राजस्थान में अब नया बवाल, बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय को हाईकोर्ट में चुनौती, जानिए नोएडा से क्या है ताल्लुक

राजस्थान में अब नया बवाल, बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय को हाईकोर्ट में चुनौती, जानिए नोएडा से क्या है ताल्लुक

Google Image | Sachin Pilot and Ashok Gehlot

राजस्थान में अब एक और नया बवाल खड़ा हो गया है। बहुजन समाज पार्टी के 6 विधायकों के कांग्रेस में विलय को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है। बसपा के 6 विधायकों के कांग्रेस में विलय को हाईकोर्ट में चुनौती देने वाले मदन दिलावर की याचिका को कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है। इस मामले में सोमवार को फैसला आएगा।

बहुजन समाज पार्टी के 6 विधायकों के कांग्रेस में विलय को करीब चार महीने पहले विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के सामने याचिका दायर की थी। जिस पर सीपी जोशी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे थे। अब इस लंबित याचिका का निस्तारण करने की मांग को लेकर जयपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। इस मामले में शुक्रवार को हाईकोर्ट ने सुनवाई को सुनवाई की है। अदालत सोमवार फैसला सुनाएगा।

आपको बता दें कि इससे पहले सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों को कांग्रेस की याचिका पर अयोग्य घोषित करने के लिए विधानसभा स्पीकर ने नोटिस जारी किए थे। जिसके खिलाफ विधायक हाईकोर्ट चले गए थे। जयपुर हाईकोर्ट ने मामले की सुनवाई पूरी कर ली है। कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। उसके खिलाफ विधानसभा स्पीकर और राजस्थान सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी थी। स्पीकर और सरकार हाईकोर्ट के फैसले को रोकने की मांग कर रहे थे।

साथ ही राजस्थान सरकार की ओर से कहा गया है कि हाईकोर्ट स्पीकर के क्षेत्राधिकार में दखल दे रहा है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सुनवाई की थी और सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है कि वह हाईकोर्ट के फैसले में दखल नहीं दे सकता है।

राज्यपाल ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की अनुमति नहीं दी: अशोक गहलोत

दूसरी ओर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, "हमने राज्यपाल से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की है, लेकिन राज्यपाल ने अभी विधानसभा सत्र के लिए अनुमति नहीं दी है। हमारे पास बहुमत है, हम विधानसभा में अपना बहुमत साबित कर सकते हैं। हम आज विधायकों के साथ राज्यपाल से मिलेंगे और विधानसभा सत्र आयोजित करने का आग्रह करेंगे।"

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.