ग्रेटर नोएडा वेस्ट में परेशान फ्लैट खरीदार का गुस्सा फूटा, बिल्डर के साथ मारपीट

Updated Feb 09, 2020 17:19:02 IST | Tricity Today Correspondent

ग्रेटर नोएडा वेस्ट में बिसरख थाना क्षेत्र की ला रेजिडेंसियल सोसायटी में शनिवार को फ्लैट खरीदार और बिल्डर्स के बीच मारपीट हो गई। फ्लैट खरीदार का आरोप है कि उसके फ्लैट के एक कमरे पर बिल्डर्स ने कब्जा कर रखा है। जबकि, बिल्डर्स का आरोप है कि फ्लैट खरीदार ने बैंक का लोन...

Photo Credit:  TriCity Today
प्रतीकात्मक फोटो
Key Highlights
ग्रेटर नोएडा वेस्ट की ला रेजिडेंसिया सोसायटी में शनिवार की देर शाम हुई घटना
दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए, खूब हंगामा भी किया गया
पुलिस ने दोनों पक्षों को हिरासत में लेकर जांच की शुरू, अभी एफआईआर दर्ज नहीं

ग्रेटर नोएडा वेस्ट में बिसरख थाना क्षेत्र की ला रेजिडेंसियल सोसायटी में शनिवार को फ्लैट खरीदार और बिल्डर्स के बीच मारपीट हो गई। फ्लैट खरीदार का आरोप है कि उसके फ्लैट के एक कमरे पर बिल्डर्स ने कब्जा कर रखा है। जबकि, बिल्डर्स का आरोप है कि फ्लैट खरीदार ने बैंक का लोन नहीं चुकाया है। मौके पर पहुंची पुलिस दोनों पक्षों को अपने साथ थाने ले गई और जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के अनुसार ग्रेनो वेस्ट में ला रेजिडेंसियल सोसायटी में वेद प्रकाश प्रजापति टैक्सी चलाकर अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं। परिवार में उनकी पत्नी, एक पुत्री और दो बेटे हैं। उन्होंने अपने खून पसीने की कमाई से तीन बीएचके का फ्लैट बुक करवाया था। आरोप है कि बिल्डर ने उसे टू बीएचके फ्लैट दे दिया। वेद प्रकाश प्रजापति का आरोप है कि तीसरा रूम बिल्डर ने कब्जा कर रखा है।

वेद प्रकाश प्रजापति का कहना है कि वह अपने परिवार के साथ दो कमरों में रहता है। जबकि, तीसरे रूम में बिल्डर का स्टॉफ रहता है। ऐसे में वह अपने आप को काफी असहज महसूस कर रहा था। इस बात की शिकायत उसने कई बार बिल्डर से की। जब उसकी कोई बात नहीं सुनी गई तो उन्होंने न्यायालय की शरण ली। न्यायालय का आदेश मिलने के बाद भी बिल्डर कमरे को खाली नहीं कर रहे थे। इसके बाद वेद प्रकाश ने पोस्टरवार के माध्यम से बिल्डर की मनमानी के खिलाफ प्रचार-प्रसार किया। उसके बाद भी कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो सकी।


शुक्रवार की शाम सोसायटी के तीन डायरेक्टर वहां आए तो वेद प्रकाश को पता लग गया। इसके बाद वह तीनों से अपना तीसरा कमरा खाली करवाने की बात कहने के लिए गया था। आरोप है कि वहां कहासुनी होने के बाद मारपीट हो गई। जिसके बाद सोसायटी में अफरा-तफरी का माहौल बन गया। दूसरी ओर बिल्डर का आरोप था कि वेद प्रकाश ने आठ लाख रुपये से अधिक का बैंक कर्ज नहीं चुकाया है। इसलिए फ्लैट की रजिस्ट्री नहीं हुई। जब वह बैंक का पैसा लौटा देगा तो रजिस्ट्री करवा दी जाएगी।

मारपीट की सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों से बातचीत करने के लिए उन्हें थाने ले गई। बिसरख थाने के प्रभारी का कहना है कि मामले की जांच करवाई जा रही है। जांच के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।