जया एकादशी : घर और मकान पर कब्जा नहीं मिल रहा तो इंतजार हुआ खत्म, 81 वर्ष बाद एकादशी पर बना ग्रहों का विशेष संयोग, इन लोगों को विशेषतौर पर होगा लाभ

घर और मकान पर कब्जा नहीं मिल रहा तो इंतजार हुआ खत्म, 81 वर्ष बाद एकादशी पर बना ग्रहों का विशेष संयोग, इन लोगों को विशेषतौर पर होगा लाभ

Google Image | Jaya Ekadashi

जया एकादशी पर इस बार ग्रहों का विशेष संयोग बन रहा है। ज्योतिषाचार्य की माने तो ग्रहों के इस सहयोग की वजह से बुध और गुरु ग्रह के साथ शनि ग्रह भी जातकों पर विशेष कृपा बरसा रहा है। 81 वर्ष बाद एकादशी पर बने इस सहयोग की वजह से ऐसे लोगों को विशेष तौर पर लाभ होगा जो लंबे समय से अड़चनों का सामना कर रहे हैं।

ज्योतिषाचार्य कर्मकांड विशेषज्ञ पंडित संतोष जी पाधा ने जानकारी दी कि इस बार मंगलवार को मनाई जाने वाली एकादशी पर ग्रहों की विशेष अनुकंपा है। एकादशी पर्व पर बुध ग्रह, गुरु ग्रह और शनि ग्रह मकर राशि में मौजूद है। सूर्य और शुक्र कुंभ राशि में मौजूद है। मंगल ग्रह और राहु वृष राशि में स्थित है। ग्रहों की यह विशेष स्थिति ऐसे जातकों के लिए लाभकारी सिद्ध होती है जो लंबे समय से अपनी ही चल अचल संपत्ति को हासिल करने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं। जया एकादशी शास्त्रों में विजय दिलाने वाली एकादशी मानी जाती है। ऐसी मान्यता है कि जब 3 या 3 से अधिक ग्रह एक ही राशि में मौजूद है और उस पर एकादशी पर्व विराजमान है तो ऐसे जातकों को सीधा लाभ होता है जो संपत्ति हासिल करने जैसी समस्या का लंबे समय से समाधान की तलाश कर रहे हो।

बुध और गुरु ग्रह के साथ शनि हुआ महत्वपूर्ण : एकादशी पर्व पर इस बार मकर राशि में बुध और गुरु ग्रह के साथ शनि ग्रह भी मौजूद है। बुद्धि विवेक के साथ शौर्य का होना एकादशी पर्व को महत्वपूर्ण बना रहा है। ऐसी स्थिति में एकादशी पर्व पर किया गया छोटा सा उपाय संपत्ति और धन संबंधी समस्याओं का सीधे तौर पर समाधान करता है।

प्रॉपर्टी संबंधी समस्या : ऐसे जातक जो लंबे समय से खुद की प्रॉपर्टी को हासिल करने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं वह मंगलवार को एकादशी पर्व पर प्रभु कृष्ण को लाल फूल चढ़ाएं शनि की अपार अनुकंपा की वजह से लाभ हासिल होगा।

चावल से करें परहेज : शास्त्रों के अनुसार एकादशी पर्व पर चावल खाना पूरी तरह से वर्जित माना गया है। इसी तरह तामसिक भोजन को भी एकादशी पर्व पर ग्रहण करने की अनुमति शास्त्रों की ओर से नहीं दी जाती है। ऐसे में भक्तों को एकादशी पर्व पर चावल और तामसिक भोजन करने से परहेज करना चाहिए।

पूरी नहीं हो रही योजनाएं : ऐसे जातक जो व्यापार संबंधी प्लानिंग लंबे समय से कर रहे हैं और वह पूरी नहीं हो पा रही है तो वह एकादशी पर्व पर प्रभु कृष्ण को मिश्री और माखन का भोग चलाएं योजनाएं संबंधी बाधाएं दूर होंगी।

चल संपत्ति संबंधी समस्याएं : यदि चल संपत्ति संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो एकादशी पर्व पर प्रभु कृष्ण को तुलसी दल चढ़ाएं लगातार लंबे समय से आ रही समस्याएं दूर होंगी।

धन संबंधी समस्या : यदि धन संबंधी समस्या से लंबे समय से परेशान हो रहे हैं तो एकादशी पर्व पर प्रभु कृष्ण को पीला चंदन लगाएं। उसी चंदन से खुद के माथे पर भी तिलक करें तो धन संबंधी चली आ रही समस्याओं से छुटकारा हासिल होगा।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.