बड़ी खबरः CCSU के इस अहम फैसले से जिले के 10 हजार परीक्षार्थी प्रभावित, छात्रों में अंसतोष, जानें क्या बदलाव हुआ

CCSU के इस अहम फैसले से जिले के 10 हजार परीक्षार्थी प्रभावित, छात्रों में अंसतोष, जानें क्या बदलाव हुआ

Google Image | CCSU ने परीक्षा पैटर्न में अहम बदलाव किया है

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय प्रबंधन के एक फैसले से गौतमबुद्ध नगर के करीब 10 हजार परीक्षार्थी प्रभावित हुए हैं। परीक्षा पैटर्न में बदलाव करते हुए विश्वविद्यालय ने अब आगामी जून में होने वाली आखिरी सेमेस्टर की परीक्षा पूरी तरह से ऑब्जेक्टिव कर दिया है। इसका सीधा असर सीसीएसयू से संबद्ध जिले के 70 से ज्यादा महाविद्यालयों में अध्यनरत 10 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं पर पड़ेगा। नए पैटर्न को लेकर छात्रों में भी ऊहापोह की स्थिति है। उनका कहना है कि अब तक यूनिवर्सिटी प्रबंधन सेमेस्टर परीक्षाओं को लिखित मोड़ में ही आयोजित करा रहा था। फिर अचानक इसे ऑब्जेक्टिव करने से परीक्षार्थियों को परेशानी होगी। 

बताते चलें कि चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में वार्षिक प्रणाली में स्नातक (रेगुलर व प्राइवेट) और परा स्नातक प्राइवेट में अंतिम वर्ष की परीक्षाएं ही ऑब्जेक्टिव होती हैं। मगर इस फैसले के बाद विवि की सेमेस्टर परीक्षा में अंतिम सेमेस्टर के एग्जाम भी ऑब्जेक्टिव पैटर्न में आयोजित होंगे। अब तक सभी सेमेस्टर की सभी परीक्षाएं लिखित संपन्न कराई जाती थीं। मगर नए आदेश के बाद आखिरी सेमेस्टर की परीक्षा बहुविकल्पीय होंगी। 

तैयारी को लेकर ऊहापोह की स्थिति
विश्वविद्यालय प्रबंधन के नए फैसले से छात्र हतप्रद हैं। उनका कहना है कि बिना किसी पूर्व तैयारी के विवि अचानक परीक्षा पैटर्न में इतना बड़ा उलटफेर नहीं कर सकता। छात्रों पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। नोएडा के एक छात्र प्रभास ने बताया कि विवि के फैसले से भविष्य को लेकर अनिश्चितताओं ने घर कर लिया है। हम पुराने पैटर्न के मुताबिक तैयारी कर रहे थे। ऑब्जेक्टिव पेपर की किताबें और तैयारी के अलग स्तर की पढ़ाई होती है। 

अब तक तो यही स्पष्ट नहीं हो पाया है कि नए ऑब्जेक्टिव तरीके की पढ़ाई के लिए पुस्तकें कैसे मिलेंगी। क्या विवि प्रंबंधन इसमें मदद करेगा? परीक्षार्थियों को अब रणनीति बदलनी पड़ेगी। अगले सेमेस्टर की किताबों पर पैसे भी खर्च हो गए है। पहले हमने पुराने तरीके की पढ़ाई के लिए पैसे खर्च किए। अब नई किताबों पर पैसा अलग खर्च होगा। विवि प्रबंधन को अपने फैसले पर पुनर्विचार अवश्य करना चाहिए। 

ये रहेगा परीक्षा पैटर्न
जून में प्रस्तावित अंतिम सेमेस्टर की सभी परीक्षाएं नए पैटर्न ऑब्जेक्टिव मोड में आयोजित होंगी। हालांकि अब तक प्रश्नों की संख्या और समय को लेकर कुछ तय नहीं हुआ है। विवि जल्द ही इस तरह की समस्याओं से पार पा लेगा। दो वर्ष के पीजी कोर्स में चौथा सेमेस्टर, तीन वर्ष के कोर्स में छठा सेमेस्टर, चार वर्ष के कोर्स में आठवां सेमेस्टर और पांच वर्ष वाले कोर्स में दसवें सेमेस्टर के पेपर ऑब्जेक्टिव रहेंगे। इंटरनल तथा दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा में पहले से निर्धारित व्यवस्था यथावत रहेगी। सिर्फ अंतिम सेमेस्टर में एक्सटर्नल पेपर ही ऑब्जेक्टिव होंगे।

परीक्षा की तैयारी को लेकर छात्रों के विरोध को देखते हुए विवि प्रशासन ने प्रतिक्रिया दर्ज कराई है। सीसीएसयू की प्रति चांसलर वाई विमला ने कहा कि जून में अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा ऑब्जेक्टिव होगी। विवि प्रबंधन ने इसके लिए तैयारी पूरी कर ली है। किसी भी परीक्षा की तैयारी के लिए 90 दिन पर्याप्त हैं। विवि भी छात्रों को ऑनलाइन, ऑफलाइन व एक्स्ट्रा क्लास देकर कोर्स पूरा करा रहा है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.