राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को किया संबोधित, कहा- भारत का भविष्य आप पर निर्भर है, जानें इसके मायने

गौतमबुद्ध नगर : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को किया संबोधित, कहा- भारत का भविष्य आप पर निर्भर है, जानें इसके मायने

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को किया संबोधित, कहा- भारत का भविष्य आप पर निर्भर है, जानें इसके मायने

Google Image | राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को किया संबोधित

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को किया संबोधित, कहा- भारत का भविष्य आप पर निर्भर है, जानें इसके मायने Gautam Buddh Nagar : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल आज, 18 अक्टूबर को महिला सशक्तिकरण, महिलाओं के उत्थान एवं विकास की मुख्यधारा से जोड़ने के उद्देश्य से गौतमबुद्ध नगर में विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लिया। अपने दौरे के दौरान राज्यपाल सर्वप्रथम एमिटी विश्वविद्यालय में पहुंची। यूनिवर्सिटी के सभागार में जनपद के आंगनवाड़ी केंद्रों को सुदृढ़ बनाने एवं सुविधा संपन्न बनाने के उद्देश्य से 306 आंगनवाड़ी केंद्रों को किट का वितरण किया गया। यहां पर उन्होंने गर्भवती महिलाओं की गोद भराई भी करायी। 

जिला प्रशासन एवं एकेटीयू विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। गवर्नर की प्रेरणा से इंजीनियर कॉलेज आंगनवाड़ी केंद्रों को सुविधा संपन्न बनाने के लिए जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इसी कड़ी में एकेटीयू  30 आगनवाड़ी केन्द्र, चौधरी चरण यूनिर्वसिटी 51, अम्बुजा सीमेंट 100 एवं एचसीएल फाउडेंशन ने 125 आंगनबाड़ी केन्द्रों को गोद लिया है। यह सभी संस्थान इन आंगनबाड़ी केंद्रों को सुविधा संपन्न बनाएंगे।

संसाधन मुहैया कराया
इस अवसर पर राज्यपाल के कर कमलों द्वारा जेल में महिलाओं कैदियों को सशक्त बनाने एवं सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से महिला बैरक में लगाने के लिए 1 सेनेटरी नेपकिन वेंडिंग मशीन व 01 इन्सिनिरेटर मशीन, 01 एयर कूलर, 01 इन्डक्सन, 01 गीजर, 01 म्यूजिक सिस्टम एवं महिलाओं के स्किल डेवलपमेंट करने के उद्देश्य से 9 कंप्यूटर सेट तथा महिलाओं कैदियों के लिए बच्चों को कपड़े एवं खिलौने दिए गए। इनकी कुल लागत 2 लाख 67 हजार 901 रूपये राजभवन निधि के माध्यम से जेल अधीक्षक को उपलब्ध करायें गये। 

उपकरण वितरित किए
उन्होंने इस अवसर पर कहा कि जो महिलाएं किसी कारण बस जेल में प्रवास कर रही हैं, जब वह यहां से मुक्त होकर घर जाएंगी तो वह शांति पूर्वक जीवन की सीख लेकर जाएं।अपने आगे के जीवन को शांतिप्रिय रूप से जिएं तथा अपने घर एवं परिवार के विकास के लिए विशेष योगदान दें। इस अवसर पर उन्होंने वृद्धाश्रम में निवासरत वृद्ध संवासियों को सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से 02 रेंफ्रीजरेटर, 02 आर0ओ0 मशीन, 02 वाशिंग मशीन, 10 सीलिंग फैन, 02 इन्वर्टर, 04 स्ट्रीट लाइट एवं 01 एलईडी टेलीविजन दिया। जिनकी कुल लागत 3 लाख 41 हजार रूपये राजभवन निधि के माध्यम से जिला समाज कल्याण अधिकारी को उपलब्ध कराई गयी।

स्वयं सहायता समूह की जानकारी ली
एकेटीयू के सभागर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान  राज्यपाल ने स्वयं सहायता समूह के माध्यम से महिलाओं के आर्थिक विकास के सम्बन्ध में जानकारी ली। वर्तमान तक जनपद में 1222 स्वयं सहायता समूह को वित्तीय सहायता प्रदान की गई है। जिसमें से 697 से ज्यादा समूहों को स्टार्टप दिया गया और 1034 स्वयं सहायता समूह को रिवाल्विंग फंड दिया गया। साथ ही 589 स्वयं सहायता समूह को सीआईएफ दिया गया। उन्होंने बताया कि रिवाल्विंग फंड के अंतर्गत प्रत्येक समूह को 15 हजार, सीआईएफ के अंतर्गत 1 लाख 10 हजार की धनराशि प्रदान की जाती है।

चेक वितरित किया
राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने इस अवसर पर 2 महिला स्वयं सहायता समूह को 1-1 लाख रूपये की धनराशि सीसीएल के रूप में उपलब्ध करायी गयी। इस अवसर पर उन्होंने आयुष्मान भारत के अंतर्गत 6 पात्र लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड वितरण, एक जनपद एक उत्पाद योजना में 2 लाभार्थियों को अनुदान के चैक वितरण, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के 3 लाभार्थियों, शादी अनुदान के  4 लाभार्थियों तथा श्रम विभाग की योजनाओं के 04 लाभार्थियों को सम्बन्धित योजनाओं के तहत निर्धारित धनराशि के  चैक भी वितरण किये। 

संस्थानों को किया सम्मानित
टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के तहत जिन संस्थाओं के द्वारा आगे आकर कार्य किया गया है और टीबी के मरीजों को चिन्हित करने व उन्हें इलाज संभव कराने में स्वास्थ्य विभाग का सहयोग प्रदान किया गया है, ऐसी 2 संस्थाओं को प्रशस्ति पत्र देकर राज्यपाल के द्वारा सम्मानित किया गया।  राज्यपाल ने एकेटीयू एवं चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से सम्बन्धित उन कॉलेजों, संस्थाओं के संचालकों को प्रशस्ति पत्र प्रदान करते हुए सम्मानित किया, जो आंगनबाड़ी को अत्याधुनिक बनाने में सहयोग दे रहे हैं।

भारत का भविष्य संवार रहीं
राज्यपाल ने आयोजित कार्यक्रम के दौरान अपने उद्बोधन में आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को यशोदा मईया की संज्ञा प्रदान करते हुये कहा कि सभी आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के द्वारा देश के भावी भविष्य को तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निर्वहन की जा रही है। जो छोटे बच्चें आंगनबाड़ी केन्द्रों पर आ रहे, वो भारत का भविष्य हैं। उन्होंने कहा कि नारी शक्ति देश को विश्वगुरू बनाने में अपना अहम योगदान प्रदान कर सकती है। उन्ही के योगदान से यह देश विश्वगुरू बनेगा। उन्होंने जिला प्रशासन से आगे आकर जनपद के सभी 1108 आंगनबाड़ी केंद्रों को साधन संपन्न बनाने के लिए कहा।

सुझावों पर काम करेंगे
राज्यपाल के कार्यक्रम के दौरान सांसद डाॅ महेश शर्मा, एकेटीयू के कुलपति प्रोफेसर विनीत कंसल, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ के कुलपति प्रोफेसर नरेंद्र कुमार तनेजा ने अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि  राज्यपाल की मंशा के अनुरूप सामाजिक सरोकार के माध्यम से नारी शक्ति को स्वाबलंबी बनाने एवं उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में निरन्तर स्तर पर प्रयास सुनिश्चित किये जायेंगे। कार्यक्रम में जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने सभी अतिथियों का स्वागत किया गया। मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने कार्यक्रम के समापन अवसर पर सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया।

ये अतिथि रहे मौजूद
कार्यक्रम का सफल संचालन करते हुए राज्यपाल के जीवन परिचय पर जिला समाज कल्याण अधिकारी शैलेन्द्र बहादुर सिंह ने प्रकाश डाला। आयोजन में जिला पंचायत अध्यक्ष अमित चौधरी, पुलिस आयुक्त आलोक सिंह, डीसीपी पुलिस नोएडा जोन राजेश एस, एमिटी विश्वविद्यालय की उपकुलपति बलविन्दर शुक्ला, अपर जिलाधिकारी प्रशासन दिवाकर सिंह, नगर मजिस्ट्रेट गजेन्द्र सिंह, उपजिलाधिकारी सदर अंकित कुमार, दादरी अमित कुमार गुप्ता, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ सुनील कुमार शर्मा, जिला विकास अधिकारी गरिमा खरे, जिला पंचायत राज अधिकारी कुंवर सिंह यादव, डीएसटीओ हेमन्त कुमार, जिला प्रबोशन अधिकारी अतुल कुमार सोनी, अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे। जिला सूचना अधिकारी राकेश चौहान ने यह जानकारी दी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.