चाइल्ड पीजीआई में दिन निकलते ही हंगामा शुरू, नर्सिंग स्टाफ से किया काम करने से मना, मरीज परेशान

NOIDA BREAKING : चाइल्ड पीजीआई में दिन निकलते ही हंगामा शुरू, नर्सिंग स्टाफ से किया काम करने से मना, मरीज परेशान

चाइल्ड पीजीआई में दिन निकलते ही हंगामा शुरू, नर्सिंग स्टाफ से किया काम करने से मना, मरीज परेशान

Tricity Today | नर्सिंग स्टाफ ने किया प्रदर्शन

चाइल्ड पीजीआई में दिन निकलते ही हंगामा शुरू, नर्सिंग स्टाफ से किया काम करने से मना, मरीज परेशान Noida : सेक्टर-30 स्थित चाइल्ड पीजीआई में स्टाफ नर्स की सेवा समाप्त करने के विरोध में नर्सिंग स्टाफ ने हंगामा किया। काम बंद कर निदेशक के कक्ष का घेराव किया। नर्सिंग स्टाफ को वापस नौकरी पर रखने की मांग कर रहे हैं। जिसके कारण इलाज करवाने के लिए आने वाले मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। क्या है पूरा मामला
सेक्टर-30 में स्थित चाइल्ड पीजीआई में एक संविदा कर्मी स्टाफ नर्स सुरेंद्र बोरा को नौकरी से निकालने का मामला सामने आया है। पत्नी के बीमार होने पर सुरेंद्र 4 दिन की छुट्टी लेकर घर गए थे। इसके लिए सुरेंद्र ने वार्ड नर्सिंग इंचार्ज और चीफ नर्सिंग ऑफिसर को मेल किया था। 16 सितंबर को सुरेंद्र सुबह की ड्यूटी करके घर राजस्थान गए थे। इसके बाद 21 सितंबर को सुरेंद्र ने आकर नाइट ड्यूटी की। 22 सितंबर को सुबह उन्हें निष्कासित करने का नोटिस जारी कर दिया गया। सुरेंद्र ने बताया कि संस्थान के निदेशक ने उन्हें बुलाकर डांट लगाई। उनकी कोई बात नहीं सुनी। बिना जांच कमेटी के निष्कासित करने का निर्देश जारी कर दिया। 

चाइल्ड पीजीआई के स्टाफ में भारी रोष
सेक्टर-30 चाइल्ड पीजीआई में सुरेंद्र बोरा नाम के स्टाफ नर्स पिछले 4 साल से काम कर रहे हैं। सुरेंद्र ने बताया कि वह उन्होंने कोविड के दौरान सेक्टर-39 में बने कोविड अस्पताल में काम किया है। चाइल्ड पीजीआई में भी लगातार मरीजों की सेवा की है। पत्नी की हालत ज्यादा बिगड़ गई थी, इसलिए छुट्टी लेकर मजबूरी में घर जाना पड़ा। इसका नतीजा यह हुआ कि उनको नौकरी से निकाल दिया गया। नर्सिंग यूनियन और एसएसपीएच पीजीटीआई कर्मचारी संघ, गौतमबुद्ध नगर की ओर से गुरुवार को एक मीटिंग हुई। मीटिंग में तय हुआ कि स्टाफ नर्स के निकाले जाने के विरोध में अन्य कर्मचारी काला फीता बांधकर काम करेंगे और अपना विरोध दर्ज कराएंगे।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.