गौतमबुद्ध नगर बनेगा देश का पहला एरोट्रोपोलिस, जेवर एयरपोर्ट की बदौलत हासिल होगी यह उपलब्धि, जानिए क्या होता है एरोट्रोपोलिस

Updated Oct 18, 2020 06:19:33 IST | Anika Gupta

जैसे-जैसे Jewar Airport प्रोजेक्ट आगे बढ़ रहा है, उसके साथ Gautam Buddh Nagar के खाते में उपलब्धियां बढ़ रही हैं। अब जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की बदौलत गौतमबुद्ध नगर....

गौतमबुद्ध नगर बनेगा देश का पहला एरोट्रोपोलिस, जेवर एयरपोर्ट की बदौलत हासिल होगी यह उपलब्धि, जानिए क्या होता है एरोट्रोपोलिस
Photo Credit:  Wikipedia
Taoyuan Aerotropolis, Taiwan

जैसे-जैसे Jewar Airport प्रोजेक्ट आगे बढ़ रहा है, उसके साथ Gautam Buddh Nagar के खाते में उपलब्धियां बढ़ रही हैं। अब जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की बदौलत गौतमबुद्ध नगर देश का पहला एरोट्रोपोलिस बन जाएगा। इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार और यमुना प्राधिकरण ने तेजी से काम शुरू कर दिया है। जिले में एयरपोर्ट के चारों ओर मध्यम, लघु और सूक्ष्म उद्योगों के साथ-साथ कृषि क्षेत्र से जुड़ी आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा। इस मुद्दे को लेकर एमएसएमई और निर्यात प्रोत्साहन विभाग के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल और यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ. अरुणवीर सिंह के बीच शुक्रवार को बैठक हुई। इस बैठक में एयरपोर्ट के कामकाज की समीक्षा भी की गई है।

नवनीत सहगल ने बइठल के बाद एक पत्रकार वार्ता में कहा, "करीब 5,000 एकड़ में फैले जेवर हवाई अड्डे को लेकर तेजी से काम चल रहा है। यह न केवल देश का बल्कि एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा होगा। जिसमें छह रनवे होंगे। जेवर एयरपोर्ट गौतमबुद्ध नगर जिले को देश के पहले एयरोट्रोपोलिस का रूप देगा। यहां बड़े पैमाने पर व्यावसायिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। जिसके परिणामस्वरूप स्थानीय लोगों के साथ-साथ जिले के बाहर से आने वालों के लिए भी रोजगार के अवसर पैदा होंगे।"

यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण और एनआईएएल के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ.अरुण वीर सिंह भी इस बैठक में शामिल हुए। उन्होंने बातचीत में कहा, "एयरपोर्ट का निर्माण 2021 में शुरू होगा और शुरुआत 2024 में करने की योजना है। पहले चरण का काम पूरा होने पर हम जेवर हवाई अड्डे से सालाना 1.2 से 1.6 करोड़ यात्रियों को उड्डयन सुविधाएं देंगे।” उन्होंने आगे कहा कि जेवर को दुनिया का एक लोकप्रिय एयरोट्रोपोलिस बनाने की योजना है।

एरोट्रोपोलिस क्या होता है

एरोट्रोपोलिस एक ऐसा महानगरीय उपसमूह होता है, जिसका बुनियादी ढांचा, भूमि उपयोग और अर्थव्यवस्था एक हवाई अड्डे पर केंद्रित होती है। यह "एयरो" (उड्डयन) और मेट्रोपोलिस "महानगर" शब्दों को प्रतिबिंबित करता है। पारंपरिक महानगर की तरह एक केंद्रीय शहर होता है और उसके बाहरी इलाकों से जुड़े उपनगरों को मिलाकर बनता है। एयरोट्रोपोलिस में हवाई अड्डे के वैमानिकी, रसद व्यापर और वाणिज्यिक उपयोग के लिए बुनियादी ढांचे होते हैं। जिसके मूल में मल्टीमॉडल और बहुक्रियाशील हवाई अड्डे वाला शहर होता है। व्यवसाय और संबद्ध आवासीय विकास योजनाओं के समूह एक-दूसरे पर निर्भर होते हैं। हवाई अड्डे तक उनकी आसान पहुंच होती है। 

एयरोट्रोपोलिस शब्द का इस्तेमाल पहली बार न्यूयॉर्क के वाणिज्यिक कलाकार निकोलस डेसेंटिस ने किया था। जिनके शहर में गगनचुंबी इमारतों के साथ हवाई अड्डे का चित्र नवंबर 1939 के लोकप्रिय विज्ञान के अंक में प्रस्तुत किया गया था। हवाई अड्डे पर संचालित आर्थिक विकास वाले उनके शोध में एयरोट्रोपोलिस शब्द को वर्ष 2000 में एयर कॉमर्स शोधकर्ता जॉन डी कसारदा ने फिर से परिभाषित किया था।

जेवर एयरपोर्ट का पहला चरण 1,334 हेक्टेयर में होगा, 4,588 करोड़ रुपये खर्च होंगे

इस एयरपोर्ट का निर्माण करने के लिए नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एनआईएएल) और ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी के बीच समझौते पर हस्ताक्षर हो चुके हैं। इस ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे के निर्माण पर 29,560 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। परियोजना का पहला चरण 1,334 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला होगा और 4,588 करोड़ रुपये खर्च होने की उम्मीद है।

जेवर ऐरोट्रोपोलिस में क्या-क्या होगा

जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चारों ओर करीब 100 किलोमीटर के दायरे में यह महानगर विकसित होगा। जिसमें बड़े-बड़े वाणिज्य केंद्र, अर्बन हब, सिविल एविएशन, कार्गो एविएशन, मेंटेनेंस एमआरओ हब, मेडिकल टूरिज्म, ऑटोमोबाइल सेक्टर, हॉस्पिटैलिटी, कृषि उत्पादन का निर्यात, खाद्य प्रसंस्करण, फैशन और कपड़ा निर्यात, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण उत्पादन और निर्यात जैसी औद्योगिक गतिविधियां होंगी। जेवर एरोट्रोपोलिस में नोएडा, ग्रेटर नोएडा, यमुना सिटी, अलीगढ़, मथुरा और आगरा भी शामिल होंगे।

दुनिया के प्रमुख एरोट्रोपोलिस शहर

अभी दुनिया में ऐसे चुनिंदा शहर हैं। इनमें न्यूयोर्क, दुबई, ताओयुआन (ताइवान), एम्स्टर्डम और डलास ऐरोट्रोपोलिस इसके बड़े उदाहरण हैं।

Noida, Noida News, Noida Aerotropolis, Jewar Airport, Jewar Aerotropolis, Noida International Airport