प्राधिकरण एसीईओ मानवेंद्र सिंह ने शुरू की जांच, जेई और डीजीएम से हुई पूछताछ

Noida Jalvayu Vihar Case : प्राधिकरण एसीईओ मानवेंद्र सिंह ने शुरू की जांच, जेई और डीजीएम से हुई पूछताछ

प्राधिकरण एसीईओ मानवेंद्र सिंह ने शुरू की जांच, जेई और डीजीएम से हुई पूछताछ

Tricity Today | एसीईओ मानवेंद्र सिंह | File Photo

प्राधिकरण एसीईओ मानवेंद्र सिंह ने शुरू की जांच, जेई और डीजीएम से हुई पूछताछ Noida : जलवायु विहार सहकारी आवास समिति की चारदीवारी गिरने से हुए हादसे के मामले में जांच के लिए एसीईओ मानवेंद्र सिंह की अध्यक्षता में गठित समिति ने बुधवार से जांच शुरू कर दी है। पहले दिन इस क्षेत्र के वर्क सर्किल के पांच अधिकारियों को बुलाकर पूरे घटनाक्रम के बारे में जानकारी ली गई। पूछताछ में जेई से लेकर डीजीएम तक शामिल हैं। इसमें संबंधित कंपनी को टेंडर देने से लेकर काम शुरू होने तक और मौके पर पहले की स्थिति के बारे में जानकारी ली। जांच टीम गुरुवार या शुक्रवार को मौके पर जाकर भी जायजा लेगी। सीईओ ने 15 दिन के अंदर जांच रिपोर्ट मांगी है।
 
कंस्ट्रक्शन कंपनी को 92 लाख 18 हजार रुपये में दिया टेंडर
वहीं दूसरी ओर नोएडा प्राधिकरण के टेक्निकल ऑडिट सेल (टीएसी) ने प्रारंभिक जांच की। जांच में चारदीवारी से संबंधित चार कमियां सामने आई हैं जबकि प्राधिकरण की ओर से कराए जा रहे निर्माण कार्य में निर्माण कंपनी की किसी प्रकार की लापरवाही का जिक्र नहीं किया गया है। समिति की चारदीवारी के पास करीब एक किलोमीटर हिस्से में नाली की मरम्मत का काम नोएडा प्राधिकरण की ओर से कराया जा रहा था। प्राधिकरण ने इस काम का टेंडर एमडी प्रोजेक्ट एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी को 92 लाख 18 हजार रुपये में दिया था। मंगलवार को यहां निर्माण कार्य के दौरान समिति की चारदीवारी गिरने से चार मजदूरों की मौत हो गई।

रिपोर्ट के बाद भी कठोर कार्रवाई का इंतजार
इस मामले में नोएडा प्राधिकरण ने अपने टीएसी विभाग के जरिए प्रारंभिक जांच कराई। जांच में लापरवाही मिली जिनमें 25 साल से अधिक पुरानी चारदीवारी होने, चारदीवारी की गहराई ढाई फिट नहीं होने, दीवार में हर 15 मीटर पर 40 एमएम का गेप नहीं होना और जर्जर दीवार के ऊपर शेड डालने को लगाए लोहे के एंगल की वजह से दीवार गिरना सामने आया है। हादसे को हुए 40 घंटे का समय हो चुका है लेकिन नोएडा प्राधिकरण स्तर से अभी तक संबंधित एमडी कंस्ट्रक्शन कंपनी के खिलाफ ब्लैक लिस्ट या अन्य तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

प्राधिकरण के डीजीएम से पुलिस ने की 8 घंटे पूछताछ
बुधवार की देर रात नोएडा पुलिस और प्राधिकरण के कर्मचारियों के बीच जमकर नोकझोंक का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार सेक्टर-21 में स्थित जलवायु विहार हाउसिंग सोसायटी की दीवार गिरने से चार मजदूरों की मौत के मामले में थाना सेक्टर-20 पुलिस ने प्राधिकरण के डीजीएम श्रीपाल भाटी को बुलाया। उनसे करीब 8 घण्टों तक पूछताछ की गई। इसी दौरान प्राधिकरण के सैकड़ों कर्मचारी थाने पहुंच गए। पुलिस वालों पर अवैध तरीके से डीजीएम को हिरासत में लेने का आरोप लगाया। पुलिस ने इस मामले में अब तक एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। जिसका नाम गुल मोहम्मद है। वहीं, मुख्य आरोपी कंपनी का डायरेक्टर सुंदर यादव पुलिस की पकड़ से दूर है।

कर्मचारियों ने पुलिस पर लगाए आरोप
बुधवार की देर रात नोएडा अथॉरिटी के दर्जनों कर्मचारी और इंजीनियर थाना-20 में पहुंचे। पुलिस उस वक्त डीजीएम श्रीपाल भाटी से जलवायु विहार की दीवार गिरने के प्रकरण में पूछताछ कर रही थी। प्राधिकरण के कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि पुलिस वालों ने दोपहर को पूछताछ के लिए डीजीएम को थाने में बुलाया था, लेकिन बिना किसी सूचना के श्रीपाल भाटी को 8 घंटे से थाने में बिठाए रखा है। बिना कोई नोटिस दिए डीजीएम को थाने में 8 घंटे से बैठना गलत है। वहीं, दूसरी तरफ पुलिस ने देर रात पूछताछ के बाद डीजीएम श्रीपाल भाटी को घर वापस भेज दिया।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.