अजनारा और गुलशन बिल्डर के खिलाफ प्राधिकरण की बड़ी कार्रवाई, ध्वस्त किया अवैध निर्माण

नोएडा : अजनारा और गुलशन बिल्डर के खिलाफ प्राधिकरण की बड़ी कार्रवाई, ध्वस्त किया अवैध निर्माण

अजनारा और गुलशन बिल्डर के खिलाफ प्राधिकरण की बड़ी कार्रवाई, ध्वस्त किया अवैध निर्माण

Google Image | Symbolic Photo

अजनारा और गुलशन बिल्डर के खिलाफ प्राधिकरण की बड़ी कार्रवाई, ध्वस्त किया अवैध निर्माण NOIDA : सोमवार को सेक्टर-137 स्थित अजनारा डेफोडिल और गुलशन होम्स में हो रखे अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई की। इन जगह बिल्डर ने मंजूर नक्शे से अलग हटकर क्योस्क, पार्किंग और अन्य निर्माण कर रखा था। करीब 8 क्योस्क और दुकानों के आगे बने हिस्से को तोड़ा गया। इस दौरान दुकानदारों ने विरोध भी किया था। इन सोसाइटी में रहने वाले लोगों और अपार्टमेंट एसोसिएशन ने काफी समय से इस बारे में नोएडा प्राधिकरण में शिकायत कर रखी थी।

3 साल बाद हुई कार्रवाई
नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों ने बताया कि अजनारा सोसाइटी के लिए 23 अप्रैल 2018 को जारी किए गए अधिभोग मानचित्रों में टावर संख्या एल और वाणिज्यिक ब्लॉक के सामने सेट बेक में चारदीवारी के साथ हरित क्षेत्र दर्शाया गया है लेकिन मौके पर चारदीवारी को हटाकर क्योस्क लगाकर इसको व्यावसायिक उपयोग में लाया जा रहा था। इन क्योस्क को सोमवार को ध्वस्त किया गया। 

इसके अलावा अग्निशमन पथ को गेट लगाकर अवरूद किया गया था, जिसको दोबारा से क्रियाशील कर दिया गया। इसके अलावा टावर एल के बेसमेंट में पार्किंग के स्थान पर वाणिज्यिक उपयोग के लिए गोदाम-स्टोर का निर्माण किया गया था, इसको भी प्राधिकरण की टीम ने ध्वस्त कर दिया। 

गुलशन होम्स सोसाइटी में प्राधिकरण ने की कार्रवाई
प्राधिकरण अधिकारियों ने बताया कि दूसरी कार्रवाई सेक्टर-137 में ही स्थित गुलशन होम्स सोसाइटी में की गई। इस सोसाइटी के लिए 9 फरवरी 2015 को जारी अधिभोग मानचित्रों में ही अजनारा की तरह चारदीवारी के साथ हरित क्षेत्र दर्शाया गया था लेकिन यहां पर भी क्योस्क लगाकर इसका व्यावसायिक उपयोग किया जा रहा था। यहां पर प्राधिकरण ने इनको ध्वस्त कर दिया। इसके अलावा टावर संख्या एफ व जी के बीच में हरित क्षेत्रफल दर्शाया गया है लेकिन इसको पार्किंग के रूप में प्रयोग किया जा रहा था। 

ऐसे में यहां लगी कंक्रीट टाइल्स को हटवा हरित क्षेत्र के रूप में उपयोग करने के निर्देश बिल्डर को दिए गए। अधिकारियों ने बताया कि कार्रवाई करने से पहले बिल्डर को नोटिस भेजने के अलावा मौके पर जाकर मार्किंग भी कर दी थी। इसके बावजूद अवैध निर्माण का बिल्डर ने नहीं हटाया।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.