कोरियन के लोग भारतीय संस्कृति अपनायेंगे, ग्रेटर नोएडा में बनेगा सांस्कृतिक केंद्र

Updated Oct 15, 2020 07:33:15 IST | Mayank Tawer

भारतीय और कोरियन कला, संस्कृति, खानपान, एक दूसरे देशों की नीतियों एवं सम्बन्धों में बेहतर समन्वय के लिए ग्रेटर नोएडा में सांस्कृतिक केंद्र स्थापित...

कोरियन के लोग भारतीय संस्कृति अपनायेंगे, ग्रेटर नोएडा में बनेगा सांस्कृतिक केंद्र
Photo Credit:  Google Image
कोरियन कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ ग्रेनो प्राधिकरण के सीईओ ने बैठक की
Key Highlights
-कोरियन कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ ग्रेनो प्राधिकरण के सीईओ ने बैठक की
-इलेक्ट्रानिक्स, मोबाइल, चिप आदि से सम्बन्धित कंपनियां निवेश के लिए हैं इच्छुक

भारतीय और कोरियन कला, संस्कृति, खानपान, एक दूसरे देशों की नीतियों एवं सम्बन्धों में बेहतर समन्वय के लिए ग्रेटर नोएडा में सांस्कृतिक केंद्र स्थापित किया जाएगा। साथ ही यहां निवेश के लिए आने वाली कोरियन कंपनियों को शासन-प्रशासन और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण से पूरा सहयोग मिलेगा। कोरियन कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ ने ये बातें कहीं।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में कार्यरत कोरियन इकाइयों के प्रतिनिधियों के साथ सीईओ नरेंद्र भूषण ने ऑनलाइन बैठक की। बैठक में एसीईओ दीप चन्द्र, ओएसडी शिव प्रताप शुक्ला, जीएम परियोजना पीके कौशिक, जीएम प्लानिंग मीना भार्गव आदि शामिल रहे। कोरियन कंपनियों के प्रतिनिधियों में पार्क यू डॉन, जुंग ही च्योल, ली यांग स्योक आदि शामिल रहे। 

बैठक में कोरियन प्रतिनिधियों ने बताया कि कोरियन चैंबर्स ऑफ इंडस्ट्री एंड कामर्स इन इंडिया (केओ चैम) के यूपी चैप्टर की स्थापना कर ली गई है। उन्होंने बताया कि कोरिया की कई बड़ी कंपनियां विशेष कर इलेक्ट्रानिक्स, मोबाइल, असेम्बलिंग, चिप आदि से सम्बन्धित कंपनियां अपनी इकाइयां लगाने के लिए इच्छुक हैं। सीईओ नरेंद्र भूषण ने कहा कि भारत सरकार कोरियन उद्यमियों को औद्योगिक इकाइयों की स्थापना में पूर्ण सहयोग दे रही है। प्रदेश सरकार व ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण सहयोग के लिए हमेशा तैयार रहेगा।

प्राधिकरण से मांगा सहयोग
बैठक में भारतीय व कोरियन कला, संस्कृति, खानपान तथा एक दूसरे देशों की नीतियों एवं सम्बन्धों में बेहतर समन्वय के लिए सांस्कृतिक केंद्र स्थापित करने पर जोर दिया गया। इस दिशा में अब प्राधिकरण आगे की कार्रवाई करेगा। इसके बन जाने से दोनों देशों के उद्यमियों तथा निवासियों के साथ कला, संस्कृति के आदान-प्रदान के साथ बेहतर व्यापार/निवेश के अवसर भी उपलब्ध हो सकेंगे। 

कोरियान प्रतिनिधियों ने प्राधिकरण तथा जिला प्रशासन द्वारा प्रदान की जा रही सुविधाओं तथा सहायता पर सन्तोष व्यक्त किया है। कहा कि यह सहयोग भविष्य में भी इसी प्रकार से मिलता रहेगा।

अगले माह होगी बैठक, निवेश पर होगा मंथन
कोरियन इकाइयों के प्रतिनिधियों ने पावर लोड, स्ट्रीट लाइट, जलापूर्ति, संपर्क मार्ग से सम्बन्धित बिन्दुओं पर प्राधिकरण से काम करने का अनुरोध किया। सीईओ ने आश्वस्त किया कि प्राधिकरण शीघ्र ही निर्धारित समयावधि में उनकी समस्याओं का समाधान करा दिया जायेगा। सीईओ ने बताया कि अगले महीने केओ चैम के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की जाएगी। इसमें उनको निवेश के लिए प्रेरित करने तथा उनकी शंकाओं का समाधान किया जाएगा।

Korean Culture, India Culture, Cultural Center in Greater Noida, Greater Noida News, Greater noida Authority