एमिटी यूनिवर्सिटी में सैन्य अफसरों ने सुनाई 1971 युद्ध की विजय गाथा, जनरल वीके सिंह ने ऐसे बढ़ाया हौसला

नोएडा : एमिटी यूनिवर्सिटी में सैन्य अफसरों ने सुनाई 1971 युद्ध की विजय गाथा, जनरल वीके सिंह ने ऐसे बढ़ाया हौसला

एमिटी यूनिवर्सिटी में सैन्य अफसरों ने सुनाई 1971 युद्ध की विजय गाथा, जनरल वीके सिंह ने ऐसे बढ़ाया हौसला

Tricity Today | एमिटी यूनिवर्सिटी

एमिटी यूनिवर्सिटी में सैन्य अफसरों ने सुनाई 1971 युद्ध की विजय गाथा, जनरल वीके सिंह ने ऐसे बढ़ाया हौसला Noida News : छात्रों को भारतीय सेना के गौरवशाली इतिहास से परिचित कराने और विभिन्न युद्धों में भारतीय सेना के अदम्य साहस की जानकारी प्रदान करने के लिए एमिटी इस्टीटयूट ऑफ डिफेंस स्ट्रैटजिक स्टडीज ने ‘‘1971 के भारत पाक युद्ध में पश्चिमी और पूर्वी मोर्चे पर भारतीय जीत (स्वर्ण जयंती समारोह)’’ पर छात्र आधारित वर्चुअल सम्मेलन का आयोजन किया। इसका शुभारंभ सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्यमंत्री और पूर्व थलसेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह ने किया। उनके साथ छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल केएम सेठ मौजूद रहे। 

पूर्व थल सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, तमाम समालेाचनाओं के बावजूद सन 1971 के भारत-पाक युद्ध में भारत की विजय इतिहास में भारतीय सेना की सबसे बड़ी जीत थी। आज तक किसी भी अन्य देश ने इतनी बड़ी सैन्य सफलता हासिल नहीं की है। हमें भारत के इतिहास में राजनीतिक - सैन्य तालमेल के अभूतपूर्व स्तर पर ध्यान देना चाहिए। हमने ऐसे राजनीतिक सैन्य तालमेल को कम मौकों पर देखा है। 

कैप्टन शर्मा की गाथा सुनाई
जनरल वीके सिंह ने कहा कि इस प्रकार के सम्मेलन छात्रों के लिए लाभप्रद होंगे। छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल लेफ्ट जनरल केएम सेठ ने हुसैनीवाला ऑपरेशन और कैप्टन शर्मा की वीरता की गाथा सुनाई। उन्होंने कहा कि वे इस साहसिक ऑपरेशन के गवाह रहे। जहां कैप्टन शर्मा ने अपनी पोस्ट को तब तक नहीं छोड़ा, जब तक उन्हें नीचे नहीं लाया गया।

तैयार कर रहे हैं
शिक्षण समूह के संस्थापक अध्यक्ष डॉ अशोक कुमार चौहान ने कहा, किसी भी देश को सुरक्षित रखने के लिए सैन्य शक्ति का सुदृढ़ होना आवश्यक है। एमिटी में हम छात्रों को विभिन्न स्तरों पर भारतीय सेना के लिए कुशल मानव संसाधन के रूप में तैयार करते हैं। शिक्षा के माध्यम से हम भारत को वैश्विक महाशक्ति बनाने के मिशन पर कार्य कर रहे हैं। एमिटी विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश की वाइस चांसलर डॉ (श्रीमती) बलविंदर शुक्ला ने कहा, साल 1971 में भारत-पाक युद्ध में भारत की विजय पर हम सभी को गर्व है। 

वीरता के बारे में जानें
स्वर्ण जयंती समारोह पर आयोजित यह सम्मेलन छात्रो को सैनिकों की वीरता और युद्ध के दौरान अपनाई गई रणनीतियों की जानकारी देगा। छात्रों को पता होना चाहिए कि इस युद्ध को जीतने के लिए किस प्रकार तीनों सेनाओं ने मिलकर कार्य किया। एमिटी इंस्टीटयूट ऑफ डिफेंस स्ट्रैटजिक स्टडीज के महानिदेशक लेफ्ट जनरल एसके गिडिऑक ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा, इस सम्मेलन का उददेश्य छात्रों को युद्ध के दौरान अपनाई जाने वाली रणनीतियों और तीनों सेनाओं के आपसी समन्वय-सहयोग की जानकारी प्रदान करना है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.