निचली अदालत ने आनंद गिरि और आद्या प्रसाद तिवारी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा जेल

प्रयागराज : निचली अदालत ने आनंद गिरि और आद्या प्रसाद तिवारी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा जेल

निचली अदालत ने आनंद गिरि और आद्या प्रसाद तिवारी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा जेल

Social Media | आनंद गिरि

निचली अदालत ने आनंद गिरि और आद्या प्रसाद तिवारी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा जेल Prayagraj : अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरि की प्रयागराज में श्री मठ बाघम्बरी गद्दी में सोमवार को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। इस घटना में नामजद लोगों में उनके शिष्य आनंद गिरि और लेटे हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। इनको बुधवार को जिला अदालत में सीजेएम हरेंद्र नाथ की कोर्ट में पेश किया गया। वहाँ सुरक्षा के मद्देनजर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। शिष्य आनंद गिरि और आद्या तिवारी दोनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजने का आदेश निचली अदालत ने दिया। पुलिस फोर्स इन्हें अब नैनी सेंट्रल जेल लेकर जा रही है।

तीनों आरोपित नामजद हैं धारा 306 के तहत
महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत के बाद सोमवार की रात लेटे बड़े हनुमान मंदिर के व्यवस्थापक महंत अमर गिरि से मिली तहरीर के आधार पर जार्जटाउन थाने में आनंद गिरि आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी के खिलाफ आइपीसी की धारा 306 के तहत आत्महत्या के लिए मजबूर करने का नामजद केस लिखा गया था। अब इस घटना की जांच 18 सदस्यीय स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) कर रही है। जार्जटाउन थाने की पुलिस ने कई थानों की पुलिस फोर्स के साथ दोनों को बेली अस्पताल ले जाकर मेडिकल परीक्षण कराया। उसके बाद आनंद गिरि और पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी को जिला अदालत में सीजेएम हरेंद्र नाथ की कोर्ट में पेश किया गया। इस पर कोर्ट ने कुछ देर की सुनवाई के बाद जमानत अर्जी को खारिज कर दिया। आनंद गिरि और आद्या तिवारी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजने का आदेश दिया।

शिष्य आनंद गिरि को हरिद्वार से किया गया था गिरफ्तार
निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेंद्र गिरि के सबसे प्रिय शिष्यों में रहा आनंद गिरि अब पुलिस की हिरासत में हैं। सोमवार की शाम शहर के अल्लापुर में स्थित श्री मठ बाघम्बरी गद्दी में महंत नरेंद्र गिरि का शव कमरे में फंदे से लटकता मिला था। वहाँ पर सुसाइड नोट मिलने पर पुलिस ने तुरंत एक्शन लेना शुरू कर दिया। सुसाइड नोट में लिखा था कि आत्महत्या के लिए विवश करने के जिम्मेदार लोगों में आनंद गिरि लेटे हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी और उसके पुत्र संदीप तिवारी हैं। सबसे पहले शिष्य आनंद गिरि को यूपी पुलिस ने हरिद्वार जाकर पकड़ा था।प्रयागराज लाकर पुलिस अधिकारियों ने उससे कई घंटे तक घटना के बारे में लगातार पूछताछ की। इसके अलावा हनुमान मंदिर पुजारी आद्या तिवारी को भी सोमवार की रात में ही हिरासत में ले लिया गया था। फिर उसके बाद उनके बेटे संदीप तिवारी को पुलिस ने पकड़ लिया। उन दोनों से भी पुलिस ने अलग-अलग पूछताछ की।

महंत हरि गिर ने बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी मानने से किया इन्कार
प्रयागराज में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने महंत बलवीर गिरि को श्री मठ बाघम्बरी गद्दी का अध्यक्ष मामने से इनकार कर दिया है। अखाड़ा परिषद के महामंत्री महंत हरि गिरि ने कहा कि जब सुसाइड नोट ही फर्जी तो बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी मानने का सवाल ही नहीं होता। इसके बाद पंच परमेश्वर की बैठक स्थगित हो गई। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में सुसाइड नोट में जिम्मेदार ठहराए जाने के बाद गिरफ्तार किए गए योग गुरु आनंद गिरि को अब नैनी सेंट्रल जेल के सिक्योरिटी बैरक कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में रखा गया है। इसी मामले में आरोपी लेटे हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी रहे आद्या प्रसाद तिवारी को भी सेंट्रल जेल की सिक्योरिटी बैरक में रखा गया है। हालांकि आनंद गिरी और आद्या प्रसाद दोनों को अलग-अलग बैरकों में रखा गया है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.