माधोपुर की रामलीला के कलाकार बॉलीवुड में मचाएंगे धमाल, सीएम पुष्कर धामी ने रिलीज किया सॉन्ग

Uttar Pradesh : माधोपुर की रामलीला के कलाकार बॉलीवुड में मचाएंगे धमाल, सीएम पुष्कर धामी ने रिलीज किया सॉन्ग

माधोपुर की रामलीला के कलाकार बॉलीवुड में मचाएंगे धमाल, सीएम पुष्कर धामी ने रिलीज किया सॉन्ग

Tricity Today | सीएम पुष्कर धामी कलाकारों के साथ

माधोपुर की रामलीला के कलाकार बॉलीवुड में मचाएंगे धमाल, सीएम पुष्कर धामी ने रिलीज किया सॉन्ग
  • - 'जान अभी बाकी है' फिल्म निर्माण में जुटे हैं रामलीला के पूर्व कलाकार
  • - लेखक, गीतकार, निर्माता और निर्देशक माधोपुर की रामलीला में निभा चुके भूमिकाएं
  • - 'मुनि' से अभिनय शुरू करने वाले डॉ इंद्रजीत मिश्र ने लिखी है कहानी, यही हैं गीतकार 
  • - श्रीराम का अभिनय कर चुके सत्यजीत ने फिल्म का किया है निर्देशन
  • - उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी ने फिल्म के गीत को किया है रिलीज
Uttar Pradesh News : कुशीनगर के कसया विकास खंड के माधोपुर के ग्रामीण कलाकारों ने वर्ष 1840 में श्रीरामलीला का मंचन गांव के दर्शकों के बीच शुरू किया था। तब किसी को पता नहीं था कि यहां के मंझे हुए कलाकारों की धमक एक दिन बालीवुड में होगी। 'जान अभी बाकी है' फिल्म से इसका आगाज हो चुका है। फिल्म के लेखक, गीतकार, निर्माता से लगायत निर्देशक तक, माधोपुर की रामलीला में अलग-अलग भूमिकाएं निभा चुके पूर्व कलाकार ही हैं। पूर्वजों द्वारा शुरू हुई इस परम्परा से जुड़े कलाकारों ने बालीवुड में झंडा गाड़ दिया है। उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी इसके साक्षी हैं। इन्होंने ही फिल्म के पहले गाने को रिलीज किया है।

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले की माधोपुर की रामलीला में 'मुनि' की भूमिका से अभिनय की शुरुआत करने वाले डॉ इंद्रजीत मिश्र ने न सिर्फ रामलीला का निर्देशन किया बल्कि छोटी उम्र में पिता के साथ खेती में हाथ बंटाते हुए लेखन और गीतकार बनने के सपने बुनने लगे थे। कई नाटकों का लेखन और निर्देशन करते हुए यह बालीवुड तक आ पहुंचे हैं। इनकी लिखी कहानी पर अब 'जान अभी बाकी है' फिल्म रिलीज हो रही है। फिल्म के सभी गीत भी डॉ इंद्रजीत मिश्र के ही हैं। माधोपुर की रामलीला में श्रीराम की भूमिका निभाने वाले सत्यजीत इसके निर्देशक हैं तो लक्ष्मण की भूमिका की यादगार पारी खेलने वाले धर्मजीत फिल्म के निर्माताओं में से एक हैं।

क्या कहते है निर्देशक
निर्देशक सत्यजीत कहते हैं कि सिनेमा, सामाजिक परिवर्तन का एक व्यापक माध्यम है। फिल्म के माध्यम से समाज को सकारात्मक दिशा में बढ़ाया जा सकता है। इसी सोच के साथ 'जान अभी बाकी है' का निर्माण हो रहा है। व्यावसायिक सिनेमा की परिधि में यह एक युगांतकारी और प्रयोगात्मक फिल्म है। यह समसामयिक वैश्विक मुद्दे की तरफ पूरी दुनिया को ध्यानाकर्षित करने में सक्षम होगी।

 क्या कहते हैं कहानीकार
फिल्म के गीतकार और कहानीकार डॉ इंद्रजीत मिश्र कहते हैं। बालमन में कहानियां गढ़ता था। रामलीला के निर्देशन के वक़्त ही सिनेमा के क्षेत्र में कुछ बड़ा करने की अभिलाषा जगी। विद्यार्थी जीवन से ही नाटकों का लेखन शुरू कर दिया। मंचन भी कराया। अध्यापन काल में हाहाकार, वीरों का वसन्त, आजादी के फरिश्ते, सावधान कर्फ्यू है, तकदीर बनाने वाले तुम, बहिष्कार जैसे नाटक लिखे और मंचन कराया। अब फिल्म में काम करने का सपना पूरा हो रहा है। इस फिल्म का एक गाना 'मेरा भारत महान है' को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने रिलीज किया है।

कार्यकारी निर्माता बोले
फिल्म के कार्यकारी निर्माता धर्मजीत बताते हैं कि रामलीला में अभिनय ने बहुत कुछ सिखाया। अब उसका लाभ मिल रहा है। फिल्म का निर्माण आईजेएम प्रोडक्शन प्राइवेट लिमिटेड के बैनर तले हो रहा है।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.