बड़ी खबर: नोएडा के रुद्राक्ष का इलाज करवाएगी विदेशी संस्था, पिता ने कहा- क्राउड फंडिंग का पैसा न लौटाएंगे और न सरकार को देंगे

नोएडा के रुद्राक्ष का इलाज करवाएगी विदेशी संस्था, पिता ने कहा- क्राउड फंडिंग का पैसा न लौटाएंगे और न सरकार को देंगे

Google Photo | रुद्राक्ष बैसोया

  • -कपिल बैसोया ने कहा- एक फाउंडेशन बनाकर इस पैसे से गरीब बच्चों का इलाज करवाएंगे
  • -गंगाराम अस्पताल व एक विदेशी संस्था ने रुद्राक्ष के इलाज का पूरा खर्च उठाने की ली जिम्मेदारी
  • -रुद्राक्ष के परिवार ने क्राउड फंडिंग के जरिए अब तक एक करोड़ 90 लाख रुपये जुटाए हैं
स्पाइनल मस्क्युलर डिस्ट्रोफी-2 नाम की विरल बीमारी से पीड़ित नोएडा के तीन वर्षीय रुद्राक्ष के इलाज की सभी मुश्किलें आसान हो गई हैं। एक विदेशी संस्था ने रुद्राक्ष की जिंदगी बचाने की जिम्मेदारी उठाई है। रुद्राक्ष के पिता ने बताया कि उसके उपचार पर खर्च होने वाले 18 करोड़ रुपये संस्था वहन करेगी। संस्था का दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल से टाइअप बताया गया है। जानकारी के मुताबिक जून में रुद्राक्ष को 18 करोड़ रुपये का इंजेक्शन लगना है। परिवार में इस बात से खुशी की लहर दौड़ गई है।

रुद्राक्ष के पिता कपिल बैसोया ने बताया कि गंगाराम अस्पताल के कहने पर उन्होंने एक फार्म भरा था। फार्म के आधार पर एक विदेशी संस्था ने रुद्राक्ष की जिंदगी बचाने के करीब 18 करोड़ रुपये का खर्च उठाने का आश्वासन दिया है। बताया कि रुद्राक्ष को 30 वर्ष तक इंजेक्शन लगेंगे। उसके बाद वह अपने पैरों पर खड़ा हो सकेगा। उन्होंने रुद्राक्ष के इलाज के लिए जन सहयोग से अब तक एक करोड़ 90 लाख रुपये जुटाए हैं। 

पैसा न लौटाएंगे और न सरकार को देंगे
रुद्राक्ष के परिवार ने क्राउड फंडिंग के जरिए अब तक एक करोड़ 90 लाख रुपये जुटाए हैं। उनके पिता कपिल बैसोया ने कहा, इन रुपयों से गरीब परिवार के बच्चों का इलाज कराया जाएगा। जल्द ही रुद्राक्ष के नाम से एक फाउंडेशन खोला जाएगा। फाउंडेशन से गरीब लोगों के इलाज में मदद की जाएगी। वह एक भी पैसा वापस नहीं करेंगे और ही शासन-प्रशासन को भी नहीं देंगे। कपिल कहते हैं कि बेटे के इलाज के लिए उन्होंने हर सक्षम नेता, विधायक, मंत्री और अधिकारी के सामने झोली फैलाई थी, लेकिन सभी ने उनकी मदद करने से इंकार कर दिया। वह रुपये को रुद्राक्ष फाउंडेशन खोलकर गरीब बच्चों के इलाज और जरूरतमंदों को देंगे।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.