अधिवक्ता सुसाइड मामले में नया पेंच, एक आरोपी का शव पेड़ से लटका मिला, गुत्थी सुलझाने में जुटी पुलिस

मेरठः अधिवक्ता सुसाइड मामले में नया पेंच, एक आरोपी का शव पेड़ से लटका मिला, गुत्थी सुलझाने में जुटी पुलिस

अधिवक्ता सुसाइड मामले में नया पेंच, एक आरोपी का शव पेड़ से लटका मिला, गुत्थी सुलझाने में जुटी पुलिस

Social Media | मौके पर पुलिस और ग्रामीण

अधिवक्ता सुसाइड मामले में नया पेंच, एक आरोपी का शव पेड़ से लटका मिला, गुत्थी सुलझाने में जुटी पुलिस उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में संजय मोतला नाम के एक व्यक्ति ने बुधवार की देर रात सुसाइड कर लिया। इससे इलाके में सनसनी फैल गई है। उसने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। उसका शव गुरुवार की सुबह घर के बाहर एक पेड़ से लटका मिला। दरअसल मेरठ के एक दूसरे अधिवक्ता के सुसाइड केस में संजय और भाजपा के विधायक सहित 14 लोग नामजद हैं। बताया जा रहा है कि संजय की आत्महत्या से कुछ देर पहले ही पुलिस ने उसके घर दबिश दी थी। इस आत्महत्या के बाद अधिवक्ता ओंकार सिंह की मौत का मामला और पेंचीदा होता जा रहा है। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। शव को उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। 

पुलिस के अधिकारी ने इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दौराला थानाक्षेत्र निवासी संजय का शव पेड़ पर लटका मिला है। इसकी भनक लगते ही सैकड़ों ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। भीड़ शव को पेड़ से नहीं उतारने दे रही थी। लोगों का कहना था कि पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। उसके बाद ही शव को नीचे उतारने दिया जाएगा। ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए शहर से पुलिस बल मौके पर भेजा जा रहा है। वरिष्ठ अधिकारी भी दौराला पहुंच गए। उसके बाद ही शव को नीचे उतार कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया।

अधिवक्ता के सुसाइड मामले में लगे थे आरोप
दरअसल संजय मोतला की पत्नी, भाभी और मां पहले से ही गंगानगर पुलिस की हिरासत में हैं। संजय इस वजह से डिप्रेशन में था। पुलिस का कहना है कि इसी के चलते उसने फांसी लगाकर जान दे दी। संजय अधिवक्ता ओंकार तोमर की आत्महत्या के मामले में आरोपी था। पुलिस ने अधिवक्ता की सुसाइड़ से जुड़े सभी सीसीटीवी फुटेज जुटा लिया है। ईशापुरम स्थित अधिवक्ता के घर परिजनों और स्थानीय लोगों की उपस्थिति में पुलिस ने सीसीटीवी प्रदर्शित किया। इससे ओंकार के कई आरोप सही पाए गए। 

संजय को भी बताया था दोषी
ओंकार ने उनकी सुसाइड के लिए स्थानीय भाजपा विधायक, संजय मोतला समेत 14 लोगों को दोषी बताया था। पुलिस ने फुटेज कब्जे में ले लिया है। इसमें उनके सुसाइड का पूरा घटनाक्रम कैद है। फुटेज से पता चलता है कि गत शनिवार की सुबह 10:14 बजे अधिवक्ता ने फांसी लगानी शुरू की। सिर्फ दो मिनट में उन्होंने अपनी जान दे दी। इस वीभत्स हादसे के देख कर उनके परिजनों का बुरा हाल था। 

अधिवक्ता के हॉस्पिटल पहुंचने का वीडियो वायरल
सुसाइड अटेम्पट के बाद परिजन अधिवक्ता ओंकार सिंह को रक्षापुरम स्थित एप्सनोवा हॉस्पिटल लेकर पहुंचे। पर पुलिस की एफआइआर में इसका जिक्र नहीं किया गया है। बुधवार को उनके हॉस्पिटल की वीडियो भी वायरल हो गई। एफआइआर में बताया गया है कि अधिवक्ता ने 9:30 बजे फांसी लगाकर जान दी। इसकी जानकारी उन्होंने गंगानगर पुलिस को दी। हॉस्पिटल की वीडियो वायरल होने के बाद गंगानगर पुलिस हरकत में आई। हॉस्पिटल प्रबंधंन से इस संबंध में जानकारी जुटाई जा रही है। 
 
ओंकार सिंह की मौत का मुझे बेहद दुख है। मुश्किल की इस घड़ी में मैं पीड़ित परिवार के साथ हूं। परिजनों को मुआवजा दिया जाएगा। ओंकार के बेटे लव कुमार और उनकी पत्नी स्वाति के समझौते में मेरे अलावा पांच अन्य अधिवक्ता भी मौजूद थे। इनमें से चार ओंकार सिंह की पक्ष से थे। एक लड़की पक्ष से थे। मुकदमे में 13 लोगो को नामजद किया गया है। पूरे घटनाक्रम की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए। इस संबंध में प्रशासन से बात करूंगा। 
- दिनेश खटीक, भाजपा विधायक

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.