 क्षेत्र के सेक्टर-36 से जानकारी मिली कि एक दिव्यांग और उनका परिवार परेशान है। पुलिस ने दिव्यांग के परिवार को खाने-पीने का राशन देकर सहायता दी।
  • गुरुवार की सुबह नोएडा के थाना सेक्टर-24 की चौकी हरिदर्शन पुलिस को सूचना मिली कि एक गर्भवती महिला को प्रसव पीड़ा है। सूचना मिलने पर चौकी इंचार्ज ने गर्भवती महिला को प्रसव के ग्राम झुंडपुरा से लेकर ESIC हॉस्पिटल सेक्टर-24 में सुरक्षित भर्ती कराया है।
  • नोएडा पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान एक महिला और उसके छोटे बच्चे जो तीन दिन से भूखे थे, उन्हें राशन देकर सहायता की। 
  • बुधवार की रात 112 पर काॅलर संजू ने सूचना दी कि तिलपता कंटेनर डिपो के पास झुग्गी झोपड़ियों में करीब 82 लोग और बच्चे भूख से परेशान हैं। डायल 112 के इंस्पेक्टर ने 50 किलो चावल और 25 किलो दाल उपलब्ध करवाई। 
  • बुधवार की शाम बिसरख थाने के अंतर्गत आने वाली चौकी निराला एस्टेट के चौकी इंचार्ज सोनू भड़ाना ने झुग्गी झोपड़ी में जाकर खाने का सामान बांटा है।