राजकीय श्रमिक दिवस के उपलक्ष में लगाया कानूनी जागरूकता शिविर, श्रमिक कानूनों के बारे में दी जानकारी

Gurugram : राजकीय श्रमिक दिवस के उपलक्ष में लगाया कानूनी जागरूकता शिविर, श्रमिक कानूनों के बारे में दी जानकारी

राजकीय श्रमिक दिवस के उपलक्ष में लगाया कानूनी जागरूकता शिविर, श्रमिक कानूनों के बारे में दी जानकारी

Tricity Today | जानकारी देते डीएलएसए के टीम मेंबर

राजकीय श्रमिक दिवस के उपलक्ष में लगाया कानूनी जागरूकता शिविर, श्रमिक कानूनों के बारे में दी जानकारी Gurugram : जिला विधिक सेवा प्राधिकरण गुरुग्राम ने शनिवार को "राजकीय श्रमिक दिवस" के उपलक्ष में एक दिवसीय कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में किया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण गुरुग्राम के चेयरमैन एवं जिला सत्र न्यायाधीशसूर्य प्रताप सिंह के निर्देशानुसार है कार्यक्रम। सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ललिता पटवर्धन के मार्गदर्शन में यह आयोजन किया गया। 

विभिन्न समस्याओं के समाधान हेतु दी जानकारी 
सेक्टर 29 स्थित लेजरवैली ग्राउंड में आयोजित उपरोक्त जागरूकता शिविर में डीएलएसए के टीम मेंबर ने हजारों लोगों को कानूनी जागरूकता और श्रमिक साक्षरता के विभिन्न समस्याओं के समाधान हेतु उन्हें श्रमिक कानूनों के पहलुओं की जानकारी दी। इस अवसर पर श्रमिकों के वेतन मे कटौती, समय पर बोनस भुगतान ना देना, मजदूरी संदाय अधिनियम, औद्योगिक विवाद अधिनियम, ईएसआई के तहत मिलने वाले लाभ, पीएफ कटौती और उसके तहत पेंशन के प्रावधान, ई डी एल आई स्कीम के तहत श्रमिक  इंश्योरेंस, किसी श्रमिक के साथ दुर्घटना होने पर और उसके असमय मृत्यु के कारण उसके परिवार को मिलने वाले लाभों के बारे में बहुत श्रमिकों ने सवाल उठाएं। 

हरियाणा सरकार मुख्यमंत्री रहे मुख्यातिथि 
उक्त कार्यक्रम में माननीय मुख्यमंत्री हरियाणा सरकार मुख्य अतिथि रहे जिससे हरियाणा के विभिन्न जिलों से श्रमिकों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया और कानूनी जिज्ञासाओं को शांत करने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा गठित टीम ने अपना महत्वपूर्ण योगदान निभाया।

कार्यक्रम के दौरान पूछा गया यह एहम सवाल 
इस कार्यक्रम के तहत सबसे अहम सवाल श्रमिकों के द्वारा यह पूछा गया कि गुरुग्राम एक अंतरराष्ट्रीय स्तर की औद्योगिक नगरी है, और विदेशों के श्रमिक पर काम करते हैं, यहां से श्रमिक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विदेशों में भी श्रमिक कार्य करने के लिए जा रहे हैं, जिनके साथ विदेशों में आए दिन हादसे, जालसाजी, दुर्घटनाएं होती रहती है। इस बारे में हमारे श्रमिक कानून में क्या प्रावधान है, जिससे की श्रमिक का परिवार भारत में रहते हुए मुआवजा  प्राप्त कर सके। 

"एजेंसी के मार्फत मुकदमा दर्ज कराया जा सकता है"
डॉक्टर सुजान सिंह पैनल अधिवक्ता ने इस विषय पर बताया कि जिस भारतीय एजेंसी के माध्यम से श्रमिक विदेश में कार्य करने के लिए जाता है, उस एजेंसी के मार्फत मुकदमा दर्ज कराया जा सकता है, और अंतरराष्ट्रीय कानून में भी इस विषय पर जोर दिया गया है । सुनील शर्मा पैनल अधिवक्ता ने बताया कि महिला श्रमिकों को मातृत्व प्रसूति के लाभ के तहत मिलने वाली तनख्वाह आदि की जानकारी दी।

इस अवसर पर यह लोग रहे उपस्थित 
इस अवसर पर उक्त टीम के सदस्य महेंद्र कुमार, सूरज, अनिकेत, प्रमोद गुलाटी, सलीम खान, विमला रावत, मंजू रावत के साथ गवर्नमेंट लॉ कॉलेज के प्रशिक्षु छात्र-छात्राएं कंचन वाधवा, काम्या जोशी, प्रियंका बॉस, ऐश्वर्या, आध्या सहाय, अवनी, जयंत सिंह, आयुष अरोड़ा व बेरी ठुकराल आदि मौजूद रहे।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.