भाजपा झोंकेंगी ताकत, सीएम, दोनों डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष करेंगे प्रचार, मैदान में उतरी नेताओं की फौज

खतौली उपचुनाव : भाजपा झोंकेंगी ताकत, सीएम, दोनों डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष करेंगे प्रचार, मैदान में उतरी नेताओं की फौज

भाजपा झोंकेंगी ताकत, सीएम, दोनों डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष करेंगे प्रचार, मैदान में उतरी नेताओं की फौज

Google Image | Symbolic Photo

भाजपा झोंकेंगी ताकत, सीएम, दोनों डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष करेंगे प्रचार, मैदान में उतरी नेताओं की फौज Khatauli : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले की खतौली विधानसभा सीट (Khatauli Assembly Constituency) के लिए उपचुनाव करवाया जा रहा है। इसी साल हुए विधानसभा चुनाव के दौरान यहां से भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janata Party) के विक्रम सैनी लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए थे। मुजफ्फरनगर दंगों में उन्हें दोषी ठहराते हुए एमपी-एमएलए कोर्ट ने 2 साल की सजा सुना दी थी। जिसके चलते उन्हें अयोग्य और खतौली विधानसभा सीट को खाली घोषित कर दिया गया। अब यहां उपचुनाव करवाया जा रहा है। 5 दिसंबर को मतदान होगा। इस सीट को एक बार फिर जीतने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने पूरी ताकत झोंक दी है।

सीएम, दोनों डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष करेंगे प्रचार
भारतीय जनता पार्टी से मिली जानकारी के मुताबिक खतौली विधानसभा उपचुनाव में प्रचार करने के लिए 26 नवंबर को उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य आएंगे। इसके बाद 28 नवंबर को उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी आएंगे। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक 29 और 30 नवंबर को खतौली इलाके में प्रचार करेंगे। आखिर में 2 दिसंबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दौरा होगा। इस सीट के लिए 5 दिसंबर को मतदान करवाया जाएगा। इस बीच भारतीय जनता पार्टी के तमाम दिग्गज नेता और राज्य सरकार के मंत्री खतौली पहुंच रहे हैं। भाजपा के तमाम सांसद और कद्दावर विधायक भी अपनी-अपनी बिरादरी के मतदाताओं को लुभाने के लिए कोशिशों में जुटे हैं।

सपा-रालोद गठबंधन की भाजपा को मजबूत चुनौती
खतौली विधानसभा सीट से सपा-रालोद गठबंधन चुनाव मैदान में है। बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस के उम्मीदवार यहां से चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। सपा-रालोद गठबंधन ने भारतीय जनता पार्टी को कड़ी चुनौती दी है। गाजियाबाद के लोनी सीट से पूर्व विधायक मदन भैया को गठबंधन ने मैदान में उतारा है। मदन भैया गुर्जर बिरादरी से ताल्लुक रखते हैं। खतौली विधानसभा सीट पर जाट और गुर्जर मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं। जाट वोटरों को लुभाने के लिए राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया जयंत चौधरी लगातार खतौली इलाके में भ्रमण कर रहे हैं। मदन भैया के पक्ष में सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव को भी खतौली बुलाया जाएगा। राष्ट्रीय लोकदल ने अपने सारे विधायकों को खतौली सीट पर प्रचार के लिए उतार दिया है।

खतौली सीट के चुनाव में मतदान से पहले आया ट्विस्ट
एक तरफ खतौली विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव चल रहा है तो दूसरी ओर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के एक मामले में अयोग्य ठहराए गए बीजेपी विधायक विक्रम सैनी की सजा पर रोक लगा दी है। इससे उपचुनाव को लेकर ऊहापोह की स्थिति पैदा हो गई है। न्यायमूर्ति समित गोपाल मामले की सुनवाई सोमवार को करेंगे। उच्च न्यायालय एमपी-एमएलए कोर्ट के उस आदेश के खिलाफ अपील पर सुनवाई कर रहा था, जिसमें खतौली के पूर्व विधायक विक्रम सैनी को दोषी ठहराया गया था।

मुजफ्फरनगर दंगों में हुई थी 60 लोगों की मौत
मुजफ्फरनगर की एक अदालत ने 11 अक्टूबर को खतौली से विधायक विक्रम सैनी और 10 अन्य को 2013 में हुए दंगों से जुड़े एक मामले में दो साल कैद की सजा सुनाई थी। कोर्ट ने हत्या के प्रयास के आरोप से सभी आरोपियों को बरी कर दिया लेकिन भड़काऊ भाषण देने के मामले में दोषी करार दिया था। आपको बता दें कि मुजफ्फरनगर के दंगे पड़ोसी जिलों में भी फैल गए थे। इसमें 62 लोग मारे गए थे और 60 हजार से अधिक लोग विस्थापित हुए थे। मुजफ्फरनगर दंगों की काली छाया अभी भी विधानसभा और लोकसभा चुनाव पर पड़ती है।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.