चार लोगों की नृशंस हत्या पर राजनीति गरमाई, प्रियंका पहुंची गोहरी गांव परिजनों से मिलीं, कानून व्यवस्था पर उठाया सवाल

प्रयागराज : चार लोगों की नृशंस हत्या पर राजनीति गरमाई, प्रियंका पहुंची गोहरी गांव परिजनों से मिलीं, कानून व्यवस्था पर उठाया सवाल

चार लोगों की नृशंस हत्या पर राजनीति गरमाई, प्रियंका पहुंची गोहरी गांव परिजनों से मिलीं, कानून व्यवस्था पर उठाया सवाल

Tricity Today | प्रियंका गांधी

चार लोगों की नृशंस हत्या पर राजनीति गरमाई, प्रियंका पहुंची गोहरी गांव परिजनों से मिलीं, कानून व्यवस्था पर उठाया सवाल प्रयागराज के फाफामऊ थाना क्षेत्र के गोहरी गांव में एक ही परिवार के चार लोगों की नृशंस हत्या के बाद पीड़ित परिजनों से मिलने पहुंचीं कांग्रेस की महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार से मिलकर उनके साथ बातचीत की। इस घटना से परिवार दहशत में है। प्रियंका ने कहा कि आपको न्याय मिलकर रहेगा। इसके बाद मीडिया से बातचीत में प्रियंका ने कहा कि पुलिस और प्रशासन की लापरवाही से यह घटना हुई है। दबंग लोगों द्वारा लगातार इनका उत्पीड़न किया जा रहा था और पुलिस ने इन पर कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस अगर मामले में सख्ती करती तो इस तरह की निर्मम हत्या नहीं होती। 

 प्रियंका गांधी ने कहा कि यह बहुत हृदय विदारक घटना है। इस परिस्थिति में कांग्रेस पार्टी चुप कैसे रह सकती है। उन्होंने मृतकों के परिजनों को आश्वासन दिया कि वह अकेले नहीं हैं। कांग्रेस के लोग उनके साथ खड़े हैं, उन्हें न्याय दिलाकर ही रहेंगे। प्रियंका गांधी ने कहा कि आज संविधान दिवस है। न्याय संविधान का सबसे महत्वपूर्ण मूल्य है, मैं न्याय की लड़ाई के साथ हूं। प्रदेश में कानून व्यवस्था की खुलकर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। इस सरकार में गरीबों दलितों एवं वंचितों की कोई सुनवाई नहीं है। उन पर अत्याचार हो रहा है तो संविधान दिवस मनाने का क्या मतलब है। जब पीड़ित परिवार पुलिस के पास जाते थे, उन्हें भगा दिया जाता और उनका मजाक उड़ाया जाता था। पुलिस मामले को गंभीरता से नहीं लेती थी। परिजनों को परेशान किया जाता और दबंगों के द्वारा मारा पीटा जाता था। इस तरह के हादसे नहीं होने चाहिए। यदि हो रही है तो उन पर कार्रवाई होनी चाहिए।

मोहनगंज गोहरी गांव में एक ही परिवार के मजदूरी करने वाले फूलचंद पासी उनकी पत्नी बेटे और बेटी की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी गई थी। परिजनों का आरोप है कि नाबालिग बेटी के साथ गैंगरेप किया गया। इस मामले में ग्यारह लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। सभी पर हत्या दुष्कर्म और एससी एसटी एक्ट की धाराएं लगाई गई है। आईजी प्रयागराज ने लापरवाही बरतने पर इंस्पेक्टर फाफामऊ रामकेवल पटेल सहित दो अन्य पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।

गौरतलब है कि, फाफामऊ के मोहनगंज गोहरी गांव में एक ही परिवार के चार लोगों की नृशंस हत्या कर दी गई। मृतकों में फूलचंद(50), उसकी पत्नी मीनू(45), 17 वर्षीय बेटी और 13 वर्षीय बेटा शानू भी हैं। सभी के खून से लथपथ शव सुबह घर के भीतर पड़े मिले। स्वजनों ने गांव के ही एक परिवार पर जमीन रंजिश में वारदात को अंजाम देने का आरोप लगाया है। इस दौरान नाबालिक के साथ सामूहिक दुष्कर्म भी आशंका जताई जा रही है। हालांकि पुलिस कई अन्य बिंदुओं पर भी जांच में जुटी है। फाफामऊ थाना क्षेत्र के गांव में इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम मंगलवार की रात दिया गया। दो दिन तक चारों शव घर में ही पड़े रहे और किसी को इसकी भनक तक नहीं लगी। गुरुवार सुबह इसकी जानकारी मिलने पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई।

दिल दहला देने वाली इस घटना की सूचना मिलने पर आईजी और डीआईजी समेत तमाम पुलिस के आलाधिकारी पहुंचे थे। पुलिस की फॉरेंसिक टीम और डॉग स्क्वॉयड की टीम ने जांच पड़ताल की। मामले के राजफाश के लिए पुलिस की चार टीमें बनाई गई हैं, साथ ही क्राइम ब्रांच और स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) को भी लगाया गया है। पुलिस ने 11 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों ने सौंपा गया। उसके बाद परिजनों को समझा बुझाकर शव को जलाने के लिए मनाया गया। गांव में तनाव को देखते हुए फोर्स तैनात कर दी गई है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.