गौतमबुद्ध नगर: किसानों ने सीखा सरसों की अत्याधुनिक खेती का गुर, एमिटी यूनिवर्सिटी की खास पहल में जुटे दिग्गज

किसानों ने सीखा सरसों की अत्याधुनिक खेती का गुर, एमिटी यूनिवर्सिटी की खास पहल में जुटे दिग्गज

Tricity Today | एमिटी यूनिवर्सिटी ने दिया प्रशिक्षण कार्यक्रम

गौतमबुद्ध नगर के 50 से ज्यादा किसानों ने शुक्रवार को सरसों की उन्नतशील खेती करने का गुर सीखा। विशेषज्ञों की एक टीम ने जिले के ग्रामीण इलाकों में संबंधित लोगों को इस बारे में जानकारी दी। एमिटी कृषि प्रसार सेवा केंद्र, एमिटी विश्वविद्यालय ने गांव गेसूपुर, सिकंदराबाद में एक दिवसीय सरसों प्रक्षेत्र दिवस व प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया था। 

एमिटी कृषि प्रसार सेवा केन्द्र की प्रभारी डॉ नीतू सिंह और वरिष्ठ शोध अधिकारी रोशन लाल, गौतमबुद्ध नगर के सहायक कृषि विकास अधिकारी सुबेश चन्द व बुलंदशहर के तकनीकी कृषि सहायक सिकंदराबाद, सतीश कुमार भड़ाना ने किसानों को प्रशिक्षण दिया। डॉ नीतू सिंह ने किसानों को बताया कि फसलों का अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिए अच्छी किस्म के बीजों को उपचारित करके सही समय पर बुवाई करें। फसलों में कीट एवं रोग नियंत्रण के लिए रासायनिक कीट व रोगनाशक का प्रयोग न करके जैव कीट व रोगनाशी जैसे नीम आधारित उत्पादों के प्रयोग करें। 

सहायक कृषि विकास अधिकारी सुबेश चन्द ने सरसों फसल उत्पादन की उन्नत तकनीक की जानकारी किसानों को दी। बुवाई के समय 40 किग्रा प्रति हेक्टेयर सल्फर का प्रयोग अवश्य करें। सतीश कुमार भड़ाना ने खेती में फसल चक्र के महत्त्व एवं कृषि विभाग की परियोजनाओं की विस्तृत जानकारी किसानों को दी। उन्होंने किसानों को बताया कि गहरी जड़ वाली फसल के बाद झकड़ा जड़ वाली फसलों की बुवाई करें। इससे भूमि की उर्वरा शक्ति बनी रहती है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.