सजा-ए-मौत: हापुड़ में मासूम बच्ची से दुष्कर्म और हत्या करने वालों को फांसी की सजा सुनाई गई

Updated Oct 15, 2020 15:50:07 IST | Mayank Tawer

हापुड़ की अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश विशेष न्यायाधीश (पोस्को अधिनियम) वीना नारायन ने मासूम बच्ची के साथ रेप और हत्या करने वालों को सजा-ए-मौत सुना...

सजा-ए-मौत: हापुड़ में मासूम बच्ची से दुष्कर्म और हत्या करने वालों को फांसी की सजा सुनाई गई
Photo Credit:  Tricity Today
हापुड़ में मासूम बच्ची से दुष्कर्म और हत्या करने वालों को फांसी की सजा सुनाई गई
Key Highlights
अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश विशेष न्यायाधीश (पोस्को अधिनियम) ने सुनाया फैसला
करीब 2 साल पहले हापुड़ थाना देहात क्षेत्र के एक मोहल्ले में हुई थी सनसनीखेज वारदात

HAPUR News : हापुड़ की अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश विशेष न्यायाधीश (पोस्को अधिनियम) वीना नारायन ने मासूम बच्ची के साथ रेप और हत्या करने वालों को सजा-ए-मौत सुना कर एक नजीर कायम की है। करीब 2 साल पहले हापुड़ थाना देहात क्षेत्र के एक मोहल्ले में मासूम बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। अब गुरुवार को दो आरोपियों को न्यायाधीश ने दोषी करार दिया है। इन दोनों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है। जबकि एक आरोपी को बरी किया गया है। इस फैसले के बाद दोनों आरोपियों को जिला कारागार भेजा गया है। मासूम बच्ची के साथ इस घटना ने हापुड़ जिले की जनता को झकझोर दिया था।

इस मामले में पीड़ित पक्ष की ओर से  पैरवी कर रहे जिला शासकीय अधिवक्ता हरेंद्र त्यागी ने बताया कि हापुड़ देहात क्षेत्र के एक मोहल्ले में रहने वाले व्यक्ति ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि 05 सितम्बर 2018 को वह अपने खेतों पर चारा लेने के लिए गया था। घर पर उसकी 12 वर्षीय पुत्री और 10 साल का बेटा मौजूद थे। उसके नौकर अंकुर तेली और सोनू उर्फ पव्वा ने उसकी 12 वर्षीय बेटी के साथ दुराचार किया। इसके बाद दोनों ने चाकू से वार करके उसकी हत्या कर दी थी। जबकि, दोनों आरोपियों ने 10 वर्षीय बेटे पर भी चाकू से हमला करके उसे घायल कर दिया था। 

इन 2 लोगों को सुनाई गई सजा-ए-मौत

इस मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश विशेष न्यायाधीश (पोस्को अधिनियम) वीना नारायन ने अंकुर तेली पुत्र आसाराम निवासी मोहल्ला फूलगढ़ी और सोनू उर्फ पव्वा उर्फ बीडो निवासी मोहल्ला नबी करीम को मासूम बच्ची की हत्या के मामले में दोषी करार दिया है। इन दोनों लोगों को मृत्युदंड की सजा सुनाई है। जिसके बाद दोनों को जिला कारागार भेज दिया गया है।

गौरतलब है कि मासूम बच्ची की रेप के बाद हत्या उसके भाई पर जानलेवा हमले की घटना के बाद पूरे जिले में आक्रोश फैल गया था। आरोपियों को फांसी देने के लिए लोग सड़कों पर उतरे और कैंडल मार्च भी निकाले गए थे। इन आरोपियों ने बच्ची को घर बुलाकर उसके साथ गैंग रेप किया था। उसके बाद उसकी हत्या करके शव को बोरे में भरकर अपने घर में भूसे के ढेर में छुपा दिया था। पुलिस ने कड़ी मशक्कत करके शव बरामद किया था। जिसके बाद तीन लोगों को गिरफ्तार करके पुलिस ने जेल भेजा था। इन्हें जिला न्यायालय और हाईकोर्ट ने जमानत नहीं दी थी। तीनों तब से जिला जेल में ही बंद थे।

Hapur News, Hapur Rape Case