तीसरी लहर से निपटने की तैयारी तेज, प्रशिक्षित किए जा रहे रेजिडेंट डॉक्टर

प्रयागराज: तीसरी लहर से निपटने की तैयारी तेज, प्रशिक्षित किए जा रहे रेजिडेंट डॉक्टर

तीसरी लहर से निपटने की तैयारी तेज, प्रशिक्षित किए जा रहे रेजिडेंट डॉक्टर

Google Image | प्रतीकात्मक तस्वीर

तीसरी लहर से निपटने की तैयारी तेज, प्रशिक्षित किए जा रहे रेजिडेंट डॉक्टर कोरोना महामारी की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए अस्पतालों में तैयारी लगभग पूरी होने को है। तीसरी लहर से पहले करीब 500 डॉक्टर बाल रोग विशेषज्ञ पीडियाट्रिक के रूप में तैयार कर लिए जाएंगे। इस बार आफत बच्चों पर आने की आशंका के चलते स्वास्थ्य विभाग पूरी तैयारी कर रहा है। कई दूसरे विभागों के डॉक्टरों को स्थानीय स्तर पर आनलाइन और ऑफलाइन ट्रेनिंग देकर उन्हें पीआईसीयू और आइसोलेशन वार्ड में काम करने के तरीके बताए जा रहे हैं। एसआरएन अस्पताल में पीआईसीयू वार्ड में सुविधाएं पूरी तरह से तैयार कर ली गई हैं।

कोरोना की दूसरी लहर में जिस तरह से अचानक संक्रमितों की संख्या काफी तेजी से बढ़ी थी। उससे स्वास्थ्य विभाग भी हड़बड़ी में आ गया था। प्रयागराज में करीब छः अस्पतालों में बच्चों के उपचार के लिए पीआईसीयू वार्ड बनाये जा रहे हैं वहां सभी बेड़ पर आक्सीजन की व्यवस्था रहेगी। इसके लिए पीडियाट्रिक प्रशिक्षित डाक्टरों की टीम तैयार की जा रही है ताकि कोरोनावायरस से मजबूती लड़ा जा सके। लखनऊ के एसजीपीजीआई के मास्टर ट्रेनर डॉक्टरों को ऑनलाइन प्रशिक्षित कर रहे हैं। सरोजिनी नायडू बाल रोग चिकित्सालय प्रयागराज (चिल्ड्रेन अस्पताल) के सीनियर डॉक्टरों ने भी दूसरे अन्य विभाग के डाक्टरों को ऑफलाइन प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया है। आनलाइन माध्यम से डॉक्टरों को प्रशिक्षण समय पर दे पाना मुश्किल है। इसलिए स्थानीय स्तर पर भी रेजिडेंट डॉक्टरों को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के सभी विभागों से पांच पांच रेजिडेंट डॉक्टरों को प्रशिक्षण दिया जा रहा हैं। पीडियाट्रिक वार्ड में बच्चों के बीच कैसे काम करेंगे। बच्चें में कोरोना के लक्षण, बाईपेप या वेंटिलेटर और आक्सीजन डिवाइस के इस्तेमाल के बारे बताया जा रहा है। हालांकि प्रशिक्षण में अभी कुछ वक्त और लगेगा। मामला बच्चों को इलाज के साथ उन्हें अपनों जैसा स्नेह देने का है। इसके अलावा सिस्टर्स की ट्रेनिंग भी होगी। एसआरएन अस्पताल में बच्चों के इलाज की सुविधा के साथ घर जैसा माहौल देने के लिए वार्ड में कार्टून की बाल पेंटिंग की जायेगी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.