एसआईटी लीज बैक के ढाई हजार मामलों की जांच करेगी

Updated Jan 08, 2020 22:06:13 IST | Tricity Today Reporter

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के 42 गांवों के ढाई हजार लीज बैक के मामलों की जांच के लिए गुरुवार को एसआईटी की बैठक होगी। लीज बैक की गड़बड़ियों की जांच की जाएगी। कई नेता और रसूखदार लोगों ने नियमों से अधिक जमीन की लीज बैक करा ली। अब इन पर कार्रवाई हो सकती है। 

Photo Credit:  Tricity Today
Yamuna Authority

Yamuna City: ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के 42 गांवों के ढाई हजार लीज बैक के मामलों की जांच के लिए गुरुवार को एसआईटी की बैठक होगी। लीज बैक की गड़बड़ियों की जांच की जाएगी। कई नेता और रसूखदार लोगों ने नियमों से अधिक जमीन की लीज बैक करा ली। अब इन पर कार्रवाई हो सकती है। 

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में लीजबैक की जांच के लिए एसआईटी के अध्यक्ष यमुना प्राधिकरण के के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने सदस्यों को पत्र जारी करके गुरुवार को बुलाया है। एसआईटी में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ केके गुप्त, मुख्य विधि परामर्शी नोएडा प्राधिकरण, एडीएमएलए, महाप्रबंधक प्रॉजेक्ट यमुना प्राधिकरण, मुख्य वास्तुविद नियोजक नोएडा प्राधिकरण, ओएसडी समेत 8 सदस्य शामिल हैं। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ से लीजबैक से संबंधित कागजात लाने के लिए कहा गया है। 

ऐसे शुरू हुई है जांच
ग्रेनो वेस्ट के बिसरख-जलालपुर गांव में हुई जमीन लीजबैक के मामले की जांच शासन के निर्देश पर यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने की थी। इसमें मुंबई के लोगों ने 40 से अधिक बीघा जमीन पर पुरानी आबादी दिखाकर उसे लीजबैक करा ली थी। जांच में सीईओ ने मामले को फर्जी मानते हुए रिपोर्ट शासन को भेज दी थी। इस मामले में बिसरख कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज हुई थी। इसके बाद शासन ने ग्रेटर नोएडा में जितने भी लीजबैक से संबंधित मामले हैं, सभी की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है।

Yamuna City, Yamuna Authority, Greater Noida Authority, SIT