Uttar Pradesh : मृतक के परिजनों से मिलने पहुंचे अखिलेश यादव की फोटो देख सोशल मीडिया को आया गुस्सा, यूजर्स ने खूब खरीखोटी सुनाई, जानें पूरा मामला

मृतक के परिजनों से मिलने पहुंचे अखिलेश यादव की फोटो देख सोशल मीडिया को आया गुस्सा, यूजर्स ने खूब खरीखोटी सुनाई, जानें पूरा मामला

Social Media | परिजनों से भेंट करते अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव शुक्रवार को जौनपुर के दौरे पर थे। वह जिले में पुलिस हिरासत में मारे गए पुजारी यादव के परिजनों से मुलाकात करने गए थे। उन्होंने राज्य सरकार को कसूरवार ठहराते हुए पुजारी यादव की मौत के लिए जिम्मेदार पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की मांग की। भेंट के दौरान कुछ ऐसा हुआ कि उनकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

तमाम यूजर्स ने अपने तरीके से उन्हें सलाह-मशविरा दिया। पूर्व मुख्यमंत्री को तरह-तरह की नसीहत मिलने लगी। शुक्रवार को वह पिछले साल 27 फरवरी को जौनपुर के पूर्व  दिवंगत विधायक ज्वाला यादव के परिजनों से भी मिले। साथ ही उन्होंने पूर्व विधायक हाजी अफजाई के घरवालों से भी भेंट की। पूर्व विधायक की 6 महीने पहले मृत्यु हो गई थी। 

पुजारी यादव के परिजनों से भेंट के बाद सपा अध्यक्ष ने कहा, "ये कितना दुःखद है कि एक पिता जिसके पुत्र के उत्तर प्रदेश पुलिस की हिरासत में मारे जाने की चर्चा है, वो सरकार से न्याय की उम्मीद खो बैठा है। न्याय के लिए सपा आख़िर तक उनके साथ लड़ेगी। भाजपा सरकार पर अब जनता का भरोसा नहीं रहा।" उन्होंने सरकार पर लोगों के साथ नाइंसाफी करने का आरोप लगाया। मगर इस दौरान सबसे ज्यादा विवादित उनकी फोटो रही, जो उन्होंने सोशल मीडिया पर शेयर की। दरअसल जब अखिलेश यादव मृतक के परिजनों से मिलने गए थे, तब उनके स्वागत-सत्कार में एक टेबल पर बिसलेरी, काजू-कतली मिठाई, बिस्किट और दूसरी कई खाद्य सामग्री रखी गई थी। सपा अध्यक्ष स्वयं कुर्सी पर बैठे थे, जबकि मृतक के परिजन जमीन पर बैठे थे। कुछ परिजन खड़े थे। लोगों को यह नागवार गुजरा। लोगों ने अखिलेश यादव को नसीहत देना शुरू कर दिया। 

हिमांशु नाम के एक यूजर ने लिखा कि, आप से थोड़ा संवेदनशील होने की उम्मीद है। दुखद है कि पीड़ित परिवार नीचे जमीन पर बैठा है, जबकि आप कुर्सी पर बैठ कर सामने टेबल पर बोतल बंद पानी और खाने पीने के सामान में व्यस्त हैं  देवेंद्र ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा है, मृतक का गमगीन परिवार जमीन पर बैठकर आंसू बहा रहा है और आप मिठाई खा रहे हैं। क्या यही समाजवाद है?

आशीष कुमार ने लिखा, नेता गरीब के हक की बात करेंगे। लेकिन गरीबों के घर भी बिसलेरी का ही पानी पिएंगे। राजू गुप्ता ने कटाक्ष करते हुए लिखा, जंग लगे हथियारों के भरोसे युद्ध नहीं जीते जाते और मातम वाले घर में मेवे नहीं चखे जाते।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.