इंस्पेक्टर पति को हेड कांस्टेबल पत्नी की तरक्की पसंद नहीं आई, कहा- हौंडा सिटी गाड़ी में कैसे घूमती है

मेरठ : इंस्पेक्टर पति को हेड कांस्टेबल पत्नी की तरक्की पसंद नहीं आई, कहा- हौंडा सिटी गाड़ी में कैसे घूमती है

इंस्पेक्टर पति को हेड कांस्टेबल पत्नी की तरक्की पसंद नहीं आई, कहा- हौंडा सिटी गाड़ी में कैसे घूमती है

Tricity Today | इंस्पेक्टर पति को हेड कांस्टेबल पत्नी की तरक्की पसंद नहीं आई

इंस्पेक्टर पति को हेड कांस्टेबल पत्नी की तरक्की पसंद नहीं आई, कहा- हौंडा सिटी गाड़ी में कैसे घूमती है मेरठ : वैसे तो लोग अपने परिवार की तरक्की से काफी खुश होते हैं लेकिन एक व्यक्ति को अपनी पत्नी की तरक्की बिल्कुल भी पसंद नहीं आई। उसकी पत्नी आजकल होंडा सिटी गाड़ी में घूम रही है तो इस मामले की शिकायत पुलिस से कर दी और अपनी पत्नी की संपत्ति की जांच करने के लिए अपील की है। इस मामले में पति द्वारा पत्नी के खिलाफ एन्टी करप्शन टीम को शिकायत दी गई है।

7 सालों से चल रहा है विवाद
दरअसल, शामली के रहने वाले अमित कुमार इंस्पेक्टर हैं। अमित की पत्नी मीनाक्षी कोऑपरेटिव सहायता प्रकोष्ठ में हेड कांस्टेबल हैं। मीनाक्षी अपने बच्चों के साथ सिविल लाइन क्षेत्र में मानसरोवर कॉलोनी में रहती हैं। पति अमित कुमार और पत्नी मीनाक्षी का पिछले 7 सालों से विवाद चल रहा है। इस विवाद के दौरान काफी बार पति और पत्नी ने एक दूसरे पर काफी बार आरोप लगा चुके है। अब अमित कुमार ने एक बार फिर अपनी पत्नी मीनाक्षी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं।

पति ने पत्नी के खिलाफ दी शिकायत
अमित कुमार ने अपनी पत्नी मीनाक्षी पर आरोप लगाते हुए कहा है कि वह हेड कॉन्स्टेबल है। उसके बावजूद भी होंडा सिटी गाड़ी से घूमती है। इसके अलावा उसके पास एक फ्लैट भी है। जो काफी महंगा है। इसको लेकर एंटी करप्शन शिकायत दी है। उन्होंने पति पत्नी की संपत्ति की जांच करवाने की अपील की है।

 मीनाक्षी ने दी सफाई
इस मामले में मीनाक्षी का कहना है कि, "मैं न तो थानेदार और ना किसी मुकदमे की विवेचना करती हूं। मेरे पास भ्रष्टाचार का पैसा कहां से आ गया। मेरे पति अमित कुमार ने साजिशन मुझ पर मुकदमा कराया है। जिस फ्लैट में मैं रहती हूं, बैनामे में पति द्वारा 10 लाख रुपये देने के प्रमाण मेरे पास हैं। जितनी संपत्ति मेरे पास है, इसके सारे सबूत मैं एंटी करप्शन को देने को तैयार हूं। इस संबंध में कई बार मैंने एंटी करप्शन में जाकर स्पष्टीकरण भी दिया है। इसके बावजूद मेरे खिलाफ केस दर्ज कराया। मेरी ड्यूटी कई सालों से कोऑपरेटिव सहायता प्रकोष्ठ में है।"

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.