सुपरटेक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगा आरडब्ल्यूए, 660 परिवारों को सता रही हो यह चिंता

नोएडा : सुपरटेक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगा आरडब्ल्यूए, 660 परिवारों को सता रही हो यह चिंता

सुपरटेक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगा आरडब्ल्यूए, 660 परिवारों को सता रही हो यह चिंता

Tricity Today | सुपरटेक एमराॅल्ड

सुपरटेक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगा आरडब्ल्यूए, 660 परिवारों को सता रही हो यह चिंता Noida News : आरडब्ल्यूए ने सुपरटेक के बने ट्विन टावर को गिराने के लिए कोई कार्रवाई शुरू नहीं होने के ऊपर नाराजगी जताई है। ट्विन टावर को सर्वोच्च न्यायालय ने 30 अगस्त को गिराने के आदेश दिए थे। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के तहत ट्विन टावर को 30 नवंबर से पहले गिराया जाना है। लेकिन अभी तक इसके ऊपर प्राधिकरण की तरफ से कोई कार्यवाही नहीं हो रही है। जिसको लेकर आरडब्ल्यूए ने एक दिसंबर को इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की अवहेलना करने की याचिका दायर करने की तैयारी कर ली है। 

आरडब्ल्यूए काफी लंबे समय से सुपरटेक एमराॅल्ड में अवैध रूप से बने ट्विन टावर को गिराने की कानूनी लड़ाई लड़ रहा है। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार 30 नवंबर से पहले ट्विन टावर को गिराया जाना है। लेकिन अभी तक इसके ऊपर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। आरडब्ल्यूए ने प्राधिकरण से इसके बारे में कई बार जवाब मांगा, लेकिन प्राधिकरण की तरफ से कोई जवाब नहीं मिला। 

प्राधिकरण नहीं दे रहा कोई जवाब 
आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष राजेश राणा ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय ने 30 अगस्त को सुपर एमराॅल्ड के ट्विन टावर को 30 नवंबर से पहले गिराने के आदेश दिए थे। लेकिन अभी तक यह भी तय नहीं हो सका है कि इन टावरों को गिराया किस तरीके से जाएगा। यह टावर कब तक गिरेंगे इसके ऊपर कोई स्थिति स्पष्ट नहीं है। उन्होंने बताया कि पिछले 3 महीने से नोएडा प्राधिकरण ने एक बार भी आरडब्ल्यूए को इस मामले में कोई जवाब नहीं दिया है। सोमवार को आरडब्ल्यूए ने नोएडा प्राधिकरण को एक पत्र भेजा है। जिसमें पूछा गया है कि यह ट्विन टावर आखिर कब तक और कैसे गिराया जाना है। 

660 परिवारों को सता रही हो यह चिंता 
आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष ने बताया कि सोसाइटी में इन दो टावरों के अलावा और भी 15 टावर हैं। इन 15 टावरों में 660 परिवार रहते हैं। इन 15 टावरों में रहने वाले सभी परिवार के सदस्य काफी परेशान हैं। उन्हें यह चिंता सता रही है कि जब ट्विन टावर को गिराया जाएगा तो उससे उनके टावरों पर कितना असर पड़ेगा। लेकिन इस बारे में उन्हें कोई भी जानकारी नहीं मिल पा रही है। वह प्राधिकरण से कई बार मांग कर चुके हैं, की जो टीम ट्विन टावर को गिराने के लिए बनाई जा रही है उसमें आरडब्ल्यूए को शामिल किया जाए। 

प्राधिकरण ने जारी किया बिल्डर को नोटिस 
सुपरटेक ने टावर गिराने का कोई भी एक्शन प्लान प्राधिकरण में जमा नहीं किया है। जिसके लिए प्राधिकरण कई बार बिल्डर को नोटिस भेज चुका है और प्राधिकरण ने सुप्रीम कोर्ट में भी जवाब देने की तैयारी कर ली है। प्राधिकरण बिल्डर के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में रिपोर्ट प्रस्तुत करेगा। एसीईओ नेहा शर्मा ने बताया कि रिपोर्ट में बताया जाएगा कि बिल्डर ने ट्विन टावर को गिराने के नाम पर किस तरह की लापरवाही बरती हैं। बिल्डर ने न्यायालय के आदेश को भी गंभीर रूप से नहीं लिया है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.