माघी पूर्णिमा : श्रद्धालुओं पर हुई हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा, CM Yogi Adityanath ने शेयर किया वीडियो

श्रद्धालुओं पर हुई हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा, CM Yogi Adityanath ने शेयर किया वीडियो

Tricity Today | श्रद्धालुओं पर हुई हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा

संगम नगरी प्रयागराज के विश्व प्रसिद्ध माघ मेले में गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के त्रिवेणी तट पर माघी पूर्णिमा के अवसर पर माघ मेले के पांचवें और अंतिम स्नान पर्व पर स्नान के लिए आए श्रद्धालुओं पर हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा की गई।स्नान के लिए संगम तट पर बनाए गए घाटों पर ब्रह्म मुहूर्त से ही श्रद्धालु और कल्पवासी स्नान कर दान-पुण्य कर रहे हैं और आस्था की डुबकी लगाकर कल्पवासी श्रद्धालु भी वापस अपने घर जाने की तैयारी कर रहे है।
संगम नगरी प्रयागराज के विश्व प्रसिद्ध माघ मेले में गंगा यमुना और अदृश्य सरस्वती की त्रिवेणी पर माघ मेले के आखिरी स्नान पर्व माघी पूर्णिमा पर स्नान के लिए श्रद्धालुओं और कल्पवासियों पर हेलीकॉप्टर से की गई पुष्प वर्षा से श्रद्धालु अभिभूत हैं। इसका वीडियो शेयर करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कहा कि प्रयागराज स्नान के लिए आये  श्रद्धालुओं पर पुष्प वर्षा भारतीय सनातन संस्कृति का वंदन है, संगम पर आस्था विश्वास की डुबकी सभी के लिए मंगलकारी हो। आज के दिन से संगम तीरे लगने वाला कल्पवास भी पूरा हो जाएगा जिसके चलते कल्पवासी भी आस्था की डुबकी लगाकर अपने घर वापस जाने की तैयारी कर रहे हैं। सदियों पुरानी सनातन संस्कृति की इस पहचान को कोविड-19 जैसी महामारी भी डिगा नहीं पाई।

मौनी बाबा ने लेटकर किया परिक्रमा
संगम तट पर मौनी बाबा की तपस्या देखने के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु उमड़े और मौनी बाबा से आशीर्वाद प्राप्त किया। मौनी बाबा प्रत्येक दिन इसी तरह लेटकर स्नान करने आते हैं और परिक्रमा करते हुए मेले में पहुंचते हैं। लेकिन देश के कल्याण के लिए आयोजन करते हुए उन्होंने राम जन्म भूमि के लिए आंदोलन किया और यज्ञ, अनुष्ठान भी किया। साथ ही कोरोना के खात्मे के लिए मां भगवती से प्रार्थना की और देश के कल्याण के लिए मां गंगा की खड़े होकर आराधना और आराधना के साथ हवन, पूजन भी किया। जिससे देश का कल्याण हो सभी लोग निरोग रहे, इसी तरह 30 वर्षों से मां गंगा की तपस्या अनवरत जारी है मौनी बाबा फलाहारी हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.