Noida News: अवैध अतिक्रमण हटाने में नाकाम रहा है प्राधिकरण, मामूरा गांव में माफिया के कब्जे में सबसे ज्यादा जमीन, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

अवैध अतिक्रमण हटाने में नाकाम रहा है प्राधिकरण, मामूरा गांव में माफिया के कब्जे में सबसे ज्यादा जमीन, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

Tricity Today | प्राधिकरण की 150 एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा है

जमीन की कमी से जूझ रहे नोएडा प्राधिकरण की 150 एकड़ से ज्यादा जमीन पर भूमाफियाओं का कब्जा है। कहीं अतिक्रमण है और कहीं खाली प्लॉट में ही प्राधिकरण अपनी दावेदारी नहीं कर पा रहा है। हालात इतने बदतर हैं कि अथॉरिटी जमीन खरीदने के लिए भी संघर्ष कर रहा है। जबकि, शहर के कई इलाकों में प्राधिकरण की भूमि पर अवैध कब्जे हैं। छोटे से बड़े प्लॉट के मुताबिक उस स्तर के भूमाफियाओं का कब्जा है। हालांकि अथॉरिटी की तरफ से लगातार अपनी भूमि से अतिक्रमण और अवैध कब्जा हटाने का अभियान चलाया जाता है। मगर भूमाफिया उसी रफ्तार से फिर काबिज हो जाते हैं। 

सीईओ ने संभाली कमान
दरअसल नोएडा प्राधिकरण की सीईओ ऋतु महेश्वरी ने प्राधिकरम की जमीनों को माफिया से खाली कराने के संबंध में कई अभियान चलाए। इसका थोड़ा-बहुत असर दिखाई दिया। अथॉरिटी के आंकड़ों के मुताबिक पिछले एक साल में करीब 3 लाख 75 हजार वर्ग मीटर जमीन मुक्त कराई गई है। मगर यह सारी कार्रवाई तब की गई, जब सीईओ ने स्वयं इसकी अगुवाई की, या फिर शासन स्तर पर इसके लिए दबाव बना।

अतिक्रमण हटाने पहुंची टीम पर हुआ पथराव
दरअसल प्राधिकरण के अधिकारी भी भूमाफिया से भूमि खाली कराने में ज्यादा इच्छुक नहीं दिखाई देते हैं। ना ही मजबूत इच्छाशक्ति दिखाते हैं। इसकी वजह से माफियाओं के हौसले बुलंद है। अब तो अतिक्रमण हटाने गए अथॉरिटी और पुलिस की टीम पर हमले भी होने लगे हैं। अभी दो दिन पहले ही बख्तावरपुर गांव में अवैध निर्माण हटाने गई टीम पर पथराव हो गया था। जिसमें कई अधिकारी समेत कई पुलिसकर्मियों को चोट आई थी। इसमें कार्रवाई करते हुए पुलिस ने एक अभियुक्त को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया था।

इस विभाग की शिथिलता पड़ रही भारी
प्राधिकरण के एक अधिकारी ने बताया कि जमीन की निगरानी करने और अतिक्रमण हटाने के लिए स्थापित भूलेख विभाग ने शिथिलता दिखाई है। इस विभाग ने पिछले लंबे वक्त से भूमि का मौका मुआयना नहीं किया है। न ही इससे जुड़ी कार्रवाई की गई है। इसका लाभ भूमाफियाओं को मिला है। पिछले दिनों हुई अथॉरिटी की बैठक में इस पर चर्चा हुई थी। 

सबसे ज्यादा अतिक्रमण मामूरा गांव में
वैसे तो पूरे नोएडा में प्राधिकरण की जमीनों पर जगह-जगह अतिक्रमण है। लेकिन, कुछ खास क्षेत्रों में अथॉरिटी ने भी घुटने टेक दिए हैं। सबसे ज्यादा अवैध कब्जा शहर के मामूरा गांव में है। बसई, गढ़ी चौखंडी और बख्तावरपुर समेत दर्जनों अन्य गांवों में भी अवैध कब्जे हैं। कुछ मामले कोर्ट में लंबित हैं। कई में अथॉरिटी के पक्ष में फैसला भी आ चुका है। मगर प्राधिकरण अभी इन पर अपना कब्जा नहीं जमा सका है। 

मुख्यमंत्री ने खुली छूट दी थी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी नोएडा में अवैध अतिक्रमण से परिचित हैं। पिछले साल दो मार्च को सीएम योगी ने अथॉरिटी की समीक्षा बैठक की थी। तब उनके संज्ञान में यह मामला आया था। तब उन्होंने अथॉरिटी की रिपोर्ट और उस पर कार्रवाई की भी समीक्षा की थी। उसके बाद मुख्यमंत्री ने प्राधिकरण को कार्रवाई करने की खुली छूट दी थी। उन्होंने आदेश दिया था कि कड़ी कार्रवाई कर जमीनों को मुक्त कराया जाए।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.