कोरोना जांच करने गई स्वास्थ्य टीम को ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, नवेली दुल्हन बनी विवाद का कारण

UP News: कोरोना जांच करने गई स्वास्थ्य टीम को ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, नवेली दुल्हन बनी विवाद का कारण

कोरोना जांच करने गई स्वास्थ्य टीम को ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, नवेली दुल्हन बनी विवाद का कारण

Google Image | प्रतीकात्मक फोटो

कोरोना जांच करने गई स्वास्थ्य टीम को ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, नवेली दुल्हन बनी विवाद का कारण एक तरफ लोग कोरोना की मार झेल रहे है, पूरे उत्तर प्रदेश मे कोरोना को लेकर हालात खराब है। गांव हो या शहर कोरोना की जांच अब हर जगह हो रही है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव-गांव जाकर लोगों की कोरोना जांच कर रही है। लेकिन कुछ लोगों को उनके द्वारा भलाई का काम पसंद नही आ रहा है। ऐसे ही एक मामला उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के थाना टप्पल क्षेत्र के गांव साहानगर सोरौला से आया है।

कोरोना की जांच करने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम पर गांव वालों ने हमला कर दिया और टीम के लोगों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा है। इसके अलावा जरूरी दस्तावेज भी फाड़ दिए। जांच सेंपल तोड़ते हुए समान का भी नुकसान किया है। नौबत यहां तक आ गई कि, स्वास्थ्य विभाग की टीम के सदस्यों ने गांव से भागकर अपनी जान बचाई। जबकि गांव वालों के हमले में दो स्वास्थ्यकर्मी बुरी तरह घायल हो गए। स्वास्थ्यकर्मियों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी है और रिपोर्ट दर्ज करवाई है।

एक अधिकारी ने बताया कि बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव-गांव जाकर लोगों की जांच कर रही है। इसी बीच में स्वास्थ्य विभाग की टीम साहा नगर सोरौला पहुंची थी। गांव में करीब 37 महिला और पुरुष की कोरोना जांच की सैंपलिंग भी हो गई थी। पीड़ित लैब टेक्नीशियन सौरव अत्री ने कहा कि जब गांव में कोविड टीम लोगों की जांच कर रही थी। उसी दौरान एक नवविवाहित महिला अपनी कोविड जांच कराने के लिए कोविड टीम के पास पहुंची थी। जांच कराने के दौरान महिला अपने चेहरे से घूंघट हटाने में शर्मा का रही थी, क्योंकि सामने गांव के बुजुर्ग और कुछ नवयुवक लड़के खड़े थे। इन लोगों से घबराकर उस महिला ने सैंपलिंग टीम से अपना घूंघट हटाने और अपनी सैंपलिंग कराने से मना कर दिया था।

सैंपलिंग टीम ने वहां खड़े गांव के लोगों को हटने के लिए कहते हुए कहा कि महिला घूंघट हटाने में आप लोगों के सामने हिचक रही हैं, इस वजह से महिला अपनी सैंपलिंग नहीं करा पा रही हैं। सैंपलिंग टीम द्वारा कही गई महिला के सामने से हटने की बात कही तो वहां खड़े लड़कों को बुरा लग रहा है। इसी बात को लेकर उन गांव के युवकों ने कोविड टीम पर हमला कर दिया। कोविड जांच टीम को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।

पुलिस को मामले की जानकारी दी गई है। सीएचसी प्रभारी अभिषेक शर्मा ने कहा कि डॉक्टर बृजेश कुमार चिकित्सा अधीक्षक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ने टप्पल थाने में गांव वालों पर रिपोर्ट दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है। पुलिस आरोपी युवकों और अन्य ग्रामीणों की तलाश में जुट गई है।

 

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.