BREAKING: गाजियाबाद के रामलीला मैदान में हजारों प्रवासी मजदूरों की भीड़ उमड़ी, सोशल डिस्टेंशिंग काफूर, हालात बेकाबू

Updated May 18, 2020 14:27:03 IST | Tricity Reporter

लॉकडाउन के कारण गाजियाबाद में दूसरे राज्यों और जिलों के फंसे लोगों को उनके घर भेजने के लिए ट्रेनों का संचालन...

Photo Credit:  Tricity Today
गाजियाबाद के रामलीला मैदान में हजारों प्रवासी मजदूरों की भीड़ उमड़ी

लॉकडाउन के कारण गाजियाबाद में दूसरे राज्यों और जिलों के फंसे लोगों को उनके घर भेजने के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू किया गया है। गाजियाबाद से सोमवार को तीन ट्रेन बिहार के लिए और तीन ट्रेन उत्तर प्रदेश के जिलों के लिए चलाई गई हैं। इसके लिए उत्तर प्रदेश के जनसुनवाई पोर्टल पर मजदूरों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होता है। बड़ी संख्या में मजदूर जानकारी के अभाव में रजिस्ट्रेशन नहीं कर पा रहे हैं। जिला प्रशासन ने इनकी समस्या का समाधान करने के लिए रामलीला मैदान में एक काउंटर खोलने का ऐलान कर दिया। इसके बाद हजारों मजदूरों की भीड़ रामलीला मैदान पहुंच गई। हालात बेकाबू हो गए हैं। सोशल डिस्टेंसिंग का किसी को कोई ख्याल नहीं है। बड़ी समस्या यह हुई है कि काउंटर केवल एक खोला गया है और मजदूरों की भीड़ हजारों में है।

बिहार के रक्सौल, मुजफ्फरपुर और पटना के लिए ट्रेनों का संचालन गाजियाबाद से किया जा रहा है। इसकी व्यवस्था घंटाघर रामलीला मैदान में की गई है। वहीं, उत्तर प्रदेश के गोरखपुर बनारस और प्रयागराज के लिए तीन ट्रेनों का संचालन किया गया है। इनके यात्रियों के लिए कवि नगर रामलीला मैदान में व्यवस्था की गई है। इन स्थानों पर मजदूरों का रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है। सूचना के बाद सुबह 4:00 बजे से ही लोगों की भीड़ रामलीला मैदान पहुंच गई। दोनों मैदानों में 10 हजार से ज्यादा लोग अपने घर जाने की आस में दौड़ पड़े। इस दौरान हजारों की संख्या में लोगों को टिकट नहीं मिल सके। 

घर जाने वालों की भीड़ के आगे यहां सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ रही हैं। लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का बिल्कुल भी पालन नहीं किया। यहां तक कि जिन बसों में यात्रियों को रेलवे स्टेशन पहुंचाया गया, उनमें भी यात्रियों को ठूस ठूसकर भर दिया गया है। गाजियाबाद के रामलीला मैदान में प्रवासियों की भारी भीड़ है। छह ट्रेन जानी हैं। इसके चलते मैदान में पांव धरने की भी जगह नहीं है।

दूसरी ओर मैदानों में भारी भीड़ जमी है। उनके लिए पीने के पानी तक का इंतजाम नहीं है। लोग सुबह से चिलचिलाती धूप के बीच बैठे हुए हैं। इनमें महिलाएं और बच्चों की भी बड़ी संख्या है। ऐसे में हालात संभालने के लिए जिला प्रशासन और पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। भगदड़ जैसी आशंका को लेकर अधिकारियों के हाथ पांव फूले हुए हैं।

Ghaziabad Ramlila Maidan, Ghaziabad Police, Social Distance, Curfew, Curfew in Ghaziabad