नोएडा और गाजियाबाद समेत यूपी के 13 शहरों में कटेंगे सिर्फ ई-चालान, ऐसे नजर रखेगी ट्रैफिक पुलिस

बड़ी खबर : नोएडा और गाजियाबाद समेत यूपी के 13 शहरों में कटेंगे सिर्फ ई-चालान, ऐसे नजर रखेगी ट्रैफिक पुलिस

नोएडा और गाजियाबाद समेत यूपी के 13 शहरों में कटेंगे सिर्फ ई-चालान, ऐसे नजर रखेगी ट्रैफिक पुलिस

Google Image | नोएडा और गाजियाबाद सहित उत्तर प्रदेश के 13 से अधिक शहरों में लागू किया जाएगा

नोएडा और गाजियाबाद समेत यूपी के 13 शहरों में कटेंगे सिर्फ ई-चालान, ऐसे नजर रखेगी ट्रैफिक पुलिस Gautam Buddh Nagar : गौतमबुद्ध नगर और गाजियाबाद समेत यूपी के तमाम शहरों में वाहन चालकों के लिए बड़ी खबर है। सड़क दुर्घटनाओं को रोकने और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने सख्त दिशा-निर्देश जारी किए हैं। केंद्रीय मंत्रालय का नया आदेश नोएडा और गाजियाबाद सहित उत्तर प्रदेश के 13 से अधिक शहरों में लागू किया जाएगा। नई गाइडलाइंस के तहत इन शहरों में परिवहन विभाग अगले तीन महीने के भीतर चालान प्रणाली को शत-प्रतिशत डिजिटल करेगा। मतलब इन शहरों में सिर्फ ई-चालान किया जाएगा। इसका सीधा असर वाहन चालकों पर पड़ेगा।

13 शहरों में लागू होगा
एक रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय मंत्रालय के अधिकारियों ने ट्रैफिक पुलिस को दस लाख से अधिक आबादी वाले 13 शहरों में ज्यादा वाहनों को देखते हुए ऑनलाइन चालान काटने का निर्देश दिया है। यूपी के लखनऊ, कानपुर, झांसी, फिरोजाबाद, गजरौला, गाजियाबाद, खुर्जा, मुरादाबाद, नोएडा, रायबरेली, वाराणसी, गोरखपुर और मेरठ में नई व्यवस्था लागू होगी। परिवहन विभाग ने खुलासा किया कि लखनऊ उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक यातायात उल्लंघन वाला शहर है। इसलिए राजधानी लखनऊ में रोजाना एक हजार ई-चालान काटे जाने का लक्ष्य रखा गया है। इन ई-चालान के लिए परिवहन विभाग मोबाइल कैमरे का उपयोग करने जा रहा है।

लखनऊ में सबसे ज्यादा उल्लंघन होता है
केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, 2019 में देश भर में यातायात नियमों के उल्लंघन के लिए दो लाख से अधिक चालान किए गए। तब से यह आंकड़ा कई गुना बढ़ गया है। 2020 से हर साल आठ लाख चालान काटे जा रहे हैं। यह पिछले साल से चार गुना है। डीसीपी ट्रैफिक लखनऊ रईस अख्तर ने बताया कि आईटीएमएस परियोजना के तहत सभी चौराहों पर कैमरे लगाए गए हैं। ऑनलाइन चालान का ट्रायल शुरू हो गया है। थानों की मैपिंग की जा रही है। जल्द ही यह व्यवस्था इन सभी शहरों में लागू कर दी जाएगी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.