नहीं थम रहा कुत्तों का आतंक, फिर किया बच्चे पर हमला

गौतमबुद्ध नगर का बड़ा मुद्दा : नहीं थम रहा कुत्तों का आतंक, फिर किया बच्चे पर हमला

नहीं थम रहा कुत्तों का आतंक, फिर किया बच्चे पर हमला

Google Image | Symbolic Image

Noida : ऊंची बिल्डिंग्स से लेकर सड़कों तक, कुत्तो का आतंक बेहिसाब है। सड़कों पर आवारा कुत्ते काट लेते है और सोसाइटी में कई पेट ओनर्स अपने पालतू कुत्तों को संभालने में इतने असक्षम है की उनकी वजह से आम जनता की जान जोखिम में पड़ रही है, खासकर छोटे बच्चे और बुजुर्ग इन कुत्तों की चपेट में आ रहे है। रोजाना अखबार इन खबरों से भरे रहते है। ताजा मामला सेक्टर 74 की सुपरटेक कैप्टाउन सोसाइटी से है जहां एक 6 साल का मासूम कुत्ते का आहार बनते बनते बचा है।  

जानिये पूरा मामला 
ये मामला सेक्टर-74 की सुपरटेक कैप्टाउन सोसाइटी में 23 जनवरी की शाम को हुआ। एक महिला अपने दो बच्चो को लेकर टहल रही थी। हादसा उस वक्त हुआ जब महिला गार्डन में अपने छोटे बच्चे को स्टॉलर में बैठा कर घुमा रही थी, और उनका बड़ा बेटा जोरांश जो महज 6 साल का है, गार्डन में खेल रहा था।  तभी कहीं से एक लेब्राडोर डॉग बिना मजल और लिश के उसकी तरफ दौड़ता हुआ आया और बच्चे पर झपटा। इस अटैक से मासूम बच्चा जमीन पर गिर गया। उसकी मम्मी की चीख निकल गई और उसने मदद के लिए लोगो को पुकारा। समय रहते एक युवक ने कुत्ते से बच्चे को बचा लिया। बच्चे को कुत्ता काट लेता उसके पहले बच्चे को बचा तो लिया गया है लेकिन इसके बाद सवाल और बवाल दोनों उठ गए है। 

जानिये क्या कहते है सुपरटेक कैप्टाउन एओए प्रेजिडेंट 
 जब ट्राई सिटी टुडे के संवादाता ने मामले के बारे में बात की तब AOA अध्यक्ष अरुण शर्मा ने बताया, "ये बड़ा हादसा हो सकता था। बच्चा बहुत डरा हुआ है सहम गया है। कुत्ते को मालिक ने कुत्ते को चेन से नहीं बांध रखा था। कुत्ते के मालिक की गलती है उनको चेन से बांध कर पार्क लाना चाहिए था। एक तो गलती ऊपर से सीनाजोरी, डॉग ओनर ने महिला के साथ बदतमीजी भी की है। कहता है के आप बांध लो अपने बच्चे के गले में पट्टा ! बिना चैन के बांधना और फिर महिला के साथ बदतमीजी करना कितना गलत है।"

बच्चे की मां तस्कीन बारसी कहती है, "मेरा बच्चा अगर पार्क में खेल रहा है और पेट डॉग्स घूम रहे है तो क्या कोई जिम्मेदारी नहीं बनती कुत्तों के मालिकों की, के बांध कर लाये और उसे संभाले। जब कुत्ते ने  मेरे बेटे पर अटैक किया में चिल्लाती रही लेकिन जिनका कुत्ता था उसने ध्यान तक नहीं दिया। बच्चे को छोड़ वो कुत्ता मेरी तरफ लपका, मेरे को किसी तरह बचाया गया। कुछ भी हो सकता था। पेट ओनर ने मेरे साथ काफी बदतमीजी की है।"

पुलिस में मामला हुआ दर्ज 
जब सोसाइटी में ये बवाल तूल पकड़ लिया और पेट ओनर बदतमीजी पर आ गया तब महिला ने पुलिस बुला ली। मौके पर पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाया और बीच बचाव किया। कोई नतीजा निकलता ना देख, महिला ने थाने जाकर तहरीर दे दी।

Copyright © 2022 - 2023 Tricity. All Rights Reserved.